Home » Loose Views

पैगंबर मोहम्मद साहब की शान में खूनखराबे के पीछे क्या है असली मर्ज़?

बीमारी मालूम हो, इलाज उपलब्ध हो और बन्दा करवाने को तैयार ना हो। अक्सर देखा है। अगर कोई बड़ी बीमारी या कैंसर जैसा कुछ हो तो लोग पहले तो घबरा जाते हैं।...

जानिए कैसे फिल्म ‘गोल्ड’ के बहाने भारत के गौरव को दिया गया मज़हबी रंग

देश की अविस्मरणीय स्वर्णिम विजय की ऐतिहासिक विरासत से जुड़े ऐतिहासिक तथ्यों और उनसे जुड़े महानायकों का साम्प्रदायीकरण नहीं, बल्कि मुसलमानीकरण की...

‘कांग्रेस समस्या हो गई, समस्याएं कांग्रेस हो गईं’… शरद जोशी का अनोखा व्यंग्य

कांग्रेस को राज करते करते 30 साल बीत गए। कुछ कहते हैं, 300 साल बीत गए। गलत है। सिर्फ तीस साल बीते। इन तीस सालों में कभी देश आगे बढ़ा, कभी कांग्रेस...

Category - Loose Views

Loose Top Loose Views

पैगंबर मोहम्मद साहब की शान में खूनखराबे के पीछे क्या है असली मर्ज़?

बीमारी मालूम हो, इलाज उपलब्ध हो और बन्दा करवाने को तैयार ना हो। अक्सर देखा है। अगर कोई बड़ी बीमारी या कैंसर जैसा कुछ हो तो लोग पहले तो घबरा जाते हैं। सबसे पहले...

Loose Top Loose Views

जानिए कैसे फिल्म ‘गोल्ड’ के बहाने भारत के गौरव को दिया गया मज़हबी रंग

देश की अविस्मरणीय स्वर्णिम विजय की ऐतिहासिक विरासत से जुड़े ऐतिहासिक तथ्यों और उनसे जुड़े महानायकों का साम्प्रदायीकरण नहीं, बल्कि मुसलमानीकरण की कोशिश चल रही...

Loose Views

‘कांग्रेस समस्या हो गई, समस्याएं कांग्रेस हो गईं’… शरद जोशी का अनोखा व्यंग्य

कांग्रेस को राज करते करते 30 साल बीत गए। कुछ कहते हैं, 300 साल बीत गए। गलत है। सिर्फ तीस साल बीते। इन तीस सालों में कभी देश आगे बढ़ा, कभी कांग्रेस आगे बढ़ी।...

Loose Views

देश तोड़ने के लिए मुसलमानों को मोहरा बना रही है ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’

दिल्ली में इस साल के शुरू में हुआ दंगा देश में अपनी तरह का पहला है। ऊपर से दिखने में यह भी किसी आम हिंदू-मुस्लिम दंगे जैसा ही लगता है। लेकिन दिल्ली के दंगों...

Loose Views

ये कौन लोग हैं जो चीन के हमले से खुश हैं? आस्तीन के साँपों को पहचानिए

लद्दाख के गलवान घाटी में जो हुआ वो संक्षेप में कुछ यूँ है कि जब दोनों ही सेनाओं के सीनियर अफसरों के बीच, सेना को पीछे ले जाने पर समझौता हो गया, तो कुछ भारतीय...

Loose Views

मज़दूर-मज़दूर करना बंद कीजिए! देश में और भी बहुत लोग संकट में हैं!

ऐसा लग रहा है कि देश में सिर्फ मजदूर ही रहते हैं। बाकी सब लंगड़-फंगड़ हैं? अब मजदूरों का रोना-धोना बंद कर दीजिये। मजदूर घर पहुंच गया तो उसके परिवार के पास...

Loose Views

आख़िर योगी आदित्यनाथ को बार-बार क्यों टार्गेट कर रही है कांग्रेस!

अगर देखा जाए तो बड़ी संख्या में लोग उन सभी राज्यों से वापस लौट रहे हैं जहां वे रोज़गार के सिलसिले में अपने गृह राज्यों से गए थे। उदाहरण के लिए, दिल्ली, गुजरात...

Loose Views

मुसलमानों में कैसे आई ‘अरब से शिकायत’ वाली सोच?, जानिए कारण

अरविंद केजरीवाल के करीबी और दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष जफर उल इस्लाम के बयान को लेकर विवादों का दौर जारी है। जफर उल इस्लाम ने कहा था कि “जिस दिन...

Loose Views

कन्हैया और ताहिर हुसैन पर सीएम केजरीवाल से 15 सीधे सवाल

जेएनयू देशद्रोह कांड से लेकर दिल्ली दंगों के खुलासों तक अब इस संदेह को पुख्ता आधार मिल गए हैं कि अरविंद केजरीवाल देशविरोधी ताकतों और दंगाई मानसिकता के लोगों के...

Loose Views

ये दिल्ली में बसे लाखों बांग्लादेशियों और रोहिंग्या की भी जीत है!

दिल्ली में आम आदमी पार्टी चुनाव जीत गई, लगभग पिछली बार जितने ही बहुमत के साथ। अरविंद केजरीवाल मुख्यमंत्री बनेंगे, लेकिन असली चिंता यह है कि 62 में बड़ी संख्या...

Loose Views

बिक रही BSNL के लिए क्यों आज कोई रोने वाला नहीं है!

सन 2004 में नेवी ने मेरा ट्रांसफर पोर्ट ब्लेयर में कर दिया, मुम्बई की चकाचौंध से वहां पहुंचने के बाद पता चला कि मैं तो जंगल मे पहुँच गया। लोग 9 बजे से पहले सो...

Loose Views

केजरीवाल के हाथों ठगे गए एक अमेरिकी डॉक्टर का संघर्ष

ये मुनीश रायज़ादा हैं। अमेरिका के शिकागो में रहते हैं। Neonatologist यानी नवजात बच्चों के डॉक्टर हैं। लेकिन उनका एक और परिचय है। डॉक्टर रायजादा उन लोगों में से...

Loose Views

जानिए क्यों सिर्फ ‘अधिकार’ के लिए रोते रहते हैं मुसलमान

नागरिकता संशोधन बिल कैसे हिंदुस्तान में रहने वाले मुसलमानों के खिलाफ है और वो क्यों डर रहे हैं? ये बात किसी भी समझदार इंसान की समझ में नहीं आ रही है। दरअसल...

Loose Views

जब अंबेडकर ने खोली थी वीर सावरकर से साज़िश की पोल

खुद को सेकुलर, लिबरल और वामपंथी कहने वाले लोगों की दलील है कि वीर सावरकर को भारत रत्न नहीं मिलना चाहिए, क्योंकि वो महात्मा गांधी हत्याकांड के आरोपी थे। यह और...

Loose Views

प्रियंका वाड्रा के ओपन लेटर पर यूपी वाले भइया का जवाब

मेरी प्यारी प्रियंका दीदी, आपका खुला हुआ पत्र मिला। पहले लगा कि डाकिये ने पहले ही खोलकर पढ़ लिया। फिर पता चला कि आपने खुला हुआ ही भेजा। वैसे दीदी आपने इतनी...

Loose Views

सही बताना रवीश कुमार, आप मोदी के आदमी तो नहीं?

रवीश कुमार जी का सबसे बेहतरीन काम माना जाता है बिहार विधानसभा चुनाव, जिसमें उन्होंने आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत के एक बयान को आधार बनाकर नरेंद्र मोदी का विजय...

Loose Views

एनडीटीवी के अंदर की कहानी, पूर्व पत्रकार की जुबानी

“अगर कोई “खबर” से हट कर “कुछ करना” चाहता है तो उसके लिए बाहर जाने के रास्ते खुले हुए हैं” – डॉ प्रणय रॉय की यह बात आज भी कानों में गूंजती है। ऐसे लगता है...

Loose Top Loose Views

पीएमओ की दखल और क्रांतिकारी पत्रकारिता

इन दिनों टीवी के दो बड़े पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी और रवीश कुमार अक्सर ये कहते हैं कि प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) की तरफ से चैनल के मालिकों और संपादकों के...

Loose Views

जानिए क्यों भारत के टुकड़े-टुकड़े चाहते हैं शहरी नक्सली

“भारत तेरे टुकड़े होंगे… इंशा अल्लाह… इंशा अल्लाह”… शहरी नक्सलियों का यही अरमान है। सवाल उठता है कि आखिर इनके मन में भारत के टुकड़े-टुकड़े...

Loose Views

तो क्या सुप्रीम कोर्ट में आज भी कांग्रेस की ही चलती है?

मोदी सरकार पर कांग्रेस के कुछ गंभीर आरोपों में से एक है कि वह महत्वपूर्ण संस्थाओं को नष्ट कर रही है। इन संस्थाओँ में सुप्रीम कोर्ट का नाम वह प्रमुखता से लेती...

Loose Views

क्या आप भी नक्सली हैं? जानिए इस ‘भूतपूर्व वामपंथी’ से

वामपंथी आपको कब अपनी सोच का बना देंगे आपको पता भी नहीं चलेगा। जब मैं अपनी आज से 4-5 साल पुरानी सोच देखता हूँ तो मुझे लगता है कि मैं भी एक किस्म का वामपंथी ही...

Loose Views

एनपीए पर पीएम के आरोप पर कांग्रेस चुप क्यों है?

कांग्रेस पार्टी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ लोकसभा में विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाना चाहिए। उन्हें संसद में पूछना चाहिए कि ऐसा कौन सा...

Loose Views

दलितों और पिछड़ों के विकास से किसे डर लगता है?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाल ही में दिए गए भाषणों को पढ़ने का अवसर मिला। बहुत ही सरल शब्दों में प्रधानमंत्री जी ने समझाया कि कैसे लखनऊ से गाजीपुर के बीच 23...

Loose Views

क्या कांग्रेस के इशारे पर फिर से जाग उठा है ‘कोबरा’?

कोबरा पोस्ट का स्टिंग ऑपरेशन मैंने नहीं देखा है। लेकिन जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक कई मीडिया संस्थान पैसे लेकर हिन्दुत्व का एजेंडा चलाने को तैयार हो गए।...

Loose Views

क्या अमित शाह आपके भी टीवी का एंटीना हिलाते हैं?

विवादित पत्रकार रवीश कुमार ने कुछ दिन पहले पोस्ट लिखी थी कि मेरे कार्यक्रम के दौरान टाटा स्काई पर एनडीटीवी के सिग्नल वीक आने लगते हैं। इस तरह की पोस्ट शेयर कर...

Loose Views

मोदीजी बहुत हुआ विकास, जरा हिंदुओं की भी सुनिए!

प्रिय प्रधानमंत्री जी, कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजे जब आए तो मैं बहुत खुश था, जिस तरह से आपने और आपकी पार्टी ने ये चुनावी मुकाबला लड़ा वो बेहतरीन था। लेकिन...

Loose Views

गोदी मीडिया बोलने वाले खुद सोनिया की गोदी में हैं!

पत्रकारिता को सरकार का कितना विरोध करना चाहिए, कितना समर्थन करना चाहिए, विपक्ष के प्रति उसका रवैया किन परिस्थितियों में कैसा होना चाहिए, मर्यादा का बिन्दु क्या...

Loose Top Loose Views

जानिए हिंदुओं की आस्था पर हमले के पीछे क्या खेल है

गौरी लंकेश याद है? उसकी हत्या की आड़ में हिंदू धर्म और हिंदू संगठनों को काफी बुरा भला कहा गया था। जैसे ही पता चला कि हत्यारा तो उन्हीं का आदमी है, सारे ईमान...

Loose Views

आरक्षण व्यवस्था से खुश एक ‘अगड़े’ के मन की बात

आरक्षण की वजह से ही मेरे जैसे सीमित प्रतिभा वाला आदमी एक सम्मानजनक जीवनशैली को हासिल कर सका है। अगर आरक्षण नहीं होता तो एक बात तो पक्की है कि मैं किसी सरकारी...

Loose Views

भारत बंद पर इस दलित डीएसपी का पत्र जरूर पढ़ें!

दलितों के भारत बंद के दौरान हिंसा के बाद से एससी-एसटी एक्ट को लेकर बहस छिड़ी हुई है। दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने इस कानून के उस प्रावधान में बदलाव का आदेश दिया...

Loose Views

मैंने इस्लाम क्यों छोड़ा… पढ़ें एक पूर्व-मुस्लिम का पत्र

इस्लाम में मेरी आस्था दृढ़ थी। बचपन से ही मैं इस्लामी नियम-कायदों का पालन किया करता था। लेकिन विज्ञान का विद्यार्थी बनने के बाद अनेक प्रश्नों ने मुझे इस्लामी...

Loose Views

प्रिय रवीश जी, पत्रकारिता के आलोकनाथ मत बनिए

प्रिय रवीश जी, आपका ‘आकाश में झूठ की धूल’ वाला लेख पढ़ा। मूड ख़राब हो गया। क्योंकि इस झूठ की धूल में आपने भी तो खूब गर्दा उड़ाया है। सवाल यह कि आप पत्रकारिता...

Loose Views

जानिए लोग मुसलमानों को पाकिस्तानी क्यों कहते हैं!

मुस्लिम कट्टरपंथी नेता असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि भारतीय मुसलमानों को जो ‘पाकिस्तानी’ कहता है उसे 3 साल कैद की सज़ा देने का कानून बनाया जाए। चलिए...

Loose Views

जानिए मुसलमानों को अब क्यों याद आने लगे हैं गांधी

दंगों से पटे भारतीय इतिहास में गुजरात दंगा एक प्रस्थान बिन्दु है। यहां से मुसलमानों को उत्तर मिलता है कि सांप्रदायिक धनुष की प्रत्यंचा एक सीमा से ज्यादा खींचे...

Loose Views

एनडीटीवी के ही पूर्व पत्रकार ने खोली चैनल की पोल

एनडीटीवी एक भला चैनल था। अन्य चैनलों में बकवास बहुत चलता था, लेकिन एनडीटीवी पर सिर्फ़ ख़बरें चलती थीं। हालांकि इसके साथ ही वहां एक बड़ी बुराई भी थी कि अक्सर...

Loose Views

क्या जेटली पर भरोसा करके भूल कर रहे हैं मोदी?

आज मैंने वित्तमंत्री अरुण जेटली की 21 दिसंबर को लोकसभा में बजट संबंधित 45 मिनट का जवाब सुना। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने वित्तीय विवेक और अनुशासन पर जोर दिया...

Loose Top Loose Views

2जी का असली चोर कौन? फैसले में जज ने बताया है

2जी स्पेक्ट्रम आवंटन में कोई घोटाला नहीं हुआ था इस बात को देश स्वीकार नहीं कर सकता। विशेष सीबीआई कोर्ट के जज ओपी सैनी के फैसले पर उंगली उठाने से पहले इस फैसले...

Loose Views

सिंदूर का मज़ाक या ‘पद्मावती’, जानिए ये क्या खेल है!

आपको याद होगा कुछ दिन पहले हिंदी की एक लेखिका ने, हमारी माताओं-बहनों के छठ पर सिन्दूर लगाने को सिन्दूर पोतना कहकर मजाक उड़ाने की कोशिश की थी। बड़ा हंगामा हुआ और...

Loose Views

चित्तौड़ की महारानी पद्मावती के नाम एक पत्रकार की चिट्ठी

प्रिय पद्मावती, सादर प्रणाम। संभवत: सात सौ साल बाद ये पहला ही पत्र है, जो किसी ने आपको लिखा होगा। संजय लीला भंसाली नाम के एक कारीगर हैं। वे फिल्में बनाते हैं।...

Loose Views

क्या केजरीवाल का दिमाग फिर से ‘बेकाबू’ हो रहा है?

क्या अरविंद केजरीवाल की दिमागी ‘समस्या’ के लक्षण एक बार फिर से सामने आ रहे हैं? सोशल मीडिया और बातचीत में कई लोग यह सवाल पूछ रहे हैं। 2 करोड़ की...

Loose Views

छह महीने में हर समस्या ऐसे हल करेंगे राहुल गांधी!

कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी ने कहा है कि मोदी सरकार अगर किसानों और रोजगार की समस्या सुलझा नहीं सकती तो हमें बता दे। मैं इस मसले को छह महीने में हल कर दूंगा।...

Loose Views

मोदी के खिलाफ खिचड़ी पका रही है बुजुर्ग ब्रिगेड?

क्या लालकृष्ण आडवाणी कांग्रेस के साथ मिलकर नरेंद्र मोदी सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं? परिस्थितियां कुछ इसी तरफ इशारा कर रही हैं। पहले यशवंत सिन्हा...

Loose Views

रवीश कुमार को निखिल दाधीच का मुंहतोड़ जवाब

माननीय रवीश जी नमस्कार, आपका प्रधानमंत्री जी के नाम लिखा पत्र पढ़ा। आपके पहले के कई पत्र भी मैंने पढ़े हैं लेकिन यकीन मानिए अब आपके पत्र प्रभावित नहीं करते...

Loose Views

रवीश कुमार के नाम एनडीटीवी के पूर्व पत्रकार का पत्र

प्रिय रवीश जी, बहुत दिनों से आपको चिट्ठी लिखने की सोच रहा था लेकिन हर बार कुछ न कुछ सोचकर रुक जाता था। सबसे बड़ी वजह तो ये थी कि मेरा इन ‘खुले खत’ में विश्वास...

Loose Views

बीएचयू के नाम पर सियासत और एक छात्र का दर्द

कैसे लिखूं कि देख रहा हूं कि सोशल मीडिया पर बीएचयू के विशेषज्ञ वो भी हो चुके हैं, जिनको 2014 के बाद पता चला है कि देश में बीएचयू नाम की कोई यूनिवर्सिटी भी है।...

Loose Views

रोहिंग्या प्रेमियों, हां… हिंदुस्तान हमारे बाप का ही है!

पुराने ज़माने में राजा महाराजा अपने साथ एक भाट कवि अवश्य रखते थे, जो हमेशा उनके साथ मौजूद रहते थे। उनका काम था राजा की प्रशंसा में कविताएं लिखना। इससे होता कुछ...

Loose Top Loose Views

ये हैं हिंदुस्तान के टॉप-5 गालीबाज पत्रकार

पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के बाद सोशल मीडिया पर कुछ लोगों के गाली-गलौज के बाद से यह आरोप लग रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गाली देने वालों को ट्विटर पर...

Loose Views

गौरी लंकेश के हत्यारों के मददगारों को भी पकड़ो!

बेंगलुरु में ‘वामपंथी झुकाव’ वाली एक पत्रकार की हत्या कर दी गई। मिनटों में ये ख़बर आग की तरह फैली और पत्रकार के वैचारिक आकाओं ने फ़ैसला सुना दिया...

Loose Top Loose Views

मोदी की ‘चाणक्य नीति’ जानना आपके लिए जरूरी है!

चाणक्य की सेना ने पहली बार जब मगध की राजधानी पाटलिपुत्र पर हमला किया, तो बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा। मुश्किल से जान बचाकर भागे। भागते-भागते एक बुढ़िया की...

Loose Top Loose Views

क्या तीन तलाक पर बोल के गलती कर रहे हैं हिंदू?

मुसलमानों में तीन तलाक और फिर हलाला की परंपरा इन दिनों खबरों में है। इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। बीजेपी सरकार खुलकर इसका विरोध करती रही है।...

Loose Top Loose Views

मोदी को बदनाम कर रहे निखिल वागले की पोल खुली

मराठी पत्रकार निखिल वागले ने कुछ दिन पहले दावा किया कि चैनल टीवी9 में उनके शो को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दबाव में बंद कर दिया गया। उन्होंने इसे मीडिया की...

Loose Views

पाकिस्तान की जीत का लड्डू न खाता तो मारा जाता!

हत्यारी भीड़ का उन्माद क्या होता है, मैंने खुद देखा है, सिर्फ 13 साल की उम्र में। 25 अक्टूबर 1991 के दिन। यानी तब तक बाबरी ढांचा भी नहीं गिरा था। 3 दिन बाद मेरा...

Loose Views

आरक्षण से दुखी हैं तो इसका हल भी जान लीजिए!

जातीय आरक्षण की आग से अगर देश को बचाना है तो तमाम चीज़ों का निजीकरण ही एकमात्र रास्ता शेष रह गया है। वह चाहे रेल हो, रोडवेज हो या बिजली। या कोई और उपक्रम।...

Loose Views

पाकिस्तान को छोड़िए भारत की रेस चीन के साथ है!

जिस देश में ‘समृद्ध’ नेताओं की कमाई सरकारी दलाली पर निर्भर हो, जहाँ नौकरशाह रिश्वतखोर और उद्योगपति टैक्स चोर हों, उस देश के बारे में अगर डोनाल्ड ट्रंप ये कहें...

Loose Views

कौन थे मनु… जिनके मनुवाद को दिनभर गरियाते हो?

मनु राजा थे। क्षत्रिय थे। मनुस्मृति भी उन्होंने ही लिखी। लेकिन जहर से भरे कुछ लोग मनुवाद के नाम पर ब्राह्मणों को गरियाते हैं। जानते हैं क्यों? इसलिए कि...

Loose Top Loose Views

कपिल मिश्रा के सवाल जिनसे भाग रहे हैं केजरीवाल!

आदरणीय अरविंद जी, मैंने पांच नेताओं की विदेश यात्राओं के बारे में जानकारी सार्वजनिक करने की मांग की थी। हमेशा हर चीज जनता के सामने रखने की बात करने वाले सभी...

Loose Views

मीडियावालों जान लीजिए कि मोदी जी मिलते क्यों नहीं!

इंडिया गेट से कोई 500 मीटर की दूरी पर बीजेपी का मुख्यालय है। आजकल यहाँ पत्रकारों की गहमगहमी कुछ ज्यादा ही होती है। बीते बुधवार की शाम मुझे एक हिंदी न्यूज़ चैनल...

Loose Views

मोदी जी, छोटी लड़ाइयां छोड़िए असली युद्ध में आइए

सामने से उठते हुए तूफान पर अगर आँखें फेर लें तो क्या तूफ़ान अपनी दिशा बदल देगा? इतिहास के दिए घाव अगर मिट नहीं पा रहे तो क्या इतिहास मिटाने से घाव भी मिट...

Loose Views

मोदी जी, चुनाव छोड़िए हिमालय के उस पार देखिए!

राम मंदिर भी बनना चाहिए और गाय की रक्षा भी होनी चाहिए। देश की अस्मिता, संस्कृति और स्वाभिमान से समझौता करके कोई राष्ट्र आज तक महाशक्ति नहीं बना है। लेकिन सिर्फ...

Loose Views

दिल्ली में केजरीवाल की हार को छोटा मत कीजिए!

मीडिया हर रोज़ पीएम मोदी का जादू टेस्ट करता है। एमसीडी चुनाव में बीजेपी की जीत को भी वह पीएम मोदी का ही जादू बता रहा है। लेकिन वह यह बताने में संकोच कर रहा है...

अपनी लिखी पोस्ट या जानकारी साझा करें 

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Donate to Newsloose.com

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें

Popular This Week

Don`t copy text!