Home » Loose Top » गाड़ी की नंबर प्लेट हिंदी में है? देना पड़ेगा जुर्माना, जानिए नए नियम
Loose Top

गाड़ी की नंबर प्लेट हिंदी में है? देना पड़ेगा जुर्माना, जानिए नए नियम

क्या आपकी कार या बाइक पर हिंदी या किसी दूसरी भारतीय भाषा में नंबर प्लेट लगी हुई है? अगर हाँ तो इसे फ़ौरन बदल दीजिए। केंद्रीय मोटर वाहन नियमों में हुए ताज़ा बदलावों के अनुसार हिंदी या दूसरी भारतीय भाषाओं में नंबर प्लेट ग़ैर-कानूनी हैं और इसके लिए जुर्माना देना होगा। गाड़ियों के नंबर प्लेटों से जुड़े कई नियमों में बदलाव किए गए हैं, जिन्हें जानना आपके लिए ज़रूरी है वरना आप भी मुश्किल में फँस सकते हैं। इन नियमों में अलग-अलग कैटेगरी की गाड़ियों के हिसाब से नंबर प्लेट के रंग और नई गाड़ियों के अस्थायी नंबर प्लेट से जुड़े नियम शामिल हैं। इन सभी नियमों का उल्लंघन करने वालों को अब मोटा जुर्माना देना होगा। इस बारे में सड़क परिवहन मंत्रालय ने नोटिफिकेशन जारी कर दिया है।

नंबर प्लेट की भाषा सिर्फ़ इंग्लिश

कार, बाइक या सभी तरह की निजी या कमर्शियल गाड़ियों में अब से नंबर प्लेट सिर्फ़ रोमन भाषा में ही लिखना ज़रूरी होगा। अंक भी सिर्फ़ अंग्रेज़ी में ही लिखे जाएँगे। कोई भी अक्षर अंग्रेज़ी के स्मॉल लेटर में नहीं होना चाहिए, सारे कैपिटल लेटर में होंगे। प्लेट पर अक्षरों और अंकों का आकार बराबर होना चाहिए और नंबर प्लेट पर नंबर के सिवा कुछ भी और लिखा नहीं होना चाहिए। यहाँ तक कि गाड़ी के डीलर का नाम भी नहीं। अभी तक लोग हिंदी या दूसरी भारतीय भाषाओं में नंबर प्लेट बनवाया करते थे, जो अब पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है।

टेंपरेरी नंबर प्लेट पर ड्राइविंग बैन

नए नियम के अनुसार देश भर में कहीं भी अस्थायी नंबर प्लेट वाली गाड़ी चलाना प्रतिबंधित है। अभी दिल्ली जैसे कुछ राज्यों में गाड़ी ख़रीदते समय ही नंबर प्लेट मिल जाया करती है। लेकिन कई राज्यों में नंबर प्लेट महीने भर बाद आती थी। जिसके कारण यह एक तरह का अलिखित नियम बन गया था कि टेंपरेरी नंबर प्लेट पर गाड़ी ख़रीदने के महीने भर तक चलाई जा सकती है। लेकिन अब सरकार ने इस बारे में नियम पूरी तरह स्पष्ट कर दिया है।

इसी तरह नंबर प्लेट के बैकग्राउंड को लेकर भी कुल 11 कैटेगरी बनाई गई हैं। जिनके लिए अक्षरों और संख्याओं का आकार तय किया गया है। नए नियमों की ज़रूरत पिछले कुछ समय से महसूस की जा रही थी क्योंकि हिंदी या दूसरी भारतीय भाषाओं में लिखे नंबरों को टोल प्लाज़ा पर लगे कैमरा नहीं पढ़ पाते। इसी तरह ओवरस्पीडिंग मामलों में भी ऐसी गाड़ियाँ अक्सर बच जाती थीं। टेंपरेरी नंबर प्लेट वाली गाड़ियों का इस्तेमाल अक्सर अपराधी कर रहे थे, क्योंकि इनसे पकड़े जाने पर भी कोर्ट में केस कमजोर करना आसान होता था।

(न्यूज़लूज़ टीम)

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें


कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

अपनी लिखी पोस्ट या जानकारी साझा करें 

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Donate to Newsloose.com

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें

Popular This Week

Don`t copy text!