Home » Loose Top » ‘रामायण’ को भी सेकुलर बना चुके हैं ‘अली मौला वाले’ मोरारी बापू
Loose Top

‘रामायण’ को भी सेकुलर बना चुके हैं ‘अली मौला वाले’ मोरारी बापू

विवादित कथावाचक मोरारी बापू की करतूतें सामने आने का सिलसिला जारी है। अब पता चला है कि मोरारी बापू ने गुजराती में एक रामायण भी लिखी थी। वो ख़ुद को इस रामायण का लेखक बताते हैं। संस्कृत में वाल्मीकि रामायण और अवधी में रामचरित मानस हिंदुओं के घर-घर में प्रचलित हैं। बाकी भाषाओं में भी जो रामायण हैं वो इन्हीं का अनुवाद हैं। लेकिन कथित तौर पर मोरारी बापू की लिखी ‘अमृत रामायण’ में भगवान राम की कथा में भारी फेरबदल किए गए हैं। यहां तक कि इसमें रावण से युद्ध के बाद राम को शर्मिंदा होते बताया गया है। राम कथा की इस पुस्तक में राम से बड़ी मोरारी बापू की तस्वीर छापी गई है। यह भी पढ़ें: भागवत कथा के नाम पर अली मौला क्यों जप रहे हैं कथावाचक?

मोरारी बापू की फ़र्ज़ी ‘रामायण’

‘अमृत रामायण’ नाम की यह किताब गुजराती में है। अमेज़न और दूसरी ऑनलाइन वेबसाइट्स पर ये किताब 700 से लेकर 1400 रुपये तक में बिक रही है। यूँ तो भगवान राम की कथा देश भर की ज़्यादातर भाषाओं में लिखी गई है। उन सबमें थोड़ा-थोड़ा अंतर भी पाया जाता है। लेकिन सभी की मूलकथा और उनका केंद्रीय भाव एक ही है। लेकिन मोरारी बापू ने अपनी रामायण में लिखा है कि “अंत मे की राम लज्जित हैं कि मैंने धनुष क्यों धारण किया। क्यों इतना भ्रमण किया कि भार्या (सीता) के जीवन को खतरे में डाल दिया।” इतना ही नहीं राम को इस बात का भी दुख है कि उन्होंने असुरों के क्षेत्र में बिना मतलब दखल दिया जिससे युद्ध की नौबत आई। राम की यह वो कहानी है जो पहले न किसी ने कही है न सुनी है। यह भी पढ़ें: राम, लक्ष्मण, हनुमान के अस्त्र-शस्त्र और जनेऊ उतरवा चुके थे मोरारी बापू

आख़िर क्या चाहते हैं मोरारी बापू

गुजरात में मोरारी बापू के आश्रम में मौजूद राम के मंदिरों में उन्हें बिना अस्त्र-शस्त्र के दिखाया गया है। रामायण में राम को रावण के वध पर पश्चाताप करते दिखाने का मतलब क्या है यह समझना मुश्किल नहीं है। लंबे समय से यह षड्यंत्र चल रहा है कि हिंदुओं को हिंसा से दूर रहने वाला और चुपचाप सहने वाला बनाया जाए। इसी के लिए गांधी जी ने श्रीमद् भागवत गीता की बातों को बदल दिया था। गांधी जी ने यह काम शुरू भले ही किया था लेकिन बाद में यह काम जिहादी ताक़तों ने अपने कंधे पर ले लिया। आरोप लगाया जा रहा है कि ऐसी ही जिहादी ताक़तों के इशारे पर मोरारी बापू भी काम कर रहे हैं। यह भी पढ़ें: इंडोनेशिया में जो रामलीला से हुआ, वही भारत में रामकथा में हो रहा है

कृष्ण पर कर चुके हैं अभद्र टिप्पणी

इससे पहले मोरारी बापू का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें उन्होंने भागवत कथा के दौरान भगवान कृष्ण को ‘टोटल फेल’ कहा है। उन्होंने यह साबित करने की कोशिश की है कि कृष्ण भगवान नहीं, बल्कि एक नाकाम व्यक्ति थे। अपने कथाओं में वो कृष्ण के भाई बलराम को ‘हर वक़्त शराब के नशे में रहने वाला’ बताते थे। साथ ही पूरी यादव जाति को उन्होंने आपस में लड़ने वाले और शराबी कहकर संबोधित किया। अभी भगवान कृष्ण को लेकर मोरारी बापू की अभद्र टिप्पणियों पर विवाद थमा नहीं था कि राम को लेकर उनकी करतूतें भी सामने आ गईं।

(न्यूज़लूज़ टीम)

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...
Don`t copy text!