Home » Loose Top » हिंदूफोबिया का शिकार हैं ज़्यादातर ‘स्टैंड अप कॉमेडियन’, जानिए पीछे का खेल
Loose Top

हिंदूफोबिया का शिकार हैं ज़्यादातर ‘स्टैंड अप कॉमेडियन’, जानिए पीछे का खेल

स्टैंडअप कॉमेडी के नाम पर हिंदू देवी-देवताओं और परंपराओं का मज़ाक़ उड़ाने का सिलसिला अब सारी हदें पार कर चुका है। ताज़ा मामला सुरलीन कौर नाम की एक कथित स्टैंड अप कॉमेडियन का है जिसने अपने एक प्रोग्राम में इस्कॉन मंदिर जाने वालों के साथ-साथ खजुराहो के देवी-देवताओं तक पर बेहद भद्दे कमेंट किए हैं (नीचे देखें वीडियो)। इसे लेकर सोशल मीडिया पर बवाल मचने के बाद सुरलीन कौर और शेमारू (Shemaroo) कंपनी के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है। हंसी-मजाक के नाम पर स्टैंड अप कॉमेडी के इन कार्यक्रमों में आम तौर पर हिंदू धर्म और देवी-देवताओं को लेकर अश्लील टिप्पणियां की जाती हैं। लेकिन ज्यादातर बार लोग नजरअंदाज कर देते हैं। लेकिन अब ये पब्लिसिटी बटोरने और प्रोग्राम को हिट बनाने का फॉर्मूला बन गया है। इस बात की भी पुख्ता जानकारी है कि हिंदुओं को शिकार बनाने वाले ऐसे कलाकारों को ज्यादा पैसे और स्पॉन्सर मिलते हैं।

इस्कॉन ने दर्ज कराई शिकायत

कृष्ण भक्ति संप्रदाय इस्कॉन (ISKCON) ने मुंबई पुलिस को सुरलीन कौर और शेमारू कंपनी के खिलाफ शिकायत भेजी है। इस्कॉन के उपाध्यक्ष और प्रवक्ता राधारमण दास ने कहा है कि “वीडियो में इस्तेमाल भाषा बेहद आपत्तिजनक और अपमानजनक है। इसने सनातन धर्म, हिंदुओं और इस्कॉन के अनुयायियों को दुनिया भर में बहुत कष्ट दिया है।” शिकायत में कहा गया है कि “भारत में यह प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है, जहाँ हिंदू धर्म/सनातन धर्म और हमारे ऋषि-मुनियों, देवताओं आदि के लिए लोगों द्वारा असभ्य भाषा का इस्तेमाल किया जा रहा है दुरुपयोग किया जा रहा है। लोग सनातन धर्म के अनुयायियों के सहिष्णु स्वभाव का दुरुपयोग कर रहे हैं और उनकी गालियाँ और अभद्र भाषा की मात्रा दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है।” सुरलीन कौर ने इस वीडियो में हिंदुओं पर कई और भद्दे कमेंट किए हैं। उसके मुताबिक “पुराने ज़माने के साधु-संत भी पॉर्न देखते थे लेकिन उन्होंने उसका नाम कामसूत्र रख दिया था। वो थोड़ी सी संस्कृत इस्तेमाल करके अपने कांड को छिपाते थे।”

एंटरटेनमेंट कंपनियों का हाथ

एक स्टैंड अप कॉमेडियन ने ही नाम न छापने की शर्त पर हमें बताया कि “हमें स्टेज देने वाली कंपनियाँ ही कहती हैं कि अपने ऐक्ट में कुछ कॉन्ट्रोवर्सियल डालो, ताकि पब्लिसिटी मिले। इस काम के लिए आसान टारगेट हिंदू देवी-देवता होते हैं। क्योंकि उन पर बोलकर पब्लिसिटी मिल जाती है और कुछ होता नहीं है।” इसी बात से आप स्टैंड अप कॉमेडियन और उनको जगह देने वाली कंपनियों की मानसिकता का अंदाज़ा लगा सकते हैं। हमें यह भी बताया गया कि जब भी अगर विवाद बढ़ जाए तो एंटरनेटमेंट कंपनियाँ सबसे पहले पल्ला झाड़कर भाग जाती हैं। सुरलीन कौर के मामले में भी यही हुआ है, जब उसकी कंपनी शेमारू ने फ़ौरन कॉन्ट्रैक्ट रद्द करने का एलान कर दिया। हालाँकि इस्कॉन ने उसकी माफ़ी को नामंज़ूर करते हुए कहा है कि अब बहुत हो चुका।

नीचे आप सुरलीन कौर का वो घिनौना एक्ट देख सकते हैं। आप ख़ुद फ़ैसला कीजिए कि अपने धर्म और संस्कृति से कट चुकी ये लोग किस हद तक गिर चुके हैं।

कुछ दिन पहले मुनव्वर फारुकी नाम का ये जिहादी कॉमेडियन विवादों में आया था जब उसने गोधरा में हिंदुओं की हत्या को मज़ाक़ का विषय बनाया था। नाचे देखें वीडियो:

मुनव्वर फारुकी इससे पहले भगवान राम और सीता को लेकर भी अश्लील कमेंट्स कर चुका है। उसके ख़िलाफ़ पुलिस में शिकायत हुई लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

इसी तरह संजय राजौरा नाम के स्टैंड अप कॉमेडियन ने पीएम मोदी के एक कथित बयान के नाम पर भगवान गणेश की खिल्ली उड़ाई थी।

अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद मोहम्मद सुहैल नाम के स्टैंडअप कॉमेडियन ने राम मंदिर पर भद्दी टिप्पणी की थी।

(न्यूजलूज़ टीम)

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...
Don`t copy text!