Home » Loose Top » जामा मस्जिद पर तैनात 94 में से 75 बीएसएफ़ जवान कोरोना पॉज़िटिव
Loose Top

जामा मस्जिद पर तैनात 94 में से 75 बीएसएफ़ जवान कोरोना पॉज़िटिव

अब मुस्लिम इलाक़ों में तैनाती भी सुरक्षा बलों पर भारी पड़ रही है। ख़बर है कि पिछले दिनों दिल्ली की जामा मस्जिद के आसपास तैनात किए गए BSF के 75 जवान इस वायरस की चपेट में आ गए हैं। इतना ही नहीं BSF के दो जवानों की मौत भी हो गई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ये सभी जवान 126वीं बटालियन के थे, जिन्हें इलाके में ड्यूटी पर लगाया गया था। उनके साथ दिल्ली पुलिस के भी जवानों की तैनाती की गई थी। इनके बारे में अभी कोई जानकारी नहीं है। इसके साथ ही बीएसएफ में कोविड-19 के शिकार जवानों की संख्या सबसे अधिक 195 तक पहुंच गई है। दूसरे नंबर पर सीआरपीएफ (CRPF) है जिसके 162 जवान इस महामारी के संक्रमण से जूझ रहे हैं। आईटीबीपी (ITBP) के 82 और सीआईएसएफ (CISF) के 33 जवानों में कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव पाया गया है, जिनमें से एक की मौत हो गई है। सशस्त्र सीमा बल (SSB) के भी 14 जवान कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। यह भी पढ़ें: ममता के बंगाल में कोरोना विस्फोट?, एक लाख के करीब लोगों में लक्षण

तब्लीगी जमात के कारण तैनाती

अप्रैल महीने में दिल्ली के निज़ामुद्दीन मरकज़ में तब्लीगी जमात कांड के बाद मुस्लिम इलाक़ों में दंगे-फसाद का डर था, जिसके बाद बीएसएफ़ की रिज़र्व फ़ोर्स को जयपुर से बुलाया गया था। जिस टुकड़ी के जवान चपेट में आए हैं उन्हें जामा मस्जिद के आसपास के इलाक़ों और चाँदनी महल में सुरक्षा के लिए तैनात किया गया था। कुछ दिन बाद ही यह शक पैदा हुआ कि कुछ जवान संक्रमित हो गए हैं, जिसके बाद उन्हें फ़ौरन वापस जयपुर बुला लिया गया। यहाँ तैनात दिल्ली पुलिस के भी कुछ जवानों में भी कोरोना वायरस का संक्रमण पाया जा चुका है। फ़िलहाल बीएसएफ़ के सभी जवानों को जोधपुर में रखा गया है। इस पूरे सेंटर को सील कर दिया गया है ताकि वहाँ से बीएसएफ़ के किसी दूसरी यूनिट में महामारी फैलने का कोई ख़तरा न रहे।

जिहादियों पर क़ाबू की चुनौती

अब तक अलग-अलग अर्धसैनिक सुरक्षाबलों में कुल क़रीब 500 जवान कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। रमज़ान के महीने और उससे पहले से ही एक मज़हब विशेष के इलाक़ों में जिस तरह की चुनौतियाँ पेश आईं ज़्यादातर मामले उसी से जुड़े हुए हैं। इन सभी का अस्पतालों में इलाज चल रहा है, जबकि कुछ जवानों को संक्रमण के शक में क्वारंटाइन में भी रखा गया है। ज़ाहिर है इस स्थिति का सुरक्षाबलों के मनोबल पर बुरा असर पड़ सकता है। क्योंकि मज़हब विशेष के इलाक़ों में अब भी लॉकडाउन पर अमल कराना एक चुनौती बना हुआ है। अब भी मस्जिदों में बड़ी जमघट और तब्लीगी जमात के लोगों के छिपे होने की ख़बरें आना जारी है। SSB के जिन 14 जवानों में कोविड-19 इन्फेक्शन पाया गया है वो भी दिल्ली में लॉ एंड ऑर्डर की ड्यूटी पर ही आए थे। ये सभी वो थे जिन्होंने निजामुद्दीन मरकज को खाली कराने के ऑपरेशन में हिस्सा लिया था।

कोविड-19 से जिन 2 बीएसएफ़ जवानों का निधन हुआ उन्हें गृह मंत्री अमित शाह ने भी श्रद्धांजलि दी है।

(Newsloose bureau)

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...
Don`t copy text!