Home » Loose Top » दिल्ली में AAP दफ्तर पर भूखे लोगों की भीड़, गेट अंदर से किया बंद
Loose Top

दिल्ली में AAP दफ्तर पर भूखे लोगों की भीड़, गेट अंदर से किया बंद

फ़ोटो सौजन्य: रविशंकर प्रसाद

दिल्ली में कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन के बीच ग़रीबों के आगे खाने-पीने का संकट बना हुआ है। अरविंद केजरीवाल दावा कर रहे हैं कि उनकी सरकार रोज़ 4 लाख लोगों को खाना खिला रही है, लेकिन ज़मीन पर इसका कुछ ख़ास असर अब तक नहीं देखा जा रहा है। इसकी मिसाल मंगलवार को तब देखने को मिली जब बड़ी संख्या में लोग आईटीओ के पास आम आदमी पार्टी के मुख्यालय पहुँच गए और उन्होंने खाना माँगा। ये भूखे-प्यासे लोग दिल्ली के ही बल्लीमारान से यहाँ आए थे, जो क़रीब चार किलोमीटर दूर है। उनका कहना था कि कामधंधा बंद हो गया है और उनके पास खाने को कुछ नहीं है। दिल्ली सरकार ने पूरे शहर में होर्डिंग लगाए हैं जिन पर बताया जा रहा है कि “किसी को कहीं‌ जाने की जरूरत नहीं। कोई दिल्ली छोड़कर बिहार,‌ यूपी न जाए। हम सबको घर तक खाना पहुंचाएंगे।” यही देखकर लोग सीधे आम आदमी पार्टी के दफ़्तर पहुँच गए। यह भी पढ़ें: कोरोना जिहाद का रहस्य गहराया, देशभर की मस्जिदों में मिले चाइनीज मौलवी

‘आम आदमी’ के लिए नहीं खुला दरवाज़ा

वरिष्ठ टीवी पत्रकार रविशंकर प्रसाद ने फ़ेसबुक पर इसकी तस्वीरें पोस्ट की हैं। उनकी पोस्ट के मुताबिक आम आदमी की राजनीति करने वाली आम आदमी पार्टी ने उनके लिए पार्टी के दफ़्तर का दरवाज़ा तक नहीं खोला। इन लोगों की संख्या इतनी अधिक भी नहीं थी कि कोई समस्या पैदा हो जाती। खाना माँगने आए इन लोगों में ज़्यादातर महिलाएँ थीं जो चार किलोमीटर दूर पुरानी दिल्ली के बल्लीमारान से यहाँ इस उम्मीद में आई थीं कि आम आदमी पार्टी के दफ़्तर में ज़रूर मदद मिलेगी। उनका कहना था कि “हमारे पास खाने को कुछ नहीं है। हमारे बच्चे भूख‌ से मर जाएंगे।” कुछ लोग अपने साथ पहचान के काग़ज़ वग़ैरह भी लेकर आए थे। यह पूछने पर कि मुख्यमंत्री तो कह रहे हैं कि हर किसी के दरवाज़े खाना पहुँचा रहे हैं, एक व्यक्ति ने जवाब दिया कि घर-घर खाना पहुंचाते तो यहां क्यों आते? इस सारे तमाशे के बीच अंदर पार्टी के पदाधिकारी मौजूद थे, लेकिन किसी ने दरवाज़ा तक नहीं खोला। यह भी पढ़ें: ये है दिल्ली की जिहादी चौकड़ी, करतूत जानकर रह जाएँगे हैरान

केजरीवाल की वाहवाही में जुटा है मीडिया

एक तरफ़ यह सच्चाई है, दूसरी तरफ़ मीडिया का एक बड़ा तबका केजरीवाल के गुणगान में जुटा है। लॉकडाउन के फ़ौरन बाद दिल्ली से यूपी-बिहार के लाखों लोगों का पलायन हुआ, क्योंकि उनके पास खाने-पीने को कुछ नहीं था। इसके बाद केजरीवाल ने विज्ञापन जारी करके दावा किया कि अब कोई समस्या नहीं है हर किसी तक खाना पहुँचेगा। लेकिन ये तस्वीर बताती है कि दिल्ली सरकार अब भी नहीं जागी है। केजरीवाल सरकार सिर्फ प्रचार कर रही है, जबकि मंदिर, गुरुद्वारे और दूसरी स्वयंसेवी संस्थाएं अपने पूरे सामर्थ्य से गरीबों की सेवा में जुटे हैं। दिल्ली के झंडेवालान मंदिर में रोज़ 10 हज़ार लोगों तक खाना पहुँचाया जा रहा है। लेकिन केजरीवाल सरकार के विज्ञापनों का ऐसा दबाव है कि आजतक चैनल ने मंदिर के उस भंडारे को भी केजरीवाल का किचन घोषित कर दिया। इतना ही नहीं, मीडिया में दिल्ली सरकार की इस नाकामी की ख़बरें लगभग ग़ायब हैं। पढ़ें पूरी ख़बर: झंडेवालान मंदिर के भंडारे को बताया “केजरीवाल का किचन”, आजतक चैनल की करतूत

दिल्ली में जगह-जगह ऐसे विशाल होर्डिंग लगाए गए हैं, जिनमें दावा किया गया है कि दिल्ली सरकार सभी को खाना खिला रही है।

(न्यूज़लूज़ टीम)

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...
Don`t copy text!