Home » Loose Top » पुरी जगन्नाथ मंदिर के ध्वज में आग का क्या मतलब अनिष्ट के संकेत!
Loose Top

पुरी जगन्नाथ मंदिर के ध्वज में आग का क्या मतलब अनिष्ट के संकेत!

ओड़िशा में पुरी के भगवान जगन्नाथ मंदिर के ऊपर लगी पताका में एक दिन पहले आग की घटना को लेकर पूरे देश में तरह-तरह की बातें हो रही हैं। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है। कई लोग इसे देश के लिए बड़ा अपशकुन बता रहे हैं। गुरुवार को ही कोरोनावायरस के खतरे के चलते मंदिर में श्रद्धालुओं के आने पर रोक लगाई गई थी, इसके कुछ घंटे के अंदर हुई इस घटना से कोहराम मच गया। हजारों लोग मंदिर के आसपास जमा हो गए। लोग इसे आने वाले बड़े अनिष्ट का संकेत मान रहे हैं। क्योंकि इससे एक दिन पहले ही ध्वज में गांठ भी पड़ गई थी, जो कि आम तौर पर कभी नहीं होता है। इन दोनों बातों का क्या मतलब है जानने के लिए आपको ये पूरी रिपोर्ट पढ़नी होगी।

ध्वज में कैसे लगी आग?

गुरुवार को पापनाशक एकादशी के मौक़े पर श्रीमंदिर के अंवला परिसर में महादीप लगाया गया था। अचानक हवा चलने से ध्वज उड़कर महादीप पर चला आया और देखते ही जल गया। श्रीमंदिर का ध्वज हर दिन शाम 4 से 5 बजे के बीच बदला जाता है। एक सेवायत ऊपर जाकर ध्वज को पूरे विधि-विधान के साथ बदलता है। यह दृश्य देखने को लोगों की भारी भीड़ मौजूद रहती है। सेवायत के हाथ में एक जलता हुआ दीपक भी होता है। श्रीमंदिर चुनरा सेवक निजोग के अध्यक्ष कृष्णचंद्र महापात्रा ने कहा है कि महादीप की लौ इधर उधर जा रही थी, इसी बीच ध्वज और लौ का संपर्क हो जाने से यह घटना हुई है।

मुख्य ध्वज में आग नहीं

यहाँ यह बताना ज़रूरी है कि आग मंदिर के शिखर पर लगे मुख्य ध्वज तक नहीं पहुँच पाई। इस मुख्य ध्वज को स्थानीय बोलचाल में “पतित पावन बाना” कहा जाता है। आग दरअसल उसके नीचे की तरफ़ फहराने वाली पताका में लगी, जिसे “मानसिक बाना” बोला जाता है, ये वो ध्वज होता है जो श्रद्धालुओं की तरफ़ से भेंट किया जाता है। जो वीडियो वायरल हुआ है उसमें भी आप देख सकते हैं कि ऊपर का मुख्य ध्वज पूरी तरह से सुरक्षित है। बहुत सारे लोग इसे राहत की बात मान रहे हैं। नीचे आप इस वीडियो देख सकते हैं:

रहस्यमय है मंदिर का ध्वज

भगवान जगन्नाथ मंदिर की इस पताका से जुड़ी एक रहस्यमय बात यह भी है कि ये हवा के विपरीत दिशा में लहराता है। जिस दिशा में हवा चलती है उसके उलटी दिशा में ये झंडा रहता है। करीब 20 फीट का तिकोने आकार का ये झंडा होता है जिसे बदलने का जिम्मा एक परिवार पर है। झंडे को बदलने के लिए एक पुजारी 45 मंजिला शिखर पर जंजीरों के सहारे चढ़ता है। उससे पहले वह नीचे अग्नि जलाता है और धीरे-धीरे गुंबद तक पहुंच कर पुराने ध्वज को हटाकर नया लगा देता है। चाहे जैसा भी मौसम हो हर शाम ध्वज को बदलने की ये परंपरा 800 सालों से चली आ रही है। कहा जाता है कि अगर झंडा रोज़ ना बदला जाए तो मंदिर 18 सालों के लिए अपने आप बंद हो जाएगा।

सुदर्शन चक्र भी है रहस्यमय

मंदिर के शिखर पर एक सुदर्शन चक्र लगा हुआ है जिसे पूरे पुरी शहर में कहीं से भी देखा जा सकता है। इस चक्र की खास बात ये है कि इसे जहां से भी देखो वो आपको अपनी ओर ही दिखाई देगा। दिन के किसी भी समय मंदिर के इस चक्र या शिखर की ज़मीन पर कोई परछाईं नहीं बनती। इतना ही नहीं, जगन्नाथ मंदिर के ऊपर इतना शक्तिशाली चुंबकीय क्षेत्र है कि कोई पक्षी वग़ैरह इसके ऊपर से नहीं उड़ते। यहाँ तक कि विमान या ड्रोन भी इसके ठीक ऊपर से नहीं निकल पाते और ख़ुद ब ख़ुद कुछ डिग्री मुड़ जाते हैं। जगन्नाथ मंदिर के रहस्य को विस्तार से जानने के लिए क्लिक करें: पुरी जगन्नाथ मंदिर का रहस्य, भगवान देते हैं भविष्य के संकेत

(न्यूज़लूज़ टीम)

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें


कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

अपनी लिखी पोस्ट या जानकारी साझा करें 

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Donate to Newsloose.com

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें

Popular This Week

Don`t copy text!