Home » Loose Top » ईसाई मिशनरी का मोहरा है बाबा वीरेंद्र, बड़ा खुलासा
Loose Top

ईसाई मिशनरी का मोहरा है बाबा वीरेंद्र, बड़ा खुलासा

दिल्ली में बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित के आध्यात्मिक विश्वविद्यालय पर छापेमारी और आश्रमों में सैकड़ों की संख्या में लड़कियों की बरामदगी की खबरें मीडिया में गर्म हैं। माना जा रहा था कि बाबा हिंदू धर्म के नाम पर लोगों को बेवकूफ बना रहा था और लड़कियों का शोषण कर रहा था, लेकिन जांच में कई ऐसी बातें सामने आई हैं जो कई सवाल खड़े करती हैं। बाबा और उसके सहयोगियों की गतिविधियों के बारे में न्यूज़लूज़ को कुछ ऐसी बातें पता चली हैं जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे। इनके मुताबिक बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित हिंदू धर्मगुरु के आवरण में दरअसल ईसाई मिशनरियों के लिए कठपुतली के तौर पर काम कर रहा था। इस मामले पर दिल्ली हाई कोर्ट में चल रही सुनवाई में भी इस बात के संकेत सामने आए हैं। एक साधक का दावा है कि “हिंदू परिवारों की लड़कियों को आश्रम में रखा जाता था और धीरे-धीरे उन्हें हिंदू धर्म से दूर करके एक ऐसी अवस्था में पहुंचा दिया जाता था, जिसमें उनके हिंदू होने का कोई मतलब नहीं रह जाता था।” यह बात भी सामने आई है कि बाबा के आश्रमों में अक्सर कुछ विदेशी लोग भी आया-जाया करते थे।

ईसाई मिशनरीज़ से लिंक कैसे?

दिल्ली पुलिस की जांच में बाबा के दो सबसे करीबियों दीपक डीसिल्वा और दीपक थॉमस के नाम सामने आए हैं। जैसा कि नाम से ही जाहिर है ये दोनों ईसाई हैं। अब तक की पूछताछ के मुताबिक आश्रम की गतिविधियों पर पूरी तरह से इन्हीं दोनों का नियंत्रण था। मुंबई के रहने वाले दीपक थॉमस की पत्नी भी उसका कामकाज देखती थी। हाई कोर्ट ने बाबा वीरेंद्र के अलावा जिन दो लोगों को गिरफ्तार करके पेश करने का आदेश दिल्ली पुलिस को दिया है वो यही दोनों हैं। दीपक थॉमस, उसकी पत्नी और दीपक डीसिल्वा कौन हैं और क्या करते हैं इस बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। लेकिन बाबा के आश्रमों में रहने वाले उन्हें अच्छी तरह पहचानते हैं। आश्रमों में उनका बराबर आना-जाना लगा रहता था। यह बात भी सामने आई है कि बाबा के देशभर में फैले अड्डों के हिसाब-किताब और बैंक खातों की जिम्मेदारी दीपक थॉमस पर ही है। वो बाबा वीरेंद्र का दाहिना हाथ माना जाता है। दीपक की पत्नी अलग-अलग आश्रमों में रह रही लड़कियों का हिसाब रखती है। किसी लड़की को कहां भेजना है और कहां रखना है इसका फैसला उसी का होता था।
यह भी पढ़ें: ईसाई धर्म अपना कर पछता रहे हैं लाखों दलित परिवार

वीरेंद्र देव का रहस्यमय इतिहास

कम लोगों को पता होगा कि बाबा वीरेंद्र देव पहले प्रजापिता ब्रह्मा कुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय से जुड़ा हुआ था। ये संस्था देश भर में फैली हुई है और लाखों की संख्या में इसके भक्त हैं। कुछ साल पहले ब्रह्माकुमारी आश्रम से कुछ लोग टूटकर अलग हुए थे, उन्हें सतीश ग्रुप के नाम से जाना जाता था। ये जानकारी ब्रह्माकुमारी आश्रम के फोरम पर उपलब्ध है। वीरेंद्र देव उसी का हिस्सा था। इसके मुताबिक 1969 में वीरेंद्र देव दीक्षित अहमदाबाद में पीएचडी कर रहा था। तब वो अहमदाबाद के पालडी इलाके में ब्रह्माकुमारी के आश्रम में आया-जाया करता था। वहां से वो माउंड आबू आश्रम गया। वहां पर उसने खुद को शंकर का अवतार घोषित कर दिया। जिससे नाराज ब्रह्माकुमारियों ने वीरेंद्र देव की पिटाई कर दी, जिसके बाद उसे माउंट आबू छोड़कर वापस अहमदाबाद लौटना पड़ा। यहां पर भी ब्रह्माकुमारी के साधकों से उसका विवाद जारी रहा और इस दौरान उसकी एक बार फिर से पिटाई हुई। फिर वो अहमदाबाद से दिल्ली चला आया और साधिका पुष्पा माता के घर में रहने लगा। वो खुद को भगवान शंकर का अवतार बताता था। दिल्ली में जिन पुष्पा माता के घर पर वीरेंद्र देव रहता था उनके पति म्युनिसिपल कॉरपोरेशन में चपरासी की नौकरी करते थे। उनके घर में वीरेंद्र देव 1973 से 77 तक रहा। तब वीरेंद्र देव ने उनकी 9 साल की बेटी कमला से बलात्कार किया और कहा कि मैं तुम्हें माता जगदंबा बना दूंगा। वीरेंद्र ने पुष्पा के साथ मिलकर विजय विहार आश्रम शुरू किया था। बाद में पुष्पा की मौत हो गई थी और बेटी कमला और बाबा के बीच संपत्ति को लेकर विवाद हो गया। इसके बाद वीरेंद्र ने अपने लाेगों के साथ मिलकर कमला को आश्रम से निकाल दिया। वो उत्तराखंड के किसी शहर में रह रही है।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें


कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Donate to Newsloose.com

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें

Popular This Week

Don`t copy text!