Home » Loose Top » स्वाति मालीवाल पर इतने मेहरबान क्यों हैं केजरीवाल?
Loose Top

स्वाति मालीवाल पर इतने मेहरबान क्यों हैं केजरीवाल?

दिल्ली सरकार के कामकाज पर शुंगलू कमेटी की रिपोर्ट में जो नाम खास तौर पर आया है वो है स्वाति मालीवाल का। स्वाति मालीवाल इस समय दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष हैं और नियुक्ति के समय से ही विवाद में रही हैं। शुंगलू रिपोर्ट के मुताबिक केजरीवाल ने दिल्ली महिला आयोग का अध्यक्ष बनने से पहले ही स्वाति मालीवाल के लिए बंगले का इंतजाम करवा दिया था। सीएजी ने भी मालीवाल को बंगला देने पर सवाल उठाए गए हैं। इसके मुताबिक मुख्यमंत्री केजरीवाल ने 18 जुलाई 2016 को दिल्ली महिला आयोग के पद पर नियुक्त होने से पहले स्वाति मालीवाल को अपने सचिवालय में उप सचिव के पद पर 1.15 लाख रुपए और अन्य सुविधाओं के साथ नियुक्त किया था। इतना ही नहीं, दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष के तौर पर उनकी नियुक्ति भी बिना उपराज्यपाल की इजाज़त के ही की गई थी। बाद में जब उपराज्यपाल नजीब जंग ने नियुक्ति पर रोक लगा दी तब केजरीवाल को मजबूरी में स्वाति मालीवाल के लिए उनकी इजाज़त औपचारिक तौर पर लेनी पड़ी। अक्सर ये सवाल उठता है कि आखिर स्वाति मालीवाल कौन हैं और उन पर केजरीवाल इस कदर मेहरबान क्यों हैं?

केजरीवाल की पुरानी सहयोगी

केजरीवाल जब एनजीओ चलाया करते थे तो उनके दफ्तर में कई लोग काम किया करते थे। इनमें ही एक स्वाति मालीवाल भी थीं। हरियाणा की रहने वाली स्वाति मालीवाल से केजरीवाल के रिश्ते उसी दौर से बेहद करीबी थे। एनजीओ में काम कर चुके कई लोग इस बात की पुष्टि करते हैं कि केजरीवाल जब भी कहीं बाहर आते-जाते थे तो ज्यादातर उनके साथ स्वाति ही हुआ करती थीं। दफ्तर का सबसे जूनियर कर्मचारी होने के बावजूद स्वाति के साथ केजरीवाल की हंसी-ठिठोली भी चला करती थी। बाद में उनकी शादी नवीन जयहिंद के साथ हो गई। नवीन जयहिंद भी आम आदमी पार्टी के ही नेता हैं। जब केजरीवाल का योगेंद्र यादव के साथ झगड़ा चल रहा था उस दौर में नवीन जयहिंद ने खुलकर केजरीवाल का साथ दिया था। कहते हैं कि इस वफादारी का इनाम स्वाति मालीवाल को बिना किसी पूर्व अनुभव के दिल्ली महिला आयोग की चेयरमैन के पद के तौर पर मिला। नवीन जयहिंद से केजरीवाल की करीबी को इसी बात से समझा जा सकता है कि पहली बार सीएम बनने के बाद उन्होंने अपनी नीली वैगन-आर कार उन्हें तोहफे में दे दी थी।

रिश्ते को लेकर झूठ फैलाया!

जब स्वाति मालीवाल दिल्ली महिला आयोग की चेयरमैन बनीं तो कुछ जगहों पर ये खबर उड़ाई गई कि वो केजरीवाल की बहन हैं। बाद में खुद केजरीवाल ने इस बात का खंडन किया था। इस खबर को छापने वाले एक अखबार के रिपोर्टर ने बाद में बताया था कि बहन के रिश्ते की खबर को खुद केजरीवाल के करीबियों ने ही मीडिया में प्लांट किया था। शायद ये लोगों का ध्यान भटकाने के लिए था। अगर ये दावा सही है तो ऐसा क्यों किया गया ये कहना मुश्किल है। कुछ महीने पहले केजरीवाल के पूर्व सहयोगी कपिल बजाज ने एक ब्लॉग लिखकर कई अहम खुलासे किए थे। इसमें उन्होंने किसी का नाम तो नहीं लिखा था, लेकिन इशारों में काफी कुछ दावे किए थे।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें


कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Donate to Newsloose.com

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें

Popular This Week

Don`t copy text!