Home » Loose Views » जल्लीकट्टू के बाद क्या बकरीद भी बंद होगी?
Loose Views

जल्लीकट्टू के बाद क्या बकरीद भी बंद होगी?

jallikattu, bakrid

पिछले साल ढाका की सड़कों पर बकरीद के मौके पर खून की नदी बहते सभी ने देखा। भारत में ऐसी नदी नहीं बही, क्योंकि हमारे यहाँ बारिश नहीं हुई और होती भी तो हमारा सीवेज सिस्टम बांग्लादेश से तो अच्छा ही है। पर क्या सिर्फ ना दिखने से इस सच को झुठलाया जा सकता है कि हर बकरीद लाखों बेजुबान जानवरों को एक खास वर्ग के कुछ घंटों की ख़ुशी के लिए जान से मार दिया जाता है। और मजे की बात ये है की ना कोई सरकारी फरमान आता है ना कोर्ट का आदेश। यहां तक कि जानवरों के नाम पर दुनिया भर में नाटक करने वाली संस्था पेटा ऐसे गायब हो जाती है जैसे गधे के सिर से सींग। सब मजे से चल रहा है, किसी को कोई फर्क पड़ता।

ये बात इस लिए याद आई क्योंकि पिछले कुछ साल से दक्षिण भारत का एक त्यौहार ‘जल्लीकट्टू’  बड़ी चर्चा में है। तमिल लोग ढाई हजार साल से ये त्यौहार मनाते आ रहे हैं। इस मौके पर लोग सांड को भीड़ में उत्पात मचाने को खुला छोड़ देते हैं और कुछ युवाओं को ऐसे सांड को एक तय समय तक रोक कर रखना होता है। इस खेल में काफी भीड़ होने से कभी लोगों को चोट लगने तो कभी सांड को चोट लगने का खतरा रहता है। जान जाने का खतरा जरूर है, पर ऐसा नहीं कि जान नहीं गई तो त्यौहार ही नहीं हुआ। भला किस साहसिक खेल में ये खतरा नहीं है।

पढ़े: ‘माफ कीजिए… मैं बकरीद मुबारक नहीं बोल सकता’

फिर भी हमारे बुद्धिजीवी और अब तो सुप्रीम कोर्ट भी इस परंपरागत त्यौहार पर बहुत मेहरबान हैं।  सबको लगता है कि ऐसा खतरनाक त्यौहार जिसमें किसी पशु और इंसान की जान को खतरा हो उसे मनाया ही क्यों जाता है। कुछ लोग एक कदम आगे जाकर इसकी तुलना सती प्रथा से करके पूछने लगे हैं कि कोई परंपरा भले ही पुरानी हो गलत हो तो बंद क्यों नहीं होनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे लोगों से सहमति जताते हुए इस त्यौहार पर पाबंदी भी लगा दी। पर अब आगे क्या? क्या जान जाने के खतरे भर से जब एक परंपरागत खेल और त्यौहार पर पाबंदी लगाई जा सकती है तो सचमुच जान लेने वाले वाले त्यौहारों पर पाबंदी नहीं लगनी चाहिए?

सारा खेल तुष्टीकरण का

ऐसा नहीं होगा क्योंकि तुष्टीकरण में बुझा-बुझा कर चमकाई गई हमारे देश की राजनीति और समाजनीति में इतना दम ही नहीं बचा है, कि ऐसे सवाल भी पूछ सके। जलीकट्टू एक अकेला उदाहरण नहीं है, होली पर पानी की बर्बादी, दिवाली पर वायु प्रदूषण, दुर्गा पूजा और गणेश पूजा पर जल प्रदूषण की चर्चा जोरों से होती हैं, पर बात अभी तक पाबंदी तक नहीं पहुचाई जा सकी है। यहाँ तक कि ऐसे लोग अब तो रक्षाबंधन और करवा चौथ जैसे व्रत त्योहारों पर भी सवाल खड़ा करने से पीछे नहीं रहते।

पढ़े:  ‘मैं राखी बांधूंगी’, दैनिक भास्कर को बंद करा दूंगी!

पढ़ें: जब नाग पंचमी के मौके पर पप्पू बन गए ‘पेटा’ वाले!

सवाल खड़ा करने से कोई शिकायत नहीं है, क्योंकि समाज और देश में प्रगति के लिए ये जरूरी है कि सवाल पूछे जाएं और यथासंभव समाधान भी खोजा जाए। पर गुस्सा इस बात का है कि जब बात पूरे समाज और देश की हो रही है तो सवाल सबके सब एकतरफा क्यों हैं? क्या साल दर साल घटती हुई 80 प्रतिशत बची आबादी को सभ्यता का संदेश और बाकी आबादी को कुछ भी सवाल नहीं करना सही है?

पढ़ें: करवा चौथ पर बरखा दत्त के नाम एक ओपन लेटर!

आशीष कुमार
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...
Don`t copy text!