Home » Loose Top » दलित कांस्टेबल के हत्यारे शांतिदूत थे, इसलिए शांति है!
Loose Top

दलित कांस्टेबल के हत्यारे शांतिदूत थे, इसलिए शांति है!

शहीद हेड कांस्टेबल विलास शिंदे की अंतिम यात्रा

क्या आपको पता है कि मुंबई में शांतिदूतों ने एक दलित कांस्टेबल को पीट-पीटकर मार डाला? अगर आप मुंबई में नहीं रहते तो शायद आपको नहीं पता होगा। क्योंकि मीडिया ने इस खबर को दबा रखा है। दलितों के नाम पर सियासत करने वालों को तो मानों सांप सूंघ गया है। दलित-मुस्लिम एकता के नारे लगाने वाले लगता है कि किसी बिल में छिप गए हैं। मामला खार इलाके का है, जहां पिछले मंगलवार को अमनपसंद समुदाय के लोगों ने दलित कांस्टेबल विलास शिंदे को बुरी तरह पीट-पीटकर मार डाला।

कांस्टेबल विलास शिंदे की हत्या कैसे?

23 अगस्त की दोपहर के वक्त खार वेस्ट इलाके में ड्यूटी पर तैनात ट्रैफिक कांस्टेबल विलास शिंदे ने बाइक पर बिना हेलमेट जा रहे लड़के को रोका। उन्होंने लाइसेंस दिखाने को कहा तो लड़का वहां से भाग गया। इसके बाद वो अपने साथ ढेर सारे लोगों को बुलाकर लाया। इन लोगों ने कांस्टेबल विलास शिंदे को घेर लिया और लाठियों और डंडों से उनकी पिटाई शुरू कर दी। शिंदे के सिर पर चोट लगी, जिससे वो कोमा में चले गए। उन्हें बचाने की पूरी कोशिश हुई, लेकिन बुधवार दोपहर उन्होंने दम तोड़ दिया। नाबालिग मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के बाद उसे जुवेनाइल कोर्ट में पेश किया गया, वो घटना के बाद से फरार था। उसके भाई मुहम्मद कुरैशी को कोर्ट ने 6 सितंबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है। मुहम्मद कुरैशी भी कॉन्स्टेबल को पीटने वाली भीड़ में शामिल था।

मीडिया ने खबर को गायब कर दिया!

ड्यूटी पर एक कांस्टेबल को पीट-पीटकर मार डाला गया, लेकिन तथाकथित नेशनल मीडिया ने पूरी खबर को दबा दिया। इक्का-दुक्का कुछ न्यूज वेबसाइट्स पर इसका जिक्र मिल जाएगा। लेकिन हर जगह यह पूरा ध्यान रखा गया है कि किसी को पता न चलने पाए कि मारे गए कांस्टेबल दलित थे और आरोपियों को भी यह बात अच्छी तरह से पता था। यह बात भी छिपा ली गई कि हत्यारे शांतिप्रिय समुदाय के लोग हैं। नवभारत टाइम्स ने यह खबर अपनी वेबसाइट पर पोस्ट भी की, लेकिन धर्म और व्रत-त्यौहार के कॉलम के तहत।

Capture

दादरी और ऊना कांड पर पूरे देश में हंगामा खड़ा कर देने वाली मीडिया और पत्रकारों ने मुंबई शहर के बीचो-बीच एक दलित कांस्टेबल की हत्या पर चुप्पी साध रखी है। बुरहान वानी जैसे आतंकवादी को हेडमास्टर का बेटा कहने वाली पत्रकार भी चुप हैं।

मुंबई पुलिस के सभी कर्मचारियों ने अपनी एक दिन की सैलरी शहीद विलास शिंदे के परिवार को देने का एलान किया है।

दलित-मुस्लिम एकता की पोल खुली

हैदराबाद में रोहित वेमुला की खुदकुशी के बाद वामपंथी संगठनों ने दलित और मुस्लिम एकता के नाम पर हिंदू समाज को तोड़ने की कोशिश शुरू कर दी थी। जबकि सच्चाई यही है कि देश भर में दलितों पर अत्याचार के मामलों में बड़ी संख्या मुस्लिमों की भी है। इसके बाद ऊना की घटना के बाद से गुजरात में भी मुस्लिम संगठन खुद को दलितों का हितैषी बनाकर पेश कर रहे हैं। जबकि सच्चाई यह है कि ऊना में दलितों को पीटने वालों में से एक आरोपी मुस्लिम भी है। ऊना की घटना के पीछे गुजरात के एक बड़े कांग्रेसी मुस्लिम नेता की भूमिका भी जांच के दायरे में है। पढ़ें: गुजरात में दलितों की पिटाई में मुसलमान भी थे। शामिल गुजरात के ही गोधरा में पिछले दिनों शांतिदूतों की एक भीड़ ने एक दलित लड़के को पीट-पीटकर अधमरा कर दिया था। उस मामले में भी मीडिया ने कुछ इसी तरह चुप्पी साध ली थी। क्योंकि ऐसी खबरें हिंदू समाज को बांटने के उनके अभियान पर सवाल खड़ी करती हैं। पढ़ें: दलित अत्याचार की यह खबर मीडिया ने दबा क्यों दी!

पहले भी निशाने पर रही है पुलिस

मुंबई में पहले भी पुलिस अक्सर शांतिदूत समुदाय का निशाना बनती रही है। इससे पहले 2012 में म्यांमार में मुसलमानों पर कथित अत्याचार का विरोध करने के नाम पर आजाद मैदान में जमकर हंगामा मचाया गया था। मुस्लिम दंगाइयों ने पुलिसवालों और मीडिया पर हमला बोल दिया था, जिसमें 60 से ज्यादा पुलिस वाले बुरी तरह घायल हुए थे एक दलित महिला कांस्टेबल को दंगाइयों ने बेहद बुरी तरह पीटा था। उस कॉन्स्टेबल की तस्वीरें तब सोशल मीडिया के जरिए देश भर में वायरल हुई थीं। दंगाइयों ने  शहीदों की याद में बने अमर जवान स्मारक को भी तहस-नहस कर दिया था।

azad-maidan-riots-2012

 

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें


कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

अपनी लिखी पोस्ट या जानकारी साझा करें 

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Donate to Newsloose.com

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें

Popular This Week

Don`t copy text!