Home » Loose Top » देश बदल रहा, लेकिन मीडिया बदलाव को तैयार नहीं!
Loose Top

देश बदल रहा, लेकिन मीडिया बदलाव को तैयार नहीं!

धर्मेंद्र के सिंह दिल्ली खेल पत्रकार हैं और दिल्ली के एक बड़े मीडिया समूह से जुड़े हुए हैं।
धर्मेंद्र के सिंह दिल्ली खेल पत्रकार हैं और दिल्ली के एक बड़े मीडिया समूह से जुड़े हुए हैं।
अगर पीएम नरेंद्र मोदी ने पत्रकारों को विदेशी दौरे पर साथ ना ले जाने का फैसला ना किया होता। अगर पत्रकारों का ट्रांसफर-पोस्टिंग का धंधा बंद ना कराया होता। अगर सोनिया गांधी की तरह तथाकथित बड़े पत्रकारों का किचेन कैबिनेट बनाया होता तो यकीन मानिए आज मोदी सरकार की उपलब्धियों को मंत्री नहीं बल्कि वो तमाम पत्रकार गिना रहे होते जिन्हें सत्ता की गलियारे की चकाचौध में रहने की आदत हो गई थी। मेरी नजर में एजेंडा पत्रकारिता पर नकेल कसना ही मोदी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि है। शायद ये पहली सरकार है जो पीत पत्रकारिता के सामने घुटने टेकने से इनकार कर रही है। मौका तो लोकतंत्र के इस चौथे स्तंभ के पास भी है अपनी गलतियों से सबक लेकर फिर से मजबूती से खड़ा होने का। क्योंकि चरित्र सत्ता का ही नहीं बदला है बल्कि उनका भी बदला है जिनका काम आईना दिखाने का था।

60 साल जिन्होंने कांग्रेस से ये पूछने की हिम्मत नहीं की कि क्या ये वही सिस्टम है जिसे देकर वो इतना इतराती है। समाज का यही ताना-बाना कांग्रेस की देन है जिसमें हम इतने सालों बाद भी जाति और धर्म से ऊपर नहीं उठ पाए। गरीब की गरीबी बढ़ती रहे, अमीर का खजाना भरता रहे। हर संस्था दम तोड़ती रही। सरकारी अस्पताल, स्कूल, पोस्ट ऑफिस, एयरलाइन सबके सब घाटे के दबाव में दम तोड़ते रहें। समाजिक कल्याणकारी योजनाएं के पैसे से अधिकारी और नेता करोड़पति होते रहे।

2 साल पहले यही सब मिला था ना इस सरकर को। अब उम्मीदें ऐसी कि दो साल में सब ठीक हो जाए। इनमें से बहुत सारी संस्थाएं जिंदा भी हो गई हैं मगर काम अभी बहुत बाकी है। तो उन कमियों को गिनाइए ना, क्या किया जाना चाहिए वो भी बताइए ना। मगर हर बात को एक शख्स से जोड़कर अपना खुन्नस तो मत दिखाइए। जिम्मेदारी किसी एक पीएम या एक पार्टी नहीं बल्कि हम सबकी है। एक परिवार को जब हमने साल दिए तो उस इंसान को कम से कम 5 साल तो काम करने दीजिए जो बिना आराम किए, हर हमलों को झेलते हुए फिर भी यही कह रहा है कि हमारा देश बदल रहा है, हमारा देश आगे बढ़ रहा है।

देश सचमुच में बदल रहा है। अच्छे के लिए बदल रहा है। इस बदलाव का हिस्सा बनने के लिए हमारे पास सुनहरा मौका है। ना खुद के लिए बल्कि आने वाली पीढ़ियों के लिए भी।

(पत्रकार धर्मेंद्र के सिंह के फेसबुक पेज से साभार)

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...
Don`t copy text!