Home » Loose Health » दवा के नाम पर बिक रहे 500 ‘जहर’ पर पाबंदी
Loose Health Loose Top

दवा के नाम पर बिक रहे 500 ‘जहर’ पर पाबंदी

सरकार ने आज करीब 500 ऐसी दवाओं पर पाबंदी लगा दी है, जिन्हें खाकर फायदे के बजाय लोग अपनी सेहत का सत्यानाश कर रहे थे। इनमें जो सबसे मशहूर दवाएं हैं, वो हैं- विक्स एक्शन 500 एक्स्ट्रा, फिनसेडिल, कोरेक्स और बेनेड्रिल शामिल हैं। (phensedyl, Corex, Benadryl) सरकार ने ऐसी हर दवा पर पाबंदी लगा दी है जिनमें एक तय सीमा से ज्यादा पैरासिटामॉल, फेनिलेफ्राइन या कैफीन को मिलाया जा रहा था। कुछ एंटी-बायोटिक और एनाल्जेसिक्स भी इस लिस्ट में शामिल हैं। पाबंदी वाली लिस्ट में ज्यादातर दवाएं ऐसी हैं, जिनका धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहा था। कई डॉक्टर भी इन्हें बिना सोचे-समझे मरीजों को दे रहे थे।

एक्सपर्ट कमेटी की सिफारिश के आधार पर पाबंदी

सेहत के लिए खतरनाक दवाओं की जांच के लिए तीन साल पहले एक एक्सपर्ट कमेटी बनाई गई थी। इसी कमेटी की सिफारिश के आधार पर ये बैन लगा है। करीब 6000 दवाओं पर ये सर्वे अभी जारी है, आने वाले दिनों में कई और खतरनाक दवाओं पर रोक लग सकती है। एक्सपर्ट कमेटी ने माना है कि ये दवाएं बीमारियों से लड़ने की शरीर की कुदरती क्षमता को खत्म कर रही हैं। कुछ दवाएं फौरन बीमारी को दबा तो देती हैं, लेकिन बाद में वो मल्टीऑर्गन फेल्योर का कारण बन जाती हैं। इसमें शरीर के कई जरूरी अंग जैसे लिवर, किडनी वगैरह अचानक काम करना बंद कर देते हैं।

277422961

बेहद नुकसानदेह विक्स एक्शन 500 एक्स्ट्रा

प्रॉक्टर एंड गैंबल कंपनी की इस दवा में पैरासिटामॉल, फेनिलेफ्राइन और कैफीन होते हैं। 33 साल पहले इस दवा को लॉन्च करने से पहले कंपनी ने जो क्लीनिकल ट्रायल किया था वो भी सवालों में दायरे में आ गया है। कंपनी पर आरोप है कि उसने जोर-शोर से विज्ञापन करके इस जानलेवा दवा को घर-घर की जरूरत बना दिया था।

जॉनसन एंड जॉनसन के प्रोडक्ट भी सवालों में

बेबी प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन के कई सामान भी सवालों के दायरे में हैं। पिछले दिनों अमेरिका में कंपनी पर करीब 500 करोड़ रुपए का जुर्माना हुआ था। कंपनी के पाउडर से एक महिला को कैंसर हो गया था और उसकी मौत भी हो गई। मेडिकल जांच में इस बात की पुष्टि भी हुई थी कि जॉनसन एंड जॉनसन के पाउडर में कैंसर की वजह बनने वाले कुछ केमिकल मिले हुए हैं।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...
Don`t copy text!