Home » Loose Top » प्रशांत भूषण ने पहली बार अरविंद केजरीवाल को दिया जोर का झटका
Loose Top Recent

प्रशांत भूषण ने पहली बार अरविंद केजरीवाल को दिया जोर का झटका

दिल्ली सचिवालय के बाहर गेस्ट टीचरों के विरोध-प्रदर्शन की फाइल फोटो
[corner-ad id=1]आम आदमी पार्टी से निकाले जा चुके वकील प्रशांत भूषण ने पहली बार कोर्ट-कचहरी के मामले में अरविंद केजरीवाल को टेंशन दी है। मामला गेस्ट टीचरों की पक्की नौकरी का है। केजरीवाल ने चुनाव के दौरान वादा किया था कि वो गेस्ट टीचरों की नौकरी पक्की कर देंगे। दिल्ली में करीब 10 हजार गेस्ट टीचर हैं। बजट में सरकार के इस फैसले के खिलाफ कोर्ट में दो याचिकाएं की गई थीं। प्रशांत भूषण ने इन दोनों का केस लड़ने का फैसला किया है।kejriwal pb
दिल्ली सरकार ने वादा किया है कि गेस्ट टीचरों के लिए अलग से भर्ती परीक्षा कराई जाएगी और उसके जरिए उनकी नौकरी पक्की कर दी जाएगी। प्रशांत भूषण ने इसके खिलाफ लीगल नोटिस दिया है। उन्होंने कहा है कि इससे टीचर की नौकरी के लिए क्वालीफाइड बाकी कैंडिडेट्स के साथ नाइंसाफी होगी। दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया को भेजे लीगल नोटिस में इस गड़बड़ी को ठीक करने के लिए 7 दिन दिए गए हैं, वरना वो कोर्ट चले जाएंगे। दिल्ली सरकार ने 20 हजार टीचरों की भर्ती का प्रॉसेस शुरू किया है। इसके लिए टेस्ट बहुत जल्द होने वाला है।
उधर, दिल्ली सरकार और आम आदमी पार्टी के नेता कह रहे हैं कि प्रशांत भूषण का ये कदम अपनी खीझ निकालने वाला है। वो पहले भी सरकार के कामकाज में रुकावट पैदा कर रहे थे और अब भी वही काम कर रहे हैं। अगर मामला कोर्ट में चला गया तो दिल्ली में टीचरों की भर्ती का काम लटक जाएगा। इसका असर केजरीवाल के उस ग्रैंड प्लान पर पड़ेगा, जिसके तहत उन्होंने दिल्ली में एक साल में 236 नए स्कूल खोलने का एलान किया था।

CKu832HUsAAgEWr
IBN7 न्यूज चैनल पर गेस्ट टीचरों के प्रदर्शन की कवरेज की एक तस्वीर
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...
Don`t copy text!