Samrendra Singh

एनडीटीवी के अंदर की कहानी, पूर्व पत्रकार की जुबानी

“अगर कोई “खबर” से हट कर “कुछ करना” चाहता है तो उसके लिए बाहर जाने के रास्ते खुले हुए हैं” – डॉ प्रणय रॉय की यह बात आज भी कानों में गूंजती है। ऐसे लगता है कि जैसे यह घटना…