Justice TS Thakur

जज कम हैं, लेकिन सुप्रीम कोर्ट की छुट्टियां बढ़ गईं!

एक तरफ देश में जजों की कमी का रोना रोया जा रहा है, दूसरी तरफ अदालतों की छुट्टियां बढ़ती जा रही हैं। देश की सबसे ऊंची अदालत सुप्रीम कोर्ट में इस साल पिछले साल के मुकाबले ज्यादा छुट्टियां रहेंगी। पूरे…

एक अपील: देश और हिंदुओं के खिलाफ पत्रकारिता के इस दौर में न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

मी लॉर्ड… कब तक जज के बेटे जज बनते रहेंगे?

जिस तरह से नेता का बेटा नेता बनता है, क्या उसी तरह हमारे देश में जज का बेटा जज बनता है? यह सवाल पिछले कुछ समय से लगातार उठ रहा है। न्यायपालिका में भाई-भतीजावाद और कुछ जगहों पर भ्रष्टाचार के…

एक अपील: देश और हिंदुओं के खिलाफ पत्रकारिता के इस दौर में न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

किसी भी सुधार के लिए तैयार नहीं हैं अदालतें?

सुप्रीम कोर्ट की कोलेजियम ने न्यायपालिका में सुधार के केंद्र सरकार के सारे सुझावों को नामंजूर कर दिया है। केंद्र ने सुझाव दिया था कि जजों की नियुक्ति में मेरिट यानी योग्यता को थोड़ा और अहमियत दी जानी चाहिए। लेकिन…

एक अपील: देश और हिंदुओं के खिलाफ पत्रकारिता के इस दौर में न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

इंसाफ के लिए इंतज़ार करो, मी लॉर्ड छुट्टी पर हैं!

देश में गर्मी की छुट्टियां चल रही हैं, लेकिन सरकारें काम कर रही हैं। दफ्तरों में अफसर से लेकर चपरासी तक सुबह से शाम तक काम कर रहे हैं। भयानक गर्मी के बावजूद पुलिस सड़कों पर और फौजी बॉर्डर पर…

एक अपील: देश और हिंदुओं के खिलाफ पत्रकारिता के इस दौर में न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

सुप्रीम कोर्ट की छुट्टियां देख आपको भी रोना आएगा!

अदालतों में काम के बोझ का जिक्र करते-करते देश के चीफ जस्टिस रो पड़े। ये देखकर हर किसी के मन में सवाल आता है कि क्या वाकई स्थिति इतनी खराब है। मुख्य न्यायाधीश टीएस ठाकुर का यह कहना बिल्कुल सही…

एक अपील: देश और हिंदुओं के खिलाफ पत्रकारिता के इस दौर में न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें: