Loose Views

एनडीटीवी वाले रवीश पांडेय, हाँ हाँ वही रवीश कुमार, को पीड़ित दलित लड़की की चिट्ठी। बलात्कार के आरोपी सगे बड़े भाई के नाम पर। “सिर्फ नाम बदला है इस बार वरना मैं वही दलित लड़की हूँ जो बार बार तुम्हारी…



चुनाव तो इधर हैं, राहुल बाबा किधर हैं?

इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और संजय गांधी की कोटरी का अहम सदस्य रहे एक पुराने कांग्रेस नेता से बात हो रही थी। मैंने कहा- “राहुल गांधी सियासत में सीरियस ही नहीं हैं।” उन्होंने कहा- “ऐसा आप किस आधार पर कह…



हिंदुस्तानियों को मुंह चिढ़ाते हुए पैदा हुआ है तैमूर!

नवाब पटौदी के बेटे सैफ अली खान और राज कपूर की पोती करीना का बेटा तैमूर कहलाएगा। वैसे तो किसी मां-बाप को अपनी संतान का नाम रखने का पूरा हक है। लेकिन जो कहते हैं नाम में क्या रखा वो…



मोदी के नाम यह चिट्ठी पढ़ रौंगटे खड़े हो जाएंगे!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर की रात जो गहरी लकीर खींची है, उस लकीर के एक तरफ अब तीन फीसदी लोग हैं और दूसरी तरफ सारा देश। मुझे विश्वास है कि इस लकीर को आपने अचानक नही खींचा। उससे…



क्या देवगौड़ा और गुजराल से भी खराब पीएम हैं मोदी?

ढाई साल के कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनधन एकाउंट से लेकर नोटबंदी तक कोई 70 बड़े फैसले लिए हैं। हो सकता है इनमें अधिकतर फैसले गलत हों लेकिन कम से कम एक-दो फैसले तो देशहित में ज़रूर लिए…



केजरीवाल को एक चार्टर्ड एकाउंटेंट का ओपन लेटर

आदरणीय केजरीवाल जी, मेरी उम्र 28 साल में है और मैं सूरत में चार्टर्ड एकाउंटेंट की प्रैक्टिस करता हूं। जब 500 और 1000 के नोट पर रोक लगी तो मुझे सबसे ज्यादा आपसे उम्मीद थी कि आप इसका समर्थन करेंगे,…



मोदी जी देश के नेताओं और मीडिया पर रहम कीजिए!

अगर भाइयों में झगड़ा ना हों, अगर बहन से मतभेद न हों और फिर भी उन्हें प्रधानमंत्री के दफ्तर से एक हज़ार किलोमीटर दूर रखा जा रहा है तो ये मानना होगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में इच्छाशक्ति है। आगे…



सिमी के जिहादियों को मारते नहीं तो क्या करते?

भोपाल में जेल से भागे सिमी के 8 जिहादी आतंकवादियों की मौत पर मचे अखिल भारतीय मातम को देखकर हैरान हूं। रोना-धोना देखकर तो यही लग रहा है कि कुछ बुद्धिजीवी, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के नेता इन 8…



तीन तलाक और काले बुर्के में बंद वो दो आंखें!

मैं आजकल जहां मुस्लिम लोगों को देखती हूँ, इजाजत लेकर उनसे बात करने बैठ जाती हूँ। शुरूआती कुछ दिन मैं गुस्से में होती थी, उन पर उनके धर्म पर इलज़ाम लगाकर शुरुआत करती थी। मैं मुस्लिम औरतों की दुर्दशा पर…



करवा चौथ पर बरखा दत्त के नाम एक ओपन लेटर!

प्रिय बरखा दत्त, करवा चौथ आ गया है और आपकी तरह मैं इस साल भी व्रत नहीं रखने वाली। मज़े की बात ये है कि मैं इसके खिलाफ नहीं हूँ उल्टा मुझे बहुत अच्छा लगता है कि कैसे सब सज-धज…



अगला नास्तिक सम्मेलन वेटिकन या मक्का में करें?

श्रद्धेय स्वामी बालेंदु जी, वैसे तो आपके नाम से खुला पत्र लिखना ही आपको सम्मान देना है, क्योंकि इससे पहले कोई आपको जानता नहीं था। इसलिए आपकी प्रशंसा में ज्यादा कुछ नहीं लिख रहा। वृंदावन में आपके द्वारा आयोजित नास्तिक…



केजरीवाल जी, सिख गुरुओं का बलिदान छोटा क्यों है?

हम सभी जानते हैं कि अरविंद केजरीवाल ‘अल्पसंख्यक’ वोट बैंक के लिए कुछ भी कर सकते हैं। लेकिन इस बार उन्होंने सारी हदें तोड़ डालीं। अरविंद केजरीवाल ने मुहर्रम के मौके पर ट्वीट किया कि इमाम हुसैन ‘मानवता के सबसे…



ओम पुरी जी, आप बिल्कुल सही कहते हो…

सही कहा ओम पुरी जी… किसने कहा इनसे फ़ौज में भर्ती हो जाओ, वैसे भी हमारे श्री कन्हैया कुमार तो कह ही चुके हैं कि जब कुछ काम नहीं मिलता तो फ़ौज में जवान बन जाते हैं। ये फौजी भी…



कपिल मिश्रा, क्या इन तीनों को देशद्रोही मानते हो?

कई साल पहले जब गुजरात गए केजरीवाल को तब सीएम रहे नरेंद्र मोदी ने मिलने का भी वक्त नहीं दिया तो मुझे बेहद कोफ्त हुई थी, लगा ये सामान्य शिष्टाचार के खिलाफ है अगर आपको सवालों के जवाब नहीं देना…



सिंधु नदी के पानी के मुद्दे पर एनडीटीवी से 10 सवाल

पाकिस्तान के साथ सिंधु नदी जल समझौता तोड़ने की बात उठते ही मीडिया के एक तबके ने हाय-तौबा मचा दी है। खास तौर पर एनडीटीवी के पत्रकार कुछ इस तरह परेशान हैं मानो इससे उनके घर का पानी बंद हो…



अब मूंछों पर ताव दे कर जंग नहीं जीती जाती!

  पहले कोजीकोड फिर मन की बात दोनों में मोदी जी ठीक वैसे ही बोले जैसे किसी देश के प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति बोलते हैं। या फिर 1947 से जैसे भारत के प्रधानमंत्री सार्वजनिक मंचों पर बोलते रहे हैं। इसमें हैरानी…



तय कर लीजिए हमला मोदी पर हुआ है या भारत पर…

कई लोग तालियां बजा बजा कर 56 इंच के सीने की बात उठा रहे हैं तो कुछ लव लेटर लिखने वाला डॉयलॉग दोहरा रहे हैं, यही तो मौका है इन बातों को याद दिलाने का, पर पूछना चाहूंगा मोदी से…



वो ही लड़ाई चाहते हैं, जो पैलेट गन पर रो रहे थे!

कुछ लोग फेसबुक पर ऐसे उछल रहे हैं जैसे पाकिस्तान पर हमला होने पर ये खुद ही बंदूक लेकर मैदान में उतर जाएंगे। पिछले 2 साल से हर मुद्दे पर 56 इंच का सीना देखने को बेताब यही लोग पैलेट…



‘युद्धोन्माद मत फैलाएं, देश की सरकार पर यकीन रखें

हर कोई इंतक़ाम की आग में सुलग रहा है. टीवी पर बाल बिखऱा कर देश की चिंता में घुल रहे पत्रकारों, हाथ उठा-उठा कर युद्ध का आहवान कर रहे रक्षा जानकारों की अब चिंता हो रही है. टीवी पर चल…



क्या वाकई तीन बीघा जमीन में इंसाफ बिक गया!

28 जून 1996 को मेरे बड़े भाई मनोज राय की बिहार के बक्सर में दिन के 10 बजे गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। करीब 20 साल और ढाई महीने के बाद बक्सर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने हत्यारों को निर्दोष…



‘माफ कीजिए… मैं बकरीद मुबारक नहीं बोल सकता’

मेरे एक प्रिय मुस्लिम भाई ने शिकायत की कि देश-दुनिया के मुद्दों पर तो आप ख़ूब लिखते हैं, लेकिन हमें बकरीद की शुभकामनाएं तक नहीं दीं। क्या आप मुसलमानों को अपना भाई-बहन नहीं मानते? मुझे लगा कि यह एक ऐसा…



चीफ जस्टिस साहब, चंदा बाबू के लिए कौन रोयेगा?

बताइए तो एक शरीफ आदमी को इतने-इतने साल जेल में रखना कहां तक मुनासिब है? जिन लोगों ने भी शहाबुद्दीन साहब की जमानत और रिहाई का रास्ता प्रशस्त किया, वे तमाम लोग संयुक्त रूप से अगले भारत रत्न के हकदार…



विदेश में खुद को ‘भारतीय’ क्यों बताते हैं पाकिस्तानी!

मैंने गौर किया है कि पश्चिमी देशों में रहने वाले ज्यादातर पाकिस्तानी खुद को ‘भारतीय’ या ‘साउथ एशियन’ कहलाना पसंद करते हैं। आखिर क्या बात है कि उन्हें खुद को पाकिस्तानी बताने में शर्म आती है? पिछले कुछ साल में…



रिलायंस जियो के सिम पर ‘बहुत क्रांतिकारी’ विचार

पुण्य प्रसून वाजपेयी आजतक न्यूज चैनल का पत्रकार उर्फ ‘क्रांतिकारी अंकल’ परसों बड़े बैचेन थे। मुकेश अंबानी की घोषणाओं के बाद। रिलायंस जियो के सदमे में हाथ मलते हुए मासूमियत से पूछ रहे थे ‘नेट सस्ता होने से, कॉलिंग फ्री…



केजरीवालजी, आप मोहल्ला क्लीनिक क्यों नहीं जाते?

  दिल्ली के स्वयंभू प्रधानमंत्री अरविंद केजरीवाल जी के नाम एक ओपन लेटर सर, सुबह अखबार में पढ़ा कि दिल्ली को मझधार में छोड़ आप एक बार फिर से बैंगलोर रवाना हो गए हैं। यह भी सुना कि इस बार आप…



देशद्रोह कानून और ‘कांग्रेसी’ पत्रकारों का शातिर खेल

अगस्त 2015 में आए नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के मुताबिक़, साल 2014 में देशभर में 58 लोग, देशद्रोह कानून के तहत गिरफ्तार किए गए. इनमें 55 पुरूष थे और 3 महिलाएं. इनमें भी 16 मामले बिहार के थे,…



काश हमें भी सिंधु, मरीन जैसे जीतना-हारना आता!

हम बदनसीब, टेलीविजन के इस पवित्र दृश्य को अपने पेशे में कहां देख पाएंगे? ये कोई मास्टरी की नौकरी के लिए इंटरव्यू और परिणाम थोड़े ही न था कि सिंधु सेलेक्ट हुई प्रतिभागी कैरोलीना मरीन का नाम घृणा से लेकर…



जाट तो जाहिल, गंवार हैं… औरतों को घर में रखते हैं!

जाट जाहिल हैं… गँवार हैं….लुटेरे हैं… पुरुष प्रधान हैं… बात-बेबात बंदूक उठा लेते हैं… लड़कियों को घर की चारदीवारी में कैद रखते हैं… बेटियों की पढ़ाई छुड़वा देते हैं… दारूबाज हैं… बदमाश हैं… और हरियाणा में आंदोलन के बाद अब…



‘मोदी को आपका सपोर्ट चाहिए… पहले से भी ज्यादा’

मार्क टली भारत में कई साल तक बीबीसी के संवादाता रहे हैं। न केवल विदेशी पत्रकारों में उनका विशिष्ट स्थान है बल्कि वो सर्वाधिक सम्मानित भी हैं। मार्क टली ने अपनी हालिया किताब “No Full Stops In India” में भारत…



सलमान खुर्शीद पाकिस्तानी एजेंट नहीं तो और क्या हैं?

सलमान खुर्शीद ने पिछले साल नवंबर में पाकिस्तान जाकर भारत विरोधी बयान दिया था। कहा था कि “भारत ने पाकिस्तान के अमन के पैगाम का उचित जवाब नहीं दिया। मोदी अभी नए हैं और स्टैट्समैन कैसे बना जाता है, यह…



मीम-भीम एकता पर एक मुस्लिम महिला के चंद सवाल

मुझे बड़ी खुशी होती है उन मुसलमानों को देख कर जो आज कल दलितों की चिंता में दुबले हुऐ जा रहे हैं। जब ये दलितों के लिए ब्राह्मणों से रोटी-बेटी का हक माँगते हैं तो गर्व से भर जाती हूँ…



शाहरुख हमें पता है भारत होता तो आप क्या करते!

शाहरुख खान के दुनिया में करोड़ों प्रशंसक हैं और उनके सुपरस्टार होने के सच से अमेरिका भी वाकिफ है, तो भी वे न्यूयार्क हवाई अड्डे पर बार-बार एमिग्रेशन जांच, तलाशी और रोकटोक के शिकार बन ही जाते हैं। एक बार…



मत देना मोदी को वोट… बेकार हल्ला मत करो!

  मत देना रे मोदी को वोट अगली बार… पर बेकार में हल्ला मत करो। ये तुम हल्ला करने वालो में से 70 फीसदी ने मोदी को वोट दिया भी नहीं था। तुम डरपोक कौम को एक लाख को 10…



टीवी एंकर कब्ज का मारा और एक दर्शक बेचारा

  पहले ज़ी न्यूज़ पर थे, अभी आईबीएन-7 पर हैं। थोड़ी देर पहले टीवी देखते-देखते मीठी गुनगुनी नींद आंखों में उतर आई। ढीले पड़ गये, हाथ से रिमोट छूट गया। नींद की सुकूनदायी जद में 20 मिनट भी नहीं रहा…



एक दलित स्कॉलर ने खोली ‘दलित-मुस्लिम एकता’ की पोल

बहुत कम लोगों का ध्यान इस पर गया कि 2016 में दूसरे विश्व युद्ध के बाद हुए सबसे बड़े नरसंहार के 45 साल पूरे हो रहे हैं। यह नरसंहार भारतीय उपमहाद्वीप के बांग्लादेश में हुआ था। ये जगह उन दिनों…



बुलंदशहर बलात्कार कांड को यह ‘मौन समर्थन’ क्यों!

डेढ़ दशक पुरानी बात है। अमर उजाला मेरठ में उपसंपादक ने एक खबर संपादित की। हेडिंग लगाई- दलित लड़की से बलात्कार। संपादक जी ने पूछा-इस हेडिंग का क्या मतलब है। उपसंपादक ने कहा-सर, इसमें गलत क्या है। संपादक बोले-क्या बलात्कार…



बुलंदशहर के बलात्कारी को भी दलित-शोषित माना जाए?

माननीय मुलायम सिंह यादव से पूछो कि जो बुलंदशहर में हुआ है, वह गैंगरेप की श्रेणी में आता है कि नहीं? जब माननीय मुलायम सिंह गैंगरेप की पुष्टि कर दें, तब पूर्व बहनजी एवं वर्तमान देवीजी मायावती से भी पूछो…



एनडीटीवी के एक पत्रकार की चिट्ठी ‘संपादक’ के नाम

एक ख़त मेरी तरफ से भी, जो चारों तरफ से खुला है हे संपादक जी, गंभीर संकट है। इस देश में सरकार का मतलब लोकतंत्र है, मोदी समर्थन का मतलब राष्ट्रधर्म है, दलित-मुस्लिम समर्थन का मतलब प्रगतिशीलता-धर्मनिरपेक्षता है। सर, आप…



कश्मीर को हीलिंग टच चाहिए, बाकी देश को क्या चाहिए?

कश्मीर में गुलाम नबी आज़ाद हीलिंग टच की बात कर रहे थे। 70 साल से वहां हीलिंग टच ही हो रहा था। अगर किसी की फीलिंग में ही प्रॉब्लम हो, तो कब तक हीलिंग करें? हीलिंग करते-करते तो दो-दो पाकिस्तान…



कश्मीर के बहाने क्या चाहती है मीडिया की ये जमात?

कश्मीर सिर्फ जिहाद के लिए नहीं, इस देश के लिए भी आखिरी किला है। कश्मीर के लिए एअर कंडीशंड रूम में आंसू बहाने वाले हकीकत से उतने ही दूर है जितना दूर चांद से हैं। चांद पर भी बस्तियां हो,…



रवीश जी आपका पाखंड भी देश देख रहा है

झूठे तथ्यों को आगे रखकर कैसे तय एजेंडे के तहत चर्चा की जाती है, इसका एक नमूना अभी रवीश कुमार के प्राइम टाइम में देखने को मिला। जब मैंने चर्चा देखनी शुरू की तो स्टूडियो में मौजूद संवाददाता इकबाल बता…



जन्नत की हूरों के बारे में जाकिर नाईक को खुला पत्र

परम आदरणीय जनाब-ए-आला स्कॉलर श्री ज़ाकिर नाइक साहब, इस्लाम और दुनिया के तमाम धर्मों के बारे में आपके ज्ञान को देखकर चकित हूं। लेकिन एक हज़ार मुद्दों पर जानकारी लेने में मेरी दिलचस्पी कम है। मैं तो बस जन्नत की…



क्या अल्लाह अपनी संतानों के खून से खुश होगा?

ईद के दिन हुए हमले के बाद बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने एक बार फिर कहा है कि “जो लोग ईद के दौरान भी हमले कर रहे हैं, वे इस्लाम और मानवता के दुश्मन हैं।” ईद और रमज़ान का…



रवीश जी, एक खुली चिट्ठी बरखा दत्त को भी भेजो

देश में दलालों की, खासकर पत्रकार के भेष में दलालों की कोई कमी नहीं है। मगर दलाली में डूबे चैनल का पत्रकार अगर किसी पत्रकार के मंत्री बनने पर सवाल उठाता है, खुली चिट्ठी लिखता है तो हंसी के साथ…



जिंदा रहना है तो कुरान की आयतें याद कर लो काफिरों

गीता, रामायण तो याद जब मर्जी करते रहना लेकिन कुरान की आयतें जरूर याद कर लो। खुदा न खास्ता कभी शांतिदूतों के बीच फँस गए तो सही सलामत तो निकल जाओगे कुरान की आयते सुना कर। नहीं तो बांग्लादेश में…



आइने में शक्ल देखे इस्लाम… डरावनी हो चली है!

हमारे जम्मू-कश्मीर राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना की इस बात के लिए तारीफ़ की जानी चाहिए कि उन्होंने उस सच्चाई को कबूल करने का साहस दिखाया है, जिसे तुष्टीकरण की राजनीति करने वाले हमारे…



इरफान खान आप तो सस्ते में ही छूट गए!

इरफान खान ने एक बयान दिया, क्या गलत कर दिया? वो क्या कहते हैं फ्रीडम ऑफ स्पीच है कि नहीं? हम्म्म… नहीं है… है है…। याद आया! जब दिवाली पर पटाखे नहीं जलाने की अपील होती है तो फ्रीडम ऑफ…



मोदी की रणनीति समझने के लिए बुद्धि की ज़रूरत है

प्रिय भारतवासियों… सब क्या सोच रहे हो कि NSG मामले मे अकेले चीन के विरोध के चलते भारत को हार का सामना करना पड़ा? क्या भारत का विरोध और किसी भी देश ने नही किया? नहीं… मित्रों, ऐसा नहीं है……



रवीश जी, आपको अपने गांव की ‘निर्भया’ नहीं दिखती?

बिहार के एक स्वनामधन्य जनता के पत्रकार जिनका माइक तुरंत निठारी तो पहुँच जाता है लेकिन बिहार में वो अपने ही गांव जहाँ वो खुद पैदा हुए वहां की निर्भया को देखने… उसे बचाने और उसके साथ बर्बरता के साथ…



राना अयूब की ‘फंतासी’ के पीछे फंडिंग किसकी?

पत्रकार राना अयूब की किताब गुजरात फाइल्स (GUJARAT FILES) पढ़ते हुए मन में कुछ सवाल पैदा हो रहे हैं। पहला यह कि तकरीबन पांच साल पहले गुजरात दंगों को लेकर किया गया स्टिंग मोदी सरकार के दो साल पूरे होने…



मुसलमानों को गुमराह करने के लिए है योग का विरोध

हम ईद की ख़ुशियों और मोहर्रम के मातम में शरीक होकर मुस्लिम नहीं बन गए। हमारे मुसलमान भाई हमारी होली और दिवाली में शरीक होकर हिन्दू नहीं बन गए। लेकिन देश के सियासतदान हमें पढ़ा रहे हैं कि अगर मुसलमान…



चेतन चौहान नहीं तो क्या केजरीवाल को बनाएं चेयरमैन

  अरविंद केजरीवाल का पत्रकार दोस्त न्यूजपेपर में लिखता है और केजरीवाल उसे ट्वीट कर किसी भी विवाद को हवा देते हैं। मोदी विरोधियों की पेशेवर फौज सोशल मीडिया पर हल्ला बोल देती है। बिना यह सोचे-समझे कि आरोप किस…