जानिए चुनाव में कौन मीडिया समूह किस पार्टी के साथ खड़ा है

यूं तो मीडिया को निष्पक्ष और दलगत राजनीति से ऊपर होना चाहिए, लेकिन यह एक कोरी-कल्पना है जिसका सच से कोई लेना-देना नहीं है। वास्तविकता यह है कि सारे...

प्रियंका वाड्रा के ओपन लेटर पर यूपी वाले भइया का जवाब

मेरी प्यारी प्रियंका दीदी, आपका खुला हुआ पत्र मिला। पहले लगा कि डाकिये ने पहले ही खोलकर पढ़ लिया। फिर पता चला कि आपने खुला हुआ ही भेजा। वैसे दीदी...

सही बताना रवीश कुमार, आप मोदी के आदमी तो नहीं?

रवीश कुमार जी का सबसे बेहतरीन काम माना जाता है बिहार विधानसभा चुनाव, जिसमें उन्होंने आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत के एक बयान को आधार बनाकर नरेंद्र...

Category - Loose Views

Loose Views

चलो रवीश को बचाएं, दलित बच्ची को बदनाम करें!

ज़बरदस्ती में भाई लोग एनडीटीवी वाले रवीश पांडेय के पीछे पड़ गए हैं। अरे भई, हाँ। रवीश कुमार। अब खानदानी नाम रवीश पांडेय है तो क्या हुआ? सेक्युलर हैं। सर्वहारा...

Loose Views

अखिलेश यादव का अहंकार और रिपोर्टर की हैसियत

जब मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मुझसे कहा तुम पहले आदमी नहीं हो “आजतक” से और तुम्हारी हैसियत क्या है?? इटावा के सैफई में अभिनव स्कूल मतदान केंद्र पर...

Loose Views

यूपी वालों जाति छोड़ो, या पूरे जातिवादी हो जाओ!

22 करोड़ की आबादी वाले यूपी में यूं तो 13 प्रतिशत ब्राह्मण हैं लेकिन 9 प्रतिशत यादव पिछले 27 साल से देश के सबसे बड़े राज्य के भाग्य विधाता बने हुए है। यूपी में...

Loose Views

मीडिया भूल गई, यूपी के लोग नहीं भूलेंगे बीते 5 साल!

अगस्त 2013 की एक रात जब यूपी के मुज़फ्फरनगर जल रहा था तब जातिगत आधार पर शहर से डीएम और एसएसपी को एक फ़ोन पर एक साथ हटा दिया गया। अगले तीन घंटों में नए अफसरों के...

Loose Views

अखिलेश यादव आप ही हो ‘गुंडों’ के असली नेताजी!

तो अखिलेश भैया। पिता और चाचा के किनारे होते ही। आपके भी समाजवाद की तस्वीर साफ हो गई। क्या लड़े थे आप! अतीक़ अहमद। मुख़्तार अंसारी। डीपी यादव। जैसे डॉन टाइप के...

Loose Views

हिंदू धर्म में जूतामार आंदोलन का समय आ चुका है!

देश के भ्रष्ट नेताओं ने जिस समर्पण के साथ महात्मा गांधी की खादी को कलंकित किया है, उसी निर्लज्ज और निःसंकोच समर्पण के साथ कुछ फर्जी बाबा हिंदू धर्म और इसकी...

Loose Views

जल्लीकट्टू के बाद क्या बकरीद भी बंद होगी?

पिछले साल ढाका की सड़कों पर बकरीद के मौके पर खून की नदी बहते सभी ने देखा। भारत में ऐसी नदी नहीं बही, क्योंकि हमारे यहाँ बारिश नहीं हुई और होती भी तो हमारा सीवेज...

Loose Views

रवीश जी, पीएम के भाई से कार में तेल भरवाइएगा?

एक वक़्त था जब प्रोफेसर राम गोपाल यादव के पास साइकिल खरीदने के पैसे नही थे लेकिन आज वो चार्टर्ड प्लेन से उड़ते हैं। मुलायम के छोटे भाई शिवपाल की तंगहाली का आलम...

Loose Views

चुनाव तो इधर हैं, राहुल बाबा किधर हैं?

इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और संजय गांधी की कोटरी का अहम सदस्य रहे एक पुराने कांग्रेस नेता से बात हो रही थी। मैंने कहा- “राहुल गांधी सियासत में सीरियस ही...

Loose Views

हिंदुस्तानियों को मुंह चिढ़ाते हुए पैदा हुआ है तैमूर!

नवाब पटौदी के बेटे सैफ अली खान और राज कपूर की पोती करीना का बेटा तैमूर कहलाएगा। वैसे तो किसी मां-बाप को अपनी संतान का नाम रखने का पूरा हक है। लेकिन जो कहते हैं...

Loose Views

मोदी के नाम यह चिट्ठी पढ़ रौंगटे खड़े हो जाएंगे!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर की रात जो गहरी लकीर खींची है, उस लकीर के एक तरफ अब तीन फीसदी लोग हैं और दूसरी तरफ सारा देश। मुझे विश्वास है कि इस लकीर को...

Loose Views

क्या देवगौड़ा और गुजराल से भी खराब पीएम हैं मोदी?

ढाई साल के कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनधन एकाउंट से लेकर नोटबंदी तक कोई 70 बड़े फैसले लिए हैं। हो सकता है इनमें अधिकतर फैसले गलत हों लेकिन कम से...

Loose Top Loose Views

केजरीवाल को एक चार्टर्ड एकाउंटेंट का ओपन लेटर

आदरणीय केजरीवाल जी, मेरी उम्र 28 साल में है और मैं सूरत में चार्टर्ड एकाउंटेंट की प्रैक्टिस करता हूं। जब 500 और 1000 के नोट पर रोक लगी तो मुझे सबसे ज्यादा आपसे...

Loose Views

मोदी जी देश के नेताओं और मीडिया पर रहम कीजिए!

अगर भाइयों में झगड़ा ना हों, अगर बहन से मतभेद न हों और फिर भी उन्हें प्रधानमंत्री के दफ्तर से एक हज़ार किलोमीटर दूर रखा जा रहा है तो ये मानना होगा कि...

Loose Views

सिमी के जिहादियों को मारते नहीं तो क्या करते?

भोपाल में जेल से भागे सिमी के 8 जिहादी आतंकवादियों की मौत पर मचे अखिल भारतीय मातम को देखकर हैरान हूं। रोना-धोना देखकर तो यही लग रहा है कि कुछ बुद्धिजीवी...

Loose Views

तीन तलाक और काले बुर्के में बंद वो दो आंखें!

मैं आजकल जहां मुस्लिम लोगों को देखती हूँ, इजाजत लेकर उनसे बात करने बैठ जाती हूँ। शुरूआती कुछ दिन मैं गुस्से में होती थी, उन पर उनके धर्म पर इलज़ाम लगाकर शुरुआत...

Loose Views

करवा चौथ पर बरखा दत्त के नाम एक ओपन लेटर!

प्रिय बरखा दत्त, करवा चौथ आ गया है और आपकी तरह मैं इस साल भी व्रत नहीं रखने वाली। मज़े की बात ये है कि मैं इसके खिलाफ नहीं हूँ उल्टा मुझे बहुत अच्छा लगता है कि...

Loose Views

अगला नास्तिक सम्मेलन वेटिकन या मक्का में करें?

श्रद्धेय स्वामी बालेंदु जी, वैसे तो आपके नाम से खुला पत्र लिखना ही आपको सम्मान देना है, क्योंकि इससे पहले कोई आपको जानता नहीं था। इसलिए आपकी प्रशंसा में ज्यादा...

Loose Views

केजरीवाल जी, सिख गुरुओं का बलिदान छोटा क्यों है?

हम सभी जानते हैं कि अरविंद केजरीवाल ‘अल्पसंख्यक’ वोट बैंक के लिए कुछ भी कर सकते हैं। लेकिन इस बार उन्होंने सारी हदें तोड़ डालीं। अरविंद केजरीवाल ने...

Loose Views

ओम पुरी जी, आप बिल्कुल सही कहते हो…

सही कहा ओम पुरी जी… किसने कहा इनसे फ़ौज में भर्ती हो जाओ, वैसे भी हमारे श्री कन्हैया कुमार तो कह ही चुके हैं कि जब कुछ काम नहीं मिलता तो फ़ौज में जवान बन...

Loose Views

कपिल मिश्रा, क्या इन तीनों को देशद्रोही मानते हो?

कई साल पहले जब गुजरात गए केजरीवाल को तब सीएम रहे नरेंद्र मोदी ने मिलने का भी वक्त नहीं दिया तो मुझे बेहद कोफ्त हुई थी, लगा ये सामान्य शिष्टाचार के खिलाफ है अगर...

Loose Views

सिंधु नदी के पानी के मुद्दे पर एनडीटीवी से 10 सवाल

पाकिस्तान के साथ सिंधु नदी जल समझौता तोड़ने की बात उठते ही मीडिया के एक तबके ने हाय-तौबा मचा दी है। खास तौर पर एनडीटीवी के पत्रकार कुछ इस तरह परेशान हैं मानो...

Loose Views

अब मूंछों पर ताव दे कर जंग नहीं जीती जाती!

  पहले कोजीकोड फिर मन की बात दोनों में मोदी जी ठीक वैसे ही बोले जैसे किसी देश के प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति बोलते हैं। या फिर 1947 से जैसे भारत के...

Loose Views

तय कर लीजिए हमला मोदी पर हुआ है या भारत पर…

कई लोग तालियां बजा बजा कर 56 इंच के सीने की बात उठा रहे हैं तो कुछ लव लेटर लिखने वाला डॉयलॉग दोहरा रहे हैं, यही तो मौका है इन बातों को याद दिलाने का, पर पूछना...

Loose Views

वो ही लड़ाई चाहते हैं, जो पैलेट गन पर रो रहे थे!

कुछ लोग फेसबुक पर ऐसे उछल रहे हैं जैसे पाकिस्तान पर हमला होने पर ये खुद ही बंदूक लेकर मैदान में उतर जाएंगे। पिछले 2 साल से हर मुद्दे पर 56 इंच का सीना देखने को...

Loose Views

‘युद्धोन्माद मत फैलाएं, देश की सरकार पर यकीन रखें

हर कोई इंतक़ाम की आग में सुलग रहा है. टीवी पर बाल बिखऱा कर देश की चिंता में घुल रहे पत्रकारों, हाथ उठा-उठा कर युद्ध का आहवान कर रहे रक्षा जानकारों की अब चिंता...

Loose Views

क्या वाकई तीन बीघा जमीन में इंसाफ बिक गया!

28 जून 1996 को मेरे बड़े भाई मनोज राय की बिहार के बक्सर में दिन के 10 बजे गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। करीब 20 साल और ढाई महीने के बाद बक्सर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट...

Loose Views

‘माफ कीजिए… मैं बकरीद मुबारक नहीं बोल सकता’

मेरे एक प्रिय मुस्लिम भाई ने शिकायत की कि देश-दुनिया के मुद्दों पर तो आप ख़ूब लिखते हैं, लेकिन हमें बकरीद की शुभकामनाएं तक नहीं दीं। क्या आप मुसलमानों को अपना...

Loose Views

चीफ जस्टिस साहब, चंदा बाबू के लिए कौन रोयेगा?

बताइए तो एक शरीफ आदमी को इतने-इतने साल जेल में रखना कहां तक मुनासिब है? जिन लोगों ने भी शहाबुद्दीन साहब की जमानत और रिहाई का रास्ता प्रशस्त किया, वे तमाम लोग...

Loose Views Loose World

विदेश में खुद को ‘भारतीय’ क्यों बताते हैं पाकिस्तानी!

मैंने गौर किया है कि पश्चिमी देशों में रहने वाले ज्यादातर पाकिस्तानी खुद को ‘भारतीय’ या ‘साउथ एशियन’ कहलाना पसंद करते हैं। आखिर क्या...

Loose Views

रिलायंस जियो के सिम पर ‘बहुत क्रांतिकारी’ विचार

पुण्य प्रसून वाजपेयी आजतक न्यूज चैनल का पत्रकार उर्फ ‘क्रांतिकारी अंकल’ परसों बड़े बैचेन थे। मुकेश अंबानी की घोषणाओं के बाद। रिलायंस जियो के सदमे...

Loose Views

केजरीवालजी, आप मोहल्ला क्लीनिक क्यों नहीं जाते?

  दिल्ली के स्वयंभू प्रधानमंत्री अरविंद केजरीवाल जी के नाम एक ओपन लेटर सर, सुबह अखबार में पढ़ा कि दिल्ली को मझधार में छोड़ आप एक बार फिर से बैंगलोर रवाना...

Loose Views

देशद्रोह कानून और ‘कांग्रेसी’ पत्रकारों का शातिर खेल

अगस्त 2015 में आए नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के मुताबिक़, साल 2014 में देशभर में 58 लोग, देशद्रोह कानून के तहत गिरफ्तार किए गए. इनमें 55 पुरूष थे...

Loose Views

काश हमें भी सिंधु, मरीन जैसे जीतना-हारना आता!

हम बदनसीब, टेलीविजन के इस पवित्र दृश्य को अपने पेशे में कहां देख पाएंगे? ये कोई मास्टरी की नौकरी के लिए इंटरव्यू और परिणाम थोड़े ही न था कि सिंधु सेलेक्ट हुई...

Loose Views

‘मोदी को आपका सपोर्ट चाहिए… पहले से भी ज्यादा’

मार्क टली भारत में कई साल तक बीबीसी के संवादाता रहे हैं। न केवल विदेशी पत्रकारों में उनका विशिष्ट स्थान है बल्कि वो सर्वाधिक सम्मानित भी हैं। मार्क टली ने अपनी...

Loose Views

सलमान खुर्शीद पाकिस्तानी एजेंट नहीं तो और क्या हैं?

सलमान खुर्शीद ने पिछले साल नवंबर में पाकिस्तान जाकर भारत विरोधी बयान दिया था। कहा था कि “भारत ने पाकिस्तान के अमन के पैगाम का उचित जवाब नहीं दिया। मोदी...

Loose Views

मीम-भीम एकता पर एक मुस्लिम महिला के चंद सवाल

मुझे बड़ी खुशी होती है उन मुसलमानों को देख कर जो आज कल दलितों की चिंता में दुबले हुऐ जा रहे हैं। जब ये दलितों के लिए ब्राह्मणों से रोटी-बेटी का हक माँगते हैं तो...

Loose Views Loose World

शाहरुख हमें पता है भारत होता तो आप क्या करते!

शाहरुख खान के दुनिया में करोड़ों प्रशंसक हैं और उनके सुपरस्टार होने के सच से अमेरिका भी वाकिफ है, तो भी वे न्यूयार्क हवाई अड्डे पर बार-बार एमिग्रेशन जांच...

Loose Views

टीवी एंकर कब्ज का मारा और एक दर्शक बेचारा

  पहले ज़ी न्यूज़ पर थे, अभी आईबीएन-7 पर हैं। थोड़ी देर पहले टीवी देखते-देखते मीठी गुनगुनी नींद आंखों में उतर आई। ढीले पड़ गये, हाथ से रिमोट छूट गया। नींद...

Loose Top Loose Views

दलित स्कॉलर ने खोली ‘दलित-मुस्लिम एकता’ की पोल

बहुत कम लोगों का ध्यान इस पर गया कि 2016 में दूसरे विश्व युद्ध के बाद हुए सबसे बड़े नरसंहार के 45 साल पूरे हो रहे हैं। यह नरसंहार भारतीय उपमहाद्वीप के...

Loose Views

बुलंदशहर बलात्कार कांड को यह ‘मौन समर्थन’ क्यों!

डेढ़ दशक पुरानी बात है। अमर उजाला मेरठ में उपसंपादक ने एक खबर संपादित की। हेडिंग लगाई- दलित लड़की से बलात्कार। संपादक जी ने पूछा-इस हेडिंग का क्या मतलब है।...

Loose Views

बुलंदशहर के बलात्कारी को भी दलित-शोषित माना जाए?

माननीय मुलायम सिंह यादव से पूछो कि जो बुलंदशहर में हुआ है, वह गैंगरेप की श्रेणी में आता है कि नहीं? जब माननीय मुलायम सिंह गैंगरेप की पुष्टि कर दें, तब पूर्व...

Loose Views

एनडीटीवी के एक पत्रकार की चिट्ठी ‘संपादक’ के नाम

एक ख़त मेरी तरफ से भी, जो चारों तरफ से खुला है हे संपादक जी, गंभीर संकट है। इस देश में सरकार का मतलब लोकतंत्र है, मोदी समर्थन का मतलब राष्ट्रधर्म है, दलित...

Loose Top Loose Views

कश्मीर को हीलिंग टच तो, बाकी देश को क्या चाहिए?

कश्मीर में गुलाम नबी आज़ाद हीलिंग टच की बात कर रहे थे। 70 साल से वहां हीलिंग टच ही हो रहा था। अगर किसी की फीलिंग में ही प्रॉब्लम हो, तो कब तक हीलिंग करें...

Loose Views

कश्मीर के बहाने क्या चाहती है मीडिया की ये जमात?

कश्मीर सिर्फ जिहाद के लिए नहीं, इस देश के लिए भी आखिरी किला है। कश्मीर के लिए एअर कंडीशंड रूम में आंसू बहाने वाले हकीकत से उतने ही दूर है जितना दूर चांद से...

Loose Views

रवीश जी आपका पाखंड भी देश देख रहा है

झूठे तथ्यों को आगे रखकर कैसे तय एजेंडे के तहत चर्चा की जाती है, इसका एक नमूना अभी रवीश कुमार के प्राइम टाइम में देखने को मिला। जब मैंने चर्चा देखनी शुरू की तो...

Loose Views

जन्नत की हूरों के बारे में जाकिर नाईक को खुला पत्र

परम आदरणीय जनाब-ए-आला स्कॉलर श्री ज़ाकिर नाइक साहब, इस्लाम और दुनिया के तमाम धर्मों के बारे में आपके ज्ञान को देखकर चकित हूं। लेकिन एक हज़ार मुद्दों पर जानकारी...

Loose Views

क्या अल्लाह अपनी संतानों के खून से खुश होगा?

ईद के दिन हुए हमले के बाद बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने एक बार फिर कहा है कि “जो लोग ईद के दौरान भी हमले कर रहे हैं, वे इस्लाम और मानवता के...

Loose Views

रवीश जी, एक खुली चिट्ठी बरखा दत्त को भी भेजो

देश में दलालों की, खासकर पत्रकार के भेष में दलालों की कोई कमी नहीं है। मगर दलाली में डूबे चैनल का पत्रकार अगर किसी पत्रकार के मंत्री बनने पर सवाल उठाता है...

Loose Views

जिंदा रहना है तो कुरान की आयतें याद कर लो काफिरों

गीता, रामायण तो याद जब मर्जी करते रहना लेकिन कुरान की आयतें जरूर याद कर लो। खुदा न खास्ता कभी शांतिदूतों के बीच फँस गए तो सही सलामत तो निकल जाओगे कुरान की आयते...

Loose Views

आइने में शक्ल देखे इस्लाम… डरावनी हो चली है!

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना की इस बात के लिए तारीफ़ की जानी चाहिए कि उन्होंने उस सच्चाई को कबूल करने का साहस दिखाया है, जिसे तुष्टीकरण की राजनीति करने...

Loose Views

मोदी की रणनीति समझने के लिए बुद्धि की ज़रूरत है

प्रिय भारतवासियों… सब क्या सोच रहे हो कि NSG मामले मे अकेले चीन के विरोध के चलते भारत को हार का सामना करना पड़ा? क्या भारत का विरोध और किसी भी देश ने नही...

Loose Top Loose Views

रवीश जी, आपको अपने गांव की ‘निर्भया’ नहीं दिखती?

बिहार के एक स्वनामधन्य जनता के पत्रकार जिनका माइक तुरंत निठारी तो पहुँच जाता है लेकिन बिहार में वो अपने ही गांव जहाँ वो खुद पैदा हुए वहां की निर्भया को...

Loose Views

राना अयूब की ‘फंतासी’ के पीछे फंडिंग किसकी?

पत्रकार राना अयूब की किताब गुजरात फाइल्स (GUJARAT FILES) पढ़ते हुए मन में कुछ सवाल पैदा हो रहे हैं। पहला यह कि तकरीबन पांच साल पहले गुजरात दंगों को लेकर किया...

Loose Views

मुसलमानों को गुमराह करने के लिए है योग का विरोध

हम ईद की ख़ुशियों और मोहर्रम के मातम में शरीक होकर मुस्लिम नहीं बन गए। हमारे मुसलमान भाई हमारी होली और दिवाली में शरीक होकर हिन्दू नहीं बन गए। लेकिन देश के...

Loose Views

चेतन चौहान नहीं तो क्या केजरीवाल को बनाएं चेयरमैन

  अरविंद केजरीवाल का पत्रकार दोस्त न्यूजपेपर में लिखता है और केजरीवाल उसे ट्वीट कर किसी भी विवाद को हवा देते हैं। मोदी विरोधियों की पेशेवर फौज सोशल मीडिया...

Loose Views

कैराना लॉ एंड ऑर्डर है तो दादरी क्या था?

उत्तर प्रदेश के कैराना इलाके से ख़ास समुदाय के लोगों के पलायन पर मीडिया में कई दिनों से तरह-तरह की रिपोर्टें आ रही हैं, लेकिन हम चुप रहे। चुप इसलिए रहे कि देख...

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...