Loose Views

आरक्षण की वजह से ही मेरे जैसे सीमित प्रतिभा वाला आदमी एक सम्मानजनक जीवनशैली को हासिल कर सका है। अगर आरक्षण नहीं होता तो एक बात तो पक्की है कि मैं किसी सरकारी दफ्तर में तीसरी या चौथी पायदान पर…


सिंदूर का मज़ाक या ‘पद्मावती’, जानिए ये क्या खेल है!

आपको याद होगा कुछ दिन पहले हिंदी की एक लेखिका ने, हमारी माताओं-बहनों के छठ पर सिन्दूर लगाने को सिन्दूर पोतना कहकर मजाक उड़ाने की कोशिश की थी। बड़ा हंगामा हुआ और हमारी अनेक बहनों ने उन्हें करारा जवाब दिया।…


चित्तौड़ की रानी पद्मावती के नाम एक पत्रकार की चिट्ठी

प्रिय पद्मावती, सादर प्रणाम। संभवत: सात सौ साल बाद ये पहला ही पत्र है, जो किसी ने आपको लिखा होगा। संजय लीला भंसाली नाम के एक कारीगर हैं। वे फिल्में बनाते हैं। इतिहास के किरदारों पर उम्दा फिल्में बनाई हैं।…


क्या केजरीवाल का दिमाग फिर से ‘बेकाबू’ हो रहा है?

क्या अरविंद केजरीवाल की दिमागी ‘समस्या’ के लक्षण एक बार फिर से सामने आ रहे हैं? सोशल मीडिया और बातचीत में कई लोग यह सवाल पूछ रहे हैं। 2 करोड़ की रिश्वतखोरी को लेकर अपने ही पूर्व करीबी सहयोगी कपिल…


छह महीने में हर समस्या ऐसे हल करेंगे राहुल गांधी!

कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी ने कहा है कि मोदी सरकार अगर किसानों और रोजगार की समस्या सुलझा नहीं सकती तो हमें बता दे। मैं इस मसले को छह महीने में हल कर दूंगा। अखबारों में यह खबर देखकर भरोसा…


मोदी के खिलाफ खिचड़ी पका रही है बुजुर्ग ब्रिगेड?

क्या लालकृष्ण आडवाणी कांग्रेस के साथ मिलकर नरेंद्र मोदी सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं? परिस्थितियां कुछ इसी तरफ इशारा कर रही हैं। पहले यशवंत सिन्हा का पूर्व नौकरशाह वज़ाहत हबीबुल्लाह, माइनॉरिटी कमीशन के पूर्व चेयरमैन कपिल…


रवीश कुमार को निखिल दाधीच का मुंहतोड़ जवाब

माननीय रवीश जी नमस्कार, आपका प्रधानमंत्री जी के नाम लिखा पत्र पढ़ा। आपके पहले के कई पत्र भी मैंने पढ़े हैं लेकिन यकीन मानिए अब आपके पत्र प्रभावित नहीं करते क्योंकि जब अन्तरात्मा पर एजेंडा हावी हो जाए तो अन्तरात्मा…


रवीश कुमार के नाम एनडीटीवी के पूर्व पत्रकार का पत्र

प्रिय रवीश जी, बहुत दिनों से आपको चिट्ठी लिखने की सोच रहा था लेकिन हर बार कुछ न कुछ सोचकर रुक जाता था। सबसे बड़ी वजह तो ये थी कि मेरा इन ‘खुले खत’ में विश्वास ही नहीं रहा कभी।…


बीएचयू के नाम पर सियासत और एक छात्र का दर्द

कैसे लिखूं कि देख रहा हूं कि सोशल मीडिया पर बीएचयू के विशेषज्ञ वो भी हो चुके हैं, जिनको 2014 के बाद पता चला है कि देश में बीएचयू नाम की कोई यूनिवर्सिटी भी है। जिसके नाम में हिंदू लगा…


रोहिंग्या प्रेमियों, हां… हिंदुस्तान हमारे बाप का ही है!

पुराने ज़माने में राजा महाराजा अपने साथ एक भाट कवि अवश्य रखते थे, जो हमेशा उनके साथ मौजूद रहते थे। उनका काम था राजा की प्रशंसा में कविताएं लिखना। इससे होता कुछ नहीं था बस राजाओं के अहम् को संतुष्टि…


ये हैं हिंदुस्तान के टॉप-5 गालीबाज पत्रकार

पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के बाद सोशल मीडिया पर कुछ लोगों के गाली-गलौज के बाद से यह आरोप लग रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गाली देने वालों को ट्विटर पर फॉलो करते हैं। सूरत के आम कारोबारी निखिल…


गौरी लंकेश के हत्यारों के मददगारों को भी पकड़ो!

बेंगलुरु में ‘वामपंथी झुकाव’ वाली एक पत्रकार की हत्या कर दी गई। मिनटों में ये ख़बर आग की तरह फैली और पत्रकार के वैचारिक आकाओं ने फ़ैसला सुना दिया कि पनसारे, दाभोलकर और कलबुर्गी की तरह कट्टर हिंदूवादी संगठनों ने…


मोदी की ‘चाणक्य नीति’ जानना आपके लिए जरूरी है!

चाणक्य की सेना ने पहली बार जब मगध की राजधानी पाटलिपुत्र पर हमला किया, तो बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा। मुश्किल से जान बचाकर भागे। भागते-भागते एक बुढ़िया की झोपड़ी में पनाह मिली। वो भूखे थे। बुढ़िया गरमा-गरम…


क्या तीन तलाक पर बोल के गलती कर रहे हैं हिंदू?

मुसलमानों में तीन तलाक और फिर हलाला की परंपरा इन दिनों खबरों में है। इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। बीजेपी सरकार खुलकर इसका विरोध करती रही है। यहां तक कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लालकिले…


हिंदुत्व को मौकापरस्त पत्रकारों से बचाना सबसे जरूरी

बचपन में जब माँ को हर पूर्णमासी का व्रत रखते देखता था और पापा को हर मंगलवार को, तो एक डिफरेंट फीलिंग आती थी। या फिर वो दशहरा का मेला या मेले से पहले नवरात्र और दुर्गा पूजा के पंडाल।…


मोदी को बदनाम कर रहे निखिल वागले की पोल खुली

मराठी पत्रकार निखिल वागले ने कुछ दिन पहले दावा किया कि चैनल टीवी9 में उनके शो को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दबाव में बंद कर दिया गया। उन्होंने इसे मीडिया की आजादी का मसला बताया और इसके पीछे मोदी की…


पाकिस्तान की जीत का लड्डू न खाता तो मारा जाता!

हत्यारी भीड़ का उन्माद क्या होता है, मैंने खुद देखा है, सिर्फ 13 साल की उम्र में। 25 अक्टूबर 1991 के दिन। यानी तब तक बाबरी ढांचा भी नहीं गिरा था। 3 दिन बाद मेरा जन्मदिन था, इसीलिए अपने लिए…


आरक्षण से दुखी हैं तो इसका हल भी जान लीजिए!

जातीय आरक्षण की आग से अगर देश को बचाना है तो तमाम चीज़ों का निजीकरण ही एकमात्र रास्ता शेष रह गया है। वह चाहे रेल हो, रोडवेज हो या बिजली। या कोई और उपक्रम। सरकारी उपक्रमों के निजीकरण से कई…


पाकिस्तान को छोड़िए भारत की रेस चीन के साथ है!

जिस देश में ‘समृद्ध’ नेताओं की कमाई सरकारी दलाली पर निर्भर हो, जहाँ नौकरशाह रिश्वतखोर और उद्योगपति टैक्स चोर हों, उस देश के बारे में अगर डोनाल्ड ट्रंप ये कहें कि भारत अरबों डालरों के दान और ग्रांट का भूखा…


कौन थे मनु… जिनके मनुवाद को दिनभर गरियाते हो?

मनु राजा थे। क्षत्रिय थे। मनुस्मृति भी उन्होंने ही लिखी। लेकिन जहर से भरे कुछ लोग मनुवाद के नाम पर ब्राह्मणों को गरियाते हैं। जानते हैं क्यों? इसलिए कि ब्राह्मण सहिष्णु होता है, सौहार्द्र में यकीन करता है। गाली-गलौज में…


कपिल मिश्रा के सवाल जिनसे भाग रहे हैं केजरीवाल!

आदरणीय अरविंद जी, मैंने पांच नेताओं की विदेश यात्राओं के बारे में जानकारी सार्वजनिक करने की मांग की थी। हमेशा हर चीज जनता के सामने रखने की बात करने वाले सभी लोग उसी दिन से चुप होकर बैठ गए है।…


मीडियावालों जान लीजिए कि मोदी जी मिलते क्यों नहीं!

इंडिया गेट से कोई 500 मीटर की दूरी पर बीजेपी का मुख्यालय है। आजकल यहाँ पत्रकारों की गहमगहमी कुछ ज्यादा ही होती है। बीते बुधवार की शाम मुझे एक हिंदी न्यूज़ चैनल के पत्रकार मिले। वे 8-10 साल से बीजेपी…


मोदी जी, छोटी लड़ाइयां छोड़िए असली युद्ध में आइए

सामने से उठते हुए तूफान पर अगर आँखें फेर लें तो क्या तूफ़ान अपनी दिशा बदल देगा? इतिहास के दिए घाव अगर मिट नहीं पा रहे तो क्या इतिहास मिटाने से घाव भी मिट जायेंगे? मित्रों, पुरानी पीढ़ियों से अगर…


मोदी जी, चुनाव छोड़िए हिमालय के उस पार देखिए!

राम मंदिर भी बनना चाहिए और गाय की रक्षा भी होनी चाहिए। देश की अस्मिता, संस्कृति और स्वाभिमान से समझौता करके कोई राष्ट्र आज तक महाशक्ति नहीं बना है। लेकिन सिर्फ सांस्कृतिक और प्रतीकात्मक परिवर्तन से ही कोई देश महाशक्ति…


दिल्ली में केजरीवाल की हार को छोटा मत कीजिए!

मीडिया हर रोज़ पीएम मोदी का जादू टेस्ट करता है। एमसीडी चुनाव में बीजेपी की जीत को भी वह पीएम मोदी का ही जादू बता रहा है। लेकिन वह यह बताने में संकोच कर रहा है कि यह बीजेपी की…


जो धर्म डराए, भ्रम पैदा करे… उसे बदलने की जरूरत

जो कट्टरपंथी हैं, वे भी उसी एक किताब से हवाले दे रहे हैं। जो पढ़े-लिखे, उदारवादी और प्रगतिशील हैं, वे भी उसी एक किताब के सहारे सारी थ्योरियां पेश कर रहे हैं। बड़े से बड़ा क्रांतिकारी भी यह कहने की…


फर्जी किसान, जालसाज पत्रकार और देश का बंटाधार

जब डाकू खड़क सिंह ने असहाय आदमी का भेष बनाकर बाबा भारती का घोड़ा चुरा लिया तो बदले में बाबा भारती ने उससे सिर्फ इतना कहा कि किसी को ये मत बताना कि ये घोड़ा कैसे चुराया वरना लोग असहाय…


जनता के दिल से क्यों उतर गया ‘नायक’ केजरीवाल!

राष्ट्रीय अस्मिता से परे, देश के स्वाभिमान से परे, एक अलग संसार हमारे घर गली और शहर के भीतर बसता-घटता है। ये लोकल संसार है, जहाँ रोज़ रोज़ के मसले हैं, झगड़े हैं और व्यवस्था के संघर्ष हैं। कहीं स्कूल…


केजरीवाल के नाम आईआईटी इंजीनियर का खुला पत्र

श्रीमान अरविंद केजरीवाल जी, वैसे सामान्यतया मैं आपको गंभीरता से नहीं लेता| परंतु आज मुझे आपका कुछ कहा व्यक्तिगत रूप से बुरा लगा है। आपने कहा कि आप “IIT के इंजीनियर” हैं, इसलिए इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन यानी ईवीएम को हैक…


इन द्रौपदी के लिए भगवान कृष्ण बनेंगे हिंदू संगठन?

बीते 10-15 दिन में मुझे ऐसी कई मुस्लिम महिलाओं और उनके परिवारवालों से बात करने का मौका मिला है जो शौहर के तीन तलाक के कारण दर-दर भटकने को मजबूर हैं। ऐसे कई परिवार इन दिनों नोएडा में खबरिया चैनलों के…


मीडिया के आगे ये ध्यान रखें, नेताओं के लिए 10 टिप्स

भुवनेश्वर में हुई राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी ने बीजेपी के नेताओं को सुझाव दिया कि वो बड़बोलेपन और बेवजह की बयानबाजी से बचें। ऐसे वक्त में जब सियासी तौर पर बीजेपी की शानदार पारी चल रही…


योगी जी संभल के… वो गाय नहीं सोने का हिरण था!

यूपी में भ्रष्टाचार इसलिए बढ़ता गया क्योंकि बदलती हुई सरकारों ने एक-दूसरे पर आरोप तो खूब उछाले पर सत्ता पाने पर जांच नही कराई। कभी सीएम की कुर्सी पर बैठी मायावती ने मुलायम को बख्श दिया तो बदले में मुलायम…


भगोड़े भैयाजी के नाम रवीश कुमार का खुला पत्र

एनडीटीवी के कथित पत्रकार रवीश कुमार के भाई ब्रजेश कुमार पांडेय का बिहार पुलिस अब तक पता नहीं लगा पाई है। बिहार कांग्रेस का उपाध्यक्ष रहा ब्रजेश पांडेय सेक्स रैकेट के मामले में नाम सामने आने के बाद से फरार…


यूपी में बीजेपी की जीत के 20 सबसे बड़े मतलब

नरेंद्र मोदी को अछूत बनाने वाले आज खुद अछूत बन गये हैं, वो चाहे पाखंडी पत्रकार हों, वामपंथी मक्कार बुद्धिजीवी हों या राजनीतिक नेता और राजनीतिक दल। बीजेपी ने तुष्टिकरण के जवाब में सर्वसमावेशी राजनीति को साधा है, जिसके कारण…


मोदी का ‘रामबाण’ जो 2019 में भी जीत दिलाएगा!

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के बहाने बीजेपी ने वो ‘रामबाण’ पा लिया है, जो 2019 में ही नहीं 2024 में भी बीजेपी को जीत दिला सकता है। बिहार में जिस जाति समीकरण के मकड़जाल के कारण बीजेपी हारी थी, उसका…


कविता: रवीश पांडेय के नाम एक दलित बच्ची की चिट्ठी

एनडीटीवी वाले रवीश पांडेय, हाँ हाँ वही रवीश कुमार, को पीड़ित दलित लड़की की चिट्ठी। बलात्कार के आरोपी सगे बड़े भाई के नाम पर। “सिर्फ नाम बदला है इस बार वरना मैं वही दलित लड़की हूँ जो बार बार तुम्हारी…


चलो रवीश को बचाएं, दलित बच्ची को बदनाम करें!

ज़बरदस्ती में भाई लोग एनडीटीवी वाले रवीश पांडेय के पीछे पड़ गए हैं। अरे भई, हाँ। रवीश कुमार। अब खानदानी नाम रवीश पांडेय है तो क्या हुआ? सेक्युलर हैं। सर्वहारा समाज के प्रतिनिधि हैं। रवीश कुमार ही सूट करता है।…


अखिलेश यादव का अहंकार और रिपोर्टर की हैसियत

जब मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मुझसे कहा तुम पहले आदमी नहीं हो “आजतक” से और तुम्हारी हैसियत क्या है?? इटावा के सैफई में अभिनव स्कूल मतदान केंद्र पर यादव कुनबे ने विधान सभा चुनाव के तीसरे चरण में वोट डाला।…


यूपी वालों जाति छोड़ो, या पूरे जातिवादी हो जाओ!

22 करोड़ की आबादी वाले यूपी में यूं तो 13 प्रतिशत ब्राह्मण हैं लेकिन 9 प्रतिशत यादव पिछले 27 साल से देश के सबसे बड़े राज्य के भाग्य विधाता बने हुए है। यूपी में राजपूत कोई 7.8 प्रतिशत है लेकिन…


मीडिया भूल गई, यूपी के लोग नहीं भूलेंगे बीते 5 साल!

अगस्त 2013 की एक रात जब यूपी के मुज़फ्फरनगर जल रहा था तब जातिगत आधार पर शहर से डीएम और एसएसपी को एक फ़ोन पर एक साथ हटा दिया गया। अगले तीन घंटों में नए अफसरों के हवाले एक जलता…


अखिलेश यादव आप ही हो ‘गुंडों’ के असली नेताजी!

तो अखिलेश भैया। पिता और चाचा के किनारे होते ही। आपके भी समाजवाद की तस्वीर साफ हो गई। क्या लड़े थे आप! अतीक़ अहमद। मुख़्तार अंसारी। डीपी यादव। जैसे डॉन टाइप के लोगों के खिलाफ। गायत्री प्रजापति जैसे। खनन माफ़िया…


हिंदू धर्म में जूतामार आंदोलन का समय आ चुका है!

देश के भ्रष्ट नेताओं ने जिस समर्पण के साथ महात्मा गांधी की खादी को कलंकित किया है, उसी निर्लज्ज और निःसंकोच समर्पण के साथ कुछ फर्जी बाबा हिंदू धर्म और इसकी पवित्र परंपराओं को कलंकित करने में जुटे हैं। ये…


जल्लीकट्टू के बाद क्या बकरीद भी बंद होगी?

पिछले साल ढाका की सड़कों पर बकरीद के मौके पर खून की नदी बहते सभी ने देखा। भारत में ऐसी नदी नहीं बही, क्योंकि हमारे यहाँ बारिश नहीं हुई और होती भी तो हमारा सीवेज सिस्टम बांग्लादेश से तो अच्छा…


रवीश जी, पीएम के भाई से कार में तेल भरवाइएगा?

एक वक़्त था जब प्रोफेसर राम गोपाल यादव के पास साइकिल खरीदने के पैसे नही थे लेकिन आज वो चार्टर्ड प्लेन से उड़ते हैं। मुलायम के छोटे भाई शिवपाल की तंगहाली का आलम तो ये था कि उन्होंने चमड़े के…


चुनाव तो इधर हैं, राहुल बाबा किधर हैं?

इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और संजय गांधी की कोटरी का अहम सदस्य रहे एक पुराने कांग्रेस नेता से बात हो रही थी। मैंने कहा- “राहुल गांधी सियासत में सीरियस ही नहीं हैं।” उन्होंने कहा- “ऐसा आप किस आधार पर कह…


हिंदुस्तानियों को मुंह चिढ़ाते हुए पैदा हुआ है तैमूर!

नवाब पटौदी के बेटे सैफ अली खान और राज कपूर की पोती करीना का बेटा तैमूर कहलाएगा। वैसे तो किसी मां-बाप को अपनी संतान का नाम रखने का पूरा हक है। लेकिन जो कहते हैं नाम में क्या रखा वो…


मोदी के नाम यह चिट्ठी पढ़ रौंगटे खड़े हो जाएंगे!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर की रात जो गहरी लकीर खींची है, उस लकीर के एक तरफ अब तीन फीसदी लोग हैं और दूसरी तरफ सारा देश। मुझे विश्वास है कि इस लकीर को आपने अचानक नही खींचा। उससे…


क्या देवगौड़ा और गुजराल से भी खराब पीएम हैं मोदी?

ढाई साल के कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनधन एकाउंट से लेकर नोटबंदी तक कोई 70 बड़े फैसले लिए हैं। हो सकता है इनमें अधिकतर फैसले गलत हों लेकिन कम से कम एक-दो फैसले तो देशहित में ज़रूर लिए…


केजरीवाल को एक चार्टर्ड एकाउंटेंट का ओपन लेटर

आदरणीय केजरीवाल जी, मेरी उम्र 28 साल में है और मैं सूरत में चार्टर्ड एकाउंटेंट की प्रैक्टिस करता हूं। जब 500 और 1000 के नोट पर रोक लगी तो मुझे सबसे ज्यादा आपसे उम्मीद थी कि आप इसका समर्थन करेंगे,…


मोदी जी देश के नेताओं और मीडिया पर रहम कीजिए!

अगर भाइयों में झगड़ा ना हों, अगर बहन से मतभेद न हों और फिर भी उन्हें प्रधानमंत्री के दफ्तर से एक हज़ार किलोमीटर दूर रखा जा रहा है तो ये मानना होगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में इच्छाशक्ति है। आगे…


सिमी के जिहादियों को मारते नहीं तो क्या करते?

भोपाल में जेल से भागे सिमी के 8 जिहादी आतंकवादियों की मौत पर मचे अखिल भारतीय मातम को देखकर हैरान हूं। रोना-धोना देखकर तो यही लग रहा है कि कुछ बुद्धिजीवी, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के नेता इन 8…


तीन तलाक और काले बुर्के में बंद वो दो आंखें!

मैं आजकल जहां मुस्लिम लोगों को देखती हूँ, इजाजत लेकर उनसे बात करने बैठ जाती हूँ। शुरूआती कुछ दिन मैं गुस्से में होती थी, उन पर उनके धर्म पर इलज़ाम लगाकर शुरुआत करती थी। मैं मुस्लिम औरतों की दुर्दशा पर…