Home » Loose Top » ये है केजरीवाल की ‘जिहादी चौकड़ी’, करतूत जानकर हैरान रह जाएँगे
Loose Top

ये है केजरीवाल की ‘जिहादी चौकड़ी’, करतूत जानकर हैरान रह जाएँगे

तस्वीर में केजरीवाल के साथ बायें ऊपर अमानतुल्ला खान, दायें ऊपर ताहिर हुसैन, नीचे बायें मोहम्मद अतहर और नीचे दायें हाजी यूनुस।

दिल्ली हिंसा की जाँच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है इसमें आम आदमी पार्टी और उसके कट्टरपंथी जिहादी नेताओं की भूमिका भी खुलकर सामने आ रही है। अभी सारा फ़ोकस ताहिर हुसैन पर है, लेकिन जाँच के शुरुआती नतीजे यही बता रहे हैं कि ये सारा दंगा सिर्फ ताहिर हुसैन तक सीमित नहीं था। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की यात्रा के दौरान हिंसा का प्लान पहले से तय था और इसकी बागडोर बड़े नेताओं के हाथ में थी। सीसीटीवी, फ़ोन रिकॉर्ड्स और गवाहों के बयानों के आधार से जो जानकारी मिल रही है उसमें प्रमुखता के साथ चार नेताओं के नाम उभरकर सामने आ रहे हैं। बीजेपी नेता कपिल मिश्रा इन चारों नेताओं पर खुलकर आरोप लगाते रहे हैं। दंगे से प्रभावित इलाकों के आम लोग भी इन चारों नेताओं के नाम ले रहे हैं। सबसे पहले उनकी बात जिनकी करतूत कम लोग जानते हैं:

1. हाजी यूनुस, विधायक, मुस्तफाबाद

हाजी यूनुस का नाम भी दंगों में खुलकर सामने आ रहा है। हिंदुओं की आबादी वाला शिव विहार इलाक़ा मुस्तफाबाद में ही पड़ता है। इस इलाक़े में कई हिंदुओं के मकान और मंदिर जलाए गए। इलाक़े के लोगों का आरोप है कि हाजी यूनुस ने 25 फ़रवरी को हिंदुओं के इलाक़े में शांति मार्च निकाला और वहाँ से जाकर पास की ही मस्जिद में मुसलमानों के आगे भड़काऊ भाषण दिया। जिसके बाद हज़ारों की भीड़ ने हिंदू इलाक़ों पर हमला बोल दिया। कई मकान, दुकानें और स्कूल जला दिए गए। यह बात भी सामने आ रही है कि पेट्रोल पंप जलाने के मामले में भी हाजी यूनुस का ही हाथ है। दावा किया जा रहा है कि हाजी यूनुस के लोगों ने उसी पेट्रोल पंप से 400 लीटर तेल ख़रीदा था। दिल्ली के मुस्तफाबाद में पिछली बार बीजेपी का विधायक हुआ करता था। लेकिन पहली बार वहाँ से आम आदमी पार्टी जीती है। हाजी यूनुस पर यह भी आरोप है कि उसने इलाक़े में भारी तादाद में अवैध बांग्लादेशियों को बसाया है। यह भी पढ़ें: जानिए कैसे जिहादियों के चंगुल में बुरी तरह फँस चुकी है दिल्ली

2. मोहम्मद अतहर, नेता, AAP

चांदबाग इलाक़े में आम आदमी पार्टी का नेता मोहम्मद अतहर (मोहम्मद अथर) इन दंगों का बड़ा खिलाड़ी बनकर उभरा है। दावा किया जा रहा है कि जिस भीड़ ने डीसीपी अमित शर्मा पर हमला किया, उसे यही लेकर आया था। इसी भीड़ ने हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल की भी हत्या की थी। इस घटना का वीडियो भी सामने आ चुका है। दंगों के बाद से ही अतहर फ़रार है और पुलिस उसे ढूँढ रही है। बताया जा रहा है कि अतहर ने विधानसभा चुनाव के दौरान आम आदमी पार्टी के पक्ष में खूब मेहनत की थी। कई लोगों ने हमें ह भी बताया कि वो बिल्कुल हाफ़िज़ सईद की तरह भाषण देता है। मुसलमानों के बीच उसका काफ़ी क्रेज़ है और बताया जाता है कि वो संजय सिंह और दुर्गेश पाठक का बेहद करीबी है। यह भी पढ़ें: हारे हुए कपिल मिश्रा के बढ़ते क़द से क्यों परेशान हैं जीते हुए केजरीवाल?

3. ताहिर हुसैन, पार्षद, चांदबाग

दंगाइयों की अगुवाई करते और अपने मकान के छत से पथराव करते ताहिर हुसैन की पोल खुल गई क्योंकि उसका वीडियो किसी ने बना लिया। अगर वीडियो नहीं आता तो ताहिर हुसैन ने ख़ुद को बेक़सूर साबित करने के लिए पहले से ही पूरी कहानी रच ली थी। उसने दावा किया था कि वो अपने घर पर था ही नहीं और पुलिसवालों ने उसे दंगाइयों से बचाकर बाहर निकाला था। लेकिन वीडियो से पता चला कि वो झूठ बोल रहा है। ताहिर पर आईबी अधिकारी अंकित शर्मा की बर्बर हत्या, कई लोगों को गोली मारने और स्कूल से लौट रही लड़कियों के साथ बदसलूकी का आरोप है। फ़िलहाल पुलिस को उसकी पिस्तौल और मोबाइल फ़ोन मिल गया है और जल्द ही उसके कुछ और साथियों का पता चल सकता है। यह भी पढ़ें: पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी ISI की सुपारी पर हुई अंकित शर्मा की हत्या

4. अमानतुल्ला खान, विधायक, ओखला

केजरीवाल के सबसे ख़ास विधायकों में अमानतुल्ला का नाम आता है। कई बार उसे कैमरे पर भड़काऊ भाषण देते देखा गया है, लेकिन कभी कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई। दिल्ली में नागरिकता क़ानून को लेकर 15 दिसंबर 2019 को जब हिंसा की शुरुआत हुई थी तो उसमें अमानतुल्ला का रोल सामने आया था। उसका एक वीडियो भी वायरल हुआ था जिसमें वो बोल रहा है कि मोदी सरकार कुछ दिन में मुसलमानों के टोपी और बुर्का पहनने पर रोक लगा देगी। बताया जाता है कि अमानतुल्ला ही है जो दिल्ली में केजरीवाल के पूरे जिहादी नेटवर्क का सरग़ना है। यह बात भी सामने आ चुकी है कि दंगों में सीधे तौर पर शामिल रहे सभी आम आदमी पार्टी नेता 2-3 दिन से अमानतुल्ला के संपर्क में थे। यह भी पढ़ें: जानिए दंगा भड़काने से पहले किससे फ़ोन पर बार-बार बात कर रहा था ताहिर हुसैन

स्वराज्य पत्रिका की संवाददाता स्वाति गोयल ने चांदबाग इलाक़े में दंगा पीड़ितों से बात की थी, उसमें कुछ लोगों ने हाजी यूनुस की भूमिका के बारे में भी बताया था:

कपिल मिश्रा ने ट्वीट करके मोहम्मद अतहर की भूमिका के बारे में खुलासा किया था। शुरुआती जाँच में इसे सही पाया गया है और अतहर फ़रार है:

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें


कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Donate to Newsloose.com

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें

Popular This Week

Don`t copy text!