Loose Top

राहुल गांधी को एक बार फिर ‘लॉन्च’ करने की तैयारी में कांग्रेस

लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने वाले राहुल गांधी को एक बार फिर से लॉन्च करने की तैयारी चल रही है। कांग्रेस पार्टी के सूत्रों के मुताबिक तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले राहुल गांधी को ‘नए कलेवर और नए तेवरों’ के साथ सामने लाने की तैयारी है। इसी साल महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड में विधानसभा चुनाव होने हैं और कांग्रेस के रणनीतिकारों को उम्मीद है कि वो एमपी, राजस्थान, छत्तीसगढ़ की तरह इन राज्यों में भी कोई चमत्कार कर सकती है। अभी इन तीनों ही राज्यों में बीजेपी की सरकार है। कांग्रेस पार्टी को लग रहा है कि ये अच्छा मौका है जब राहुल गांधी की इमेज बदलकर उन्हें ‘राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं से ऊपर उठ चुके नेता’ की तरह प्रोजेक्ट किया जाए। इसके लिए एक अंतरराष्ट्रीय पीआर एजेंसी की भी सेवाएं लिए जाने की खबर है। जिसे इसके बदले में मोटी फीस चुकाई जाएगी। जानकारी के मुताबिक अब सीधे नरेंद्र मोदी पर हमला करने की जगह राहुल की इमेज बदलने पर फोकस किया जाएगा।

राहुल पहले भी कई बार हुए ‘लॉन्च’

कांग्रेस पार्टी राहुल गांधी को 2009, 2014 और 2019 में नई पहचान के साथ लॉन्च करने की कोशिश कर चुकी है। इसके अलावा कई विधानसभा चुनावों से ठीक पहले भी राहुल गांधी को अलग-अलग अंदाज में लाने की कोशिश की जाती रही है। जैसे कभी वो एंग्री यंगमैन की छवि के साथ सामने आए तो कभी उन्हें विरोधियों से भी प्यार करने वाला नेता दिखाने की कोशिश की गई। लेकिन अब क कोई खास कामयाबी हासिल नहीं हुई। कांग्रेस पार्टी के रणनीतिकारों को लग रहा है कि तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव में बिल्कुल वही परिस्थितियां हैं जैसी एमपी, राजस्थान और छत्तीसगढ़ राज्यों के चुनाव के समय हुआ करती थीं। इसके मुताबिक अगर कांग्रेस 2 राज्यों में भी चुनाव जीत जाती है तो इससे उसके कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ेगा। साथ ही राहुल गांधी की इमेज को भी इससे काफी फायदा मिलने की उम्मीद है।

‘अब तक इमेज पर 1400 करोड़ खर्च’

लोकसभा चुनाव से पहले राहुल गांधी के इमेज मेकओवर यानी छवि चमकाने पर कांग्रेस पार्टी के कुल खर्च के बारे में चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। इंडस्ट्री के एक सूत्र ने हमें बताया कि कांग्रेस पार्टी अब तक राहुल गांधी के लिए इमेज़ मेकओवर कंपनियों और विशेषज्ञों पर कुल मिलाकर करीब 1400 करोड़ रुपये खर्च कर चुकी है। यह खर्च 2012 में लोकसभा चुनाव की तैयारियों से लेकर 2019 के लोकसभा चुनाव तक का है। इंडस्ट्री के एक्सपर्ट के मुताबिक कांग्रेस ने 2010 के बाद से ही राहुल गांधी की इमेज पर खर्च करना शुरू कर दिया था लेकिन 2012 के बाद उसने इस काम के लिए अंतरराष्ट्रीय पीआर फर्म्स की मदद लेनी शुरू कर दी थी। ये सिलसिला 2019 के लोकसभा चुनाव तक जारी रहा, जब राहुल गांधी के इमेज मेकओवर से लेकर उनके भाषणों के विषय तक तय करने के लिए अलग-अलग तरह की देसी-विदेशी एजेंसियों की सेवाएं ली गई।

चुनाव में दो कंपनियों को था ठेका

कांग्रेस पार्टी ने 2014 में राहुल गांधी के उपाध्यक्ष रहते ही दो कंपनियों के साथ करार किया था कि वो उनकी इमेज मेकिंग का काम करेंगे। ये दोनों करार लोकसभा चुनाव को देखते हुए किए गए थे। इनमें से एक विज्ञापन एजेंसी थी, जबकि दूसरी पब्लिक रिलेशन (पीआर) फर्म थी। ये दोनों कंपनियां जापान की मशहूर कंपनी डेंटसू से जुड़ी हुई थीं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इसके लिए 500 करोड़ रुपये फीस का भुगतान तय किया गया था। हमारे सूत्र ने बताया कि डेंटसू ने ही चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी की जिम्मेदारी संभाली थी। सोशल मीडिया पर राहुल गांधी की मौजूदगी को मजबूत करने के लिए बुर्सन मार्सटेल कंपनी के साथ भी करार किया था। हमारी जानकारी के मुताबिक इसी कंपनी ने राहुल गांधी के फेसबुक और टि्वटर अकाउंट को संभाला। कंपनी से जुड़े सूत्रों ने भी इस बात की पुष्टि की है। 2019 के चुनाव से ठीक पहले राहुल गांधी की इमेज पर कांग्रेस पार्टी का कुल खर्च भी 500 करोड़ के ऊपर होने का अंदाजा है। हालांकि कांग्रेस ने कभी औपचारिक तौर पर इन एजेंसियों की सेवाएं लेने या खर्च की पुष्टि नहीं की।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!