Loose Top

मीटिंग में अपने ही विधायक के हाथों पिट गए केजरीवाल?

दिल्ली में चुनावी माहौल में गर्मी बढ़ने के साथ नेताओं के दिमाग का पारा भी चढ़ने लगा है। ताजा मामला आम आदमी पार्टी के नेता और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का है। ऐसी खबरें हैं कि एक बैठक में पार्टी के ही एक विधायक ने केजरीवाल को पीट दिया। सोशल मीडिया पर इस बात की चर्चा जोरों पर है। हालांकि अभी इस बारे में पुलिस या किसी दूसरे आधिकारिक सूत्र की तरफ से पुष्टि नहीं हो सकी है। आम आदमी पार्टी से निलंबित विधायक कपिल मिश्रा ने एक ट्वीट करके ये जानकारी दी है कि तीन दिन पहले सीएम हाउस में बंद कमरे में हो रही एक बैठक में कुछ विधायकों ने आम आदमी पार्टी सुप्रीमो को पीट दिया। इस हाथापाई में उनको कुछ चोटें आने की भी खबर है लिहाजा वो तीन दिन से घर से बाहर नहीं निकले। यहां तक कि इस दौरान आम आदमी पार्टी के लोकसभा उम्मीदवारों ने नामांकन भी भरा, लेकिन मुख्यमंत्री कहीं भी नहीं दिखाई दिए। यह भी खबर है कि केजरीवाल ने चुनाव प्रचार के अपने सभी कार्यक्रम और दूसरी बैठकें रद्द कर दी हैं। बीते तीन दिन से वो सिर्फ ट्विटर पर सक्रिय हैं और वो भी नाममात्र। फिलहाल उन विधायकों के नाम नहीं पता चल पाए हैं जिन्होंने सीएम आवास में मुख्यमंत्री पर हाथ छोड़ा। ये बैठक उसी कमरे में चल रही थी जिसमें केजरीवाल ने अपने विधायकों से दिल्ली की मुख्य सचिव को कथित तौर पर पिटवाया था। यह भी पढ़ें: मुस्लिम वोटों की खातिर केजरीवाल ने वीर गुर्जर जाति को बदनाम किया

क्या है पिटाई का पूरा मामला?

आम आदमी पार्टी के सूत्रों के मुताबिक ये घटना शनिवार की है। मुख्यमंत्री आवास पर कांग्रेस के साथ गठबंधन के मुद्दे पर चर्चा हो रही थी। इसी दौरान टिकटों के बंटवारे को लेकर केजरीवाल अचानक भड़क गए। उन्होंने बैठक में मौजूद अपने कुछ विधायकों को गाली-गलौज देनी शुरू कर दी। केजरीवाल को आपे से बाहर देख विधायकों से भी रहा नहीं गया और बात हाथापाई तक पहुंच गई। ऐसी खबर है कि 2 विधायक गुस्से में केजरीवाल की तरफ लपके। जिनमें से एक ने उन्हें एक घूंसा जड़ दिया। जिस पर केजरीवाल कमरे में ही लड़खड़ाकर गिर गए और उनका चश्मा निकलकर गिर गया। हालांकि तब तक बाकी विधायक बीच-बचाव के लिए आ गए और दोनों को अलग करके मामला किसी तरह शांत किया गया। सीएम हाउस में बंद कमरे की बैठक के कारण मुख्यमंत्री के सुरक्षाकर्मी वहां मौजूद नहीं थे। यह दावा भी किया जा रहा है कि बैठक के बाद केजरीवाल को लड़खड़ाकर चलते देखा गया। उनके घुटनों पर चोट लगी है। इसी कारण वो 3 दिन से घर से बाहर नहीं निकले हैं। कहा जा रहा है केजरीवाल की दिक्कत ये है कि वो न तो विधायकों के खिलाफ कोई कार्रवाई कर सकते हैं और न ही पुलिस में शिकायत दर्ज करवा सकते हैं। क्योंकि इससे जगहंसाई होगी। फिलहाल इस कथित मारपीट की कोई प्रमाणिक जानकारी सामने नहीं आ सकी है।

केजरीवाल से नाराज़ हैं विधायक

मीडिया में ऐसी खबरें आती रही हैं कि आम आदमी पार्टी के कुछ गिने-चुने विधायकों को छोड़कर ज्यादातर अरविंद केजरीवाल की गाली-गलौज और डांट-डपट से तंग आ चुके हैं। चांदनी चौक से विधायक अलका लांबा ने तो खुलेआम बताया था कि केजरीवाल के साथ कुछ बिहेवियरल इश्यूज़ है। वो बैठकों में अपनी बात मनवाने के लिए चीखने-चिल्लाने से लेकर धमकियां देने और यहां तक गुस्से में सामान फेंक देने जैसे काम अक्सर करते रहते हैं। विधायकों के साथ उनका व्यवहार मालिक और नौकर जैसा होता है। जो विधायक मुंहलगे हैं मुख्यमंत्री उन्हें कुछ नहीं बोलते। कुछ समय पहले उन्होंने अपने इन्हीं मुंहलगे विधायकों से दिल्ली की चीफ सेक्रेटरी अंशु प्रकाश को पिटवा दिया था। वो मामला अभी कोर्ट में चल ही रहा है। AAP के सूत्रों का कहना है कि आधे से ज्यादा विधायक केजरीवाल के बर्ताव से दुखी हैं। उन्हें यह भी लग रहा है कि जिस तरह से राज्यसभा की 2 और दिल्ली में लोकसभा की 3 सीटें केजरीवाल ने करोड़ों रुपये लेकर कथित तौर पर बेची हैं उससे उन्हें यह भरोसा हो गया है कि आगे उन्हें टिकट नहीं मिलने वाला। 2020 में होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए टिकटों की सौदेबाजी अभी से शुरू हो चुकी है। कई करोड़पति व्यापारियों और भ्रष्ट अफसरों के नाम टिकट पाने वाले संभावित उम्मीदवारों की सूची में चल रहे हैं। यह भी पढ़ें: केजरीवाल के गुंडों की दहशत में है ये नौजवान वकील

नीचे आप कपिल मिश्रा का वो ट्वीट देख सकते हैं जिसमें उन्होंने केजरीवाल के साथ हुई हाथापाई की घटना की जानकारी दी है:

सोशल मीडिया पर कई आम लोग भी इस बारे में बात कर रहे हैं।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...