Loose Top

कांग्रेस उम्मीदवार के लिए चुनाव प्रचार में उतरेंगी राधे मां!

लखनऊ से कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ रहे विवादित धर्मगुरु आचार्य प्रमोद कृष्णम के प्रचार के लिए राधे मां के पहुंचने की अटकलें जोरों पर हैं। आचार्य प्रमोद कृष्णम की प्रचार टीम से जुड़े लोगों ने बताया कि राधे मां से समय लेने की कोशिश चल रही है और जल्द ही इस बारे में औपचारिक एलान कर दिया जाएगा। दरअसल जब राधे मां विवादों में घिरी थीं और बाकी धर्मगुरु उनसे दूरी बरत रहे थे उन दिनों प्रमोद कृष्णम ने राधे मां को संभल में अपने विवादित आश्रम में बुलाया था। वहां पर कल्कि महोत्सव के नाम से होने वाले प्रोग्राम में राधे मां देर रात तक झूम-झूम कर नाचीं थीं। राधे मां और प्रमोद कृष्णम की करीबी हमेशा से चर्चा में रही है। ये दोनों वो विवादित संत हैं जिन पर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने ये कहते हुए प्रतिबंध लगा दिया था कि ये दोनों फर्जी हैं और हिंदू धर्म और परंपराओं के चोले में लोगों को मूर्ख बना रहे हैं। फिलहाल प्रचार के लिए राधे मां के कार्यक्रमों की रूपरेखा पर काम चल रहा है। यह भी पढ़ें: बाबा प्रमोद कृष्णम की अय्याशी की पोल कब खुलेगी?

प्रचार में राधे मां क्यों?

दरअसल लखनऊ से समाजवादी पार्टी ने शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा को चुनाव मैदान में उतारा है। प्रमोद कृष्णम को डर है कि इससे बीजेपी विरोधी महिला वोट समाजवादी पार्टी को जा सकते हैं। लिहाजा उन्होंने राधे मां के जरिए उन वोटों को अपनी तरफ खींचने की कोशिश शुरू कर दी है। राधे मां हमेशा विवादों में रही हैं, लेकिन धार्मिक पहचान के कारण उनकी लोकप्रियता भी काफी है। प्रमोद कृष्णम की प्रचार टीम की राय में अगर राधे मां ने लखनऊ में आकर चुनाव प्रचार किया तो इससे कांग्रेस को बड़ी संख्या में महिलाओं के वोट पाने में आसानी होगी। लखनऊ में पांचवें चरण में 6 मई को वोटिंग होनी है। मतदान से पहले चुनाव प्रचार का काम अब जोर पकड़ रहा है। लखनऊ में बीजेपी के टिकट पर राजनाथ सिंह चुनाव लड़ रहे हैं। पहले उनके खिलाफ संयुक्त उम्मीदवार उतारने की कोशिश चल रही थी, लेकिन प्रमोद कृष्णम की राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं के कारण ऐसा नहीं हो सका।यह भी पढ़ें: हिंदू धर्म में जूतामार आंदोलन का समय आ चुका है

कौन हैं प्रमोद कृष्णम?

आचार्य प्रमोद कृष्णम टीवी चैनलों में आए दिन होने वाली बहसों में जाना-पहचाना नाम है। ये कभी कांग्रेस तो कभी समाजवादी पार्टी से करीबी के लिए जाने जाते हैं। प्रमोद कृष्णम धर्म से ज्यादा अपने राजनीतिक संपर्कों, लाइफस्टाइल और ग्लैमरस लड़कियों से नजदीकी के लिए जाने-जाते हैं। इन्हें हिंदू धर्म से ज्यादा इस्लाम की तारीफों के पुल बांधते देखा जाता है। टीवी पर ये खुलकर हिंदू धर्म को भला-बुरा कहते हैं। प्रमोद कृष्णम को कुछ साल पहले तक पश्चिमी यूपी के एक छोटे से इलाके में प्रमोद कुमार त्यागी के नाम से जाना जाता था। तब वो कांग्रेस पार्टी का एक छुटभैया नेता हुआ करते थे। राजनीति में खास कामयाबी नहीं मिली तो उसने बाबा का चोला पहन लिया। 2014 के लोकसभा चुनाव में भी प्रमोद कृष्णम को यूपी की संभल सीट से कांग्रेस ने टिकट भी दे दिया। लेकिन वो पांचवें नंबर आए। यह भी पढ़ें: क्या आसाराम के बाद इस बाबा का नंबर है?

विवादों से पुराना नाता

कहने को धर्म गुरु हैं, लेकिन आम तौर पर राजनीतिक बयानबाजी के लिए ही जाने जाते हैं। गाजियाबाद में उनके कई स्कूल चलते हैं। अक्सर उन पर शारीरिक शोषण के आरोप भी लगते रहे हैं। बाबा की अय्याशी भरी जिंदगी लोगों के बीच चर्चा का विषय रहती है। कुछ साल पहले पुलिस छापे में पकड़ी गई दो कॉलगर्ल्स ने भी इन बाबा का नाम लिया था। बताते हैं कि उनके पास सबसे महंगी लग्जरी गाड़ियों का जखीरा है। लोकसभा चुनाव में बाबा ने अपनी संपत्ति 4 करोड़ रुपये घोषित की थी। लेकिन एक अनुमान के मुताबिक उनका साम्राज्य इससे कई गुना ज्यादा का है। उन पर कोयला घोटाले के आरोपी मधु कोड़ा से लेकर शराब माफिया तक से रिश्तों के आरोप हैं। यह भी पढ़ें: गुंडागर्दी करने वाले गोरक्षा दल नहीं, कांग्रेस रक्षादल हैं

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...