अमृतसर हादसे में सिद्धू को बचा रहा है कांग्रेस हाईकमान- सूत्र

फाइल तस्वीर

अमृतसर हादसे के बाद पंजाब में कांग्रेस सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू सवालों में हैं। इस मामले में उनकी पत्नी नवजोत कौर और करीबी कांग्रेसी पार्षद सौरभ मदन मिट्ठू का नाम सामने आ चुका है। हादसे के बाद सिद्धू की पत्नी मौके से भाग गई थीं जिसे लेकर हर तरफ भारी नाराजगी देखने को मिल रही है। पंजाब कांग्रेस में अमरिंदर सिंह खेमे से जुड़े एक नेता ने न्यूज़लूज़ को बताया है कि मुख्यमंत्री इस मामले में नवजोत सिद्धू की पत्नी के खिलाफ कार्रवाई करने के पक्ष में हैं, लेकिन दिल्ली से दबाव है कि न तो सिद्धू या उनकी पत्नी या न ही किसी आयोजक के खिलाफ कोई कड़ी कार्रवाई की जाए। यही कारण है कि पंजाब सरकार ने इस हादसे की जो पहली एफआईआर लिखी उसमें आयोजकों का नाम तक नहीं लिखा गया है। ये एफआईआर ‘कुछ अज्ञात लोगों’ के नाम पर दर्ज की गई है। इस फैसले से पंजाब सरकार पर विपक्ष हमलावर है, साथ ही कांग्रेस के अंदर भी इस पूरे मामले को लेकर दो धड़े बन गए हैं। एक पक्ष इस मामले में कम से कम नवजोत कौर की जिम्मेदारी तय करने के पक्ष में है और उनकी मांग है कि उन्हें कांग्रेस पार्टी से निकाल दिया जाए। लेकिन ऐसा लगता है कि सिद्धू और उनकी पत्नी के सिर पर हाईकमान का हाथ है।

अमरिंदर के खिलाफ हथियार सिद्धू

ऐसा माना जाता है कि पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर राहुल गांधी ज्यादा भरोसा नहीं करते हैं। राज्य में विधानसभा चुनाव के समय अमरिंदर सिंह ने अकेले दम पर पूरे राज्य में प्रचार किया था और राहुल गांधी को घुसने नहीं दिया था। तब यह बात सामने आई थी कि अमरिंदर मानते हैं कि अगर राहुल ने पंजाब में प्रचार किया तो पार्टी को नुकसान होगा। यह बात सही भी निकली क्योंकि राहुल गांधी के प्रचार के बिना पंजाब में कांग्रेस ने बड़ी जीत हासिल की। इसी का नतीजा हुआ कि राहुल गांधी के मन में अमरिंदर को लेकर एक खटास है। सोनिया गांधी के अध्यक्ष रहते वक्त अमरिंदर की काट के लिए प्रताप सिंह बाजवा को आगे बढ़ाया जाता था। लेकिन राहुल गांधी के अध्यक्ष बनने के बाद से बाजवा के बुरे दिन चल रहे हैं। राहुल नवजोत सिद्धू पर अधिक भरोसा करते हैं और वो उन्हें अमरिंदर के विकल्प के तौर पर खड़ा करना चाहते हैं। लिहाजा हर विवाद में राहुल गांधी नवजोत सिद्धू के साथ खड़े हो जाते हैं। कुछ दिन पहले इमरान खान के शपथ ग्रहण में सिद्धू पाक सेना के प्रमुख से गले मिले थे। इस पर अमरिंदर ने खुले तौर पर नाराजगी जताई थी। लेकिन बाद में हाईकमान का इशारा मिलने पर उन्हें मुंह बंद करना पड़ा। उस मामले में भी अमरिंदर चाहकर भी सिद्धू के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर सके थे। 

नवजोत सिद्धू को मिला हुआ है ‘फ्री हैंड’

हमारे सूत्र ने बताया कि नवजोत सिद्धू को कांग्रेस हाईकमान की तरफ से ‘फ्री हैंड’ मिला हुआ है। सिद्धू पिछले दिनों कई विवादों में फंसे हर बार कांग्रेस हाईकमान ने उनका बचाव किया। यहां तक कि जब उन्होंने पाकिस्तान के पक्ष में बयान देने शुरू किए तब भी कांग्रेस का कोई बड़ा नेता उनके खिलाफ कुछ भी नहीं बोला। क्योंकि सबको पता है कि सिद्धू के सिर पर किसका हाथ है। अमृतसर हादसे में भी कांग्रेस हाईकमान ने साफ इशारा कर दिया है कि वो सिद्धू के समर्थन में है। जबकि इस मामले में सिद्धू की पत्नी की भूमिका से कोई भी इनकार नहीं कर सकता। यहां तक जानकारी सामने आई है कि दशहरा मेले का आयोजक सौरभ मदन मिट्ठू नवजोत सिद्धू की पत्नी का काफी मुंहलगा था। उसका रसूख इतना था कि पुलिस और प्रशासन में अपने काम वो बहुत ही आसानी से करवा लिया करता था। अमृतसर में वो सिद्धू का सबसे करीबी आदमी माना जाता है। ऐसे में अगर आयोजक के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो रही है तो समझना बहुत मुश्किल नहीं है कि इसकी असली वजह क्या है। 

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , , ,