कांग्रेस प्रवक्ता पद के लिए टेस्ट का पेपर लीक हो गया!

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस प्रवक्ता बनने के लिए एक लिखित परीक्षा आयोजित की गई। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस परीक्षा का पेपर पहले ही लीक हो चुका था। कांग्रेस प्रवक्ताओं के लिए हुई इस परीक्षा को टॉप सीक्रेट रखा गया था, लेकिन इसके प्रश्नपत्र से लेकर गूगल से निकाले गए उत्तर तक पहले से कुछ लोगों तक पहुंच गए। यह परीक्षा गुरुवार दोपहर ढाई बजे हुई थी, जबकि इसके सवाल कुछ समय पहले से ही कुछ नेताओं के पास पले से मौजूद थे। कुल 70 लोगों ने ये परीक्षा दी है जिसमे से करीब दर्जन भर लोगों को चुना जाना है। कांग्रेस के कई पुराने चेहरे भी टेस्ट देने वालों में शामिल थे। जबकि इंटरव्यू और लिखित परीक्षा लेने की जिम्मेदारी प्रियंका चतुर्वेदी और रोहन गुप्ता पर थी। ऐसे आरोप लगते रहे हैं कि राहुल गांधी नई पीढ़ी के नाम पर ऐसे नेताओं की टीम बना रहे हैं जिनके पास न तो राजनीति का अनुभव है और न ही समझ। कुछ समय पहले उन्होंने विजय माल्या की कैलेंडर गर्ल कही जाने वाली तेलुगु फिल्म अभिनेत्री रम्या उर्फ दिव्यास्पंदना को कांग्रेस के आईटी सेल का हेड बना दिया था। पढ़ें रिपोर्ट: राहुल गांधी का हाथ माल्या की ‘कैलेंडर गर्ल’ के साथ

प्रवक्ता के इम्तिहान में धांधली!

सूत्रों के मुताबिक प्रवक्ता पद के लिए परीक्षा के नाम से ही कई कांग्रेसी नेताओं के हाथ पांव फूल गए। कई सवालों के जवाब उन्हें नहीं मालूम थे, खास तौर पर आंकड़ों के मामले में ज्यादातर बेहद कच्चे थे। कुछ सवाल जैसे कि- कांग्रेस को मिले वोटों का प्रतिशत कितना था? 2004 और 2009 में कांग्रेस ने कितनी सीटें जीती थी? किस लोकसभा सीट पर कम या ज्यादा विधानसभा सीटें हैं? सूत्रों के मुताबिक कुछ नेता इन सवालों के जवाब रट रहे थे, जबकि कुछ इनकी पर्चियां बनाकर ले आए थे और लिखित परीक्षा के दौरान उन्होंने बाकायदा नकल भी की। इम्तिहान देकर निकले कई पुराने कांग्रेसी बेहद नाराज और अपमानित महसूस कर रहे थे। अधेड़ उम्र के एक पूर्व विधायक ने कहा कि हमने कभी सोचा नहीं था कि से 30 साल की वफादारी के बाद हमें इस तरह से जूनियर नेताओं को इंटरव्यू देना पड़ेगा। परीक्षा देने वाले सीनियर नेताओं में अमरनाथ अग्रवाल, वीरेंद्र मदान, द्विजेंद्र त्रिपाठी, हिलाल नकवी जैसे नाम शामिल हैं। इनमें वीरेंद्र मदान तो राजीव गांधी के साथ भी काम कर चुके हैं। एक नेता ने यहां तक कह डाला कि ये सवाल खुद राहुल गांधी से पूछ दिए जाएं तो वो जवाब नहीं दे पाएंगे। यह भी पढ़ें: कांग्रेस को ब्राह्मण-मुक्त बनाने में जुटे हैं राहुल गांधी!

परीक्षा में बचकाने सवाल पूछे

कांग्रेस प्रवक्ता की लिखित परीक्षा और इंटरव्यू में कई बचकाने सवाल पूछे गए थे, जो आम तौर पर लोगों को याद नहीं रहते। जैसे कि जिलों, लोकसभा सीटों और विधानसभा सीटों की आबादी या वोटों का प्रतिशत। इसके अलावा लोगों से मनमोहन सिंह के कार्यकाल की मुख्य उपलब्धियां पूछी गईं, जिनके जवाब ज्यादातर लोगों के पास नहीं थे। इसके अलावा कांग्रेस के ज्यादातर नेताओं को यह भी नहीं पता था कि यूपी में कितने मंडल, जिले और ब्लॉक हैं। 2004 और 2009 में कांग्रेस की सीटों की संख्या भी कांग्रेस के इन दिग्गजों को नहीं मालूम थे। प्रवक्ता बनने आए इन नेताओं से जब आज के अखबार की तीन बड़ी खबरें पूछी गईं तो ज्यादातर चुप रह गए। क्योंकि किसी ने सुबह का अखबार तक नहीं पढ़ा हुआ था।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: ,