जानिए ‘तन्वी सेठ’ क्यों रहना चाहती हैं सादिया बेगम!

लखनऊ पासपोर्ट ऑफिस में अपने साथ भेदभाव की शिकायत करके हंगामा मचाने वाली सादिया सिद्धिकी उर्फ तन्वी सेठ के मामले का सच सामने आ चुका है। यह बात जाहिर हो चुकी है कि अपनी पहचान छिपाने के मकसद से ही उन्होंने पासपोर्ट अधिकारी विकास मिश्र को टारगेट किया। साथ ही यह सवाल भी उठ रहा है कि अपना धर्म छोड़कर मुसलमान बनने के बाद सादिया उर्फ तन्वी की ऐसी क्या मजबूरी थी कि वो अपनी मुस्लिम पहचान अपने साथ नहीं रखना चाहती थीं? दरअसल इसी के जवाब में लव जिहाद की इस्लामी साजिश का पूरा सच छिपा हुआ है। दरअसल तन्वी सेठ का केस उन तमाम गैर-मुस्लिम लड़कियों के लिए एक सबक है जो प्यार-मोहब्बत के भुलावे में आकर ऐसे मोड़ पर पहुंच जाती हैं, जहां से उनके लिए न तो आगे का रास्ता होता है और न ही पीछे जाने की कोई राह।

हिंदू पहचान, लेकिन मज़हब इस्लाम!

नोएडा में रहने वाली तन्वी की एक दोस्त ने अपनी पहचान छिपाते हुए इस बारे में कुछ अहम जानकारियां दीं। उनके मुताबिक “आईटी सेक्टर में काम करने वाले अनस सिद्धिकी और मुसलमान बन चुकी तन्वी सेठ करियर में ग्रोथ के लिए अब विदेश जाने की सोच रहे थे, लेकिन अब पासपोर्ट आड़े आ रहा था। तन्वी ने भावनाओं में बहकर शादी की थी और बिना एक बार भी सोचे-समझे अपना मज़हब और नाम सबकुछ बदलने पर रजामंदी जता दी थी। लेकिन भारत में अपने दफ्तर में वो तन्वी सेठ के नाम से ही जानी जाती रही।” दोस्त का दावा है कि तन्वी को कुछ इनसिक्योरिटी भी थी, जिसके कारण वो अपनी हिंदू पहचान को भी बनाए रखना चाहती थीं। शायद इस कारण क्योंकि विदेश जाने पर उन्हें मुसलमान होने के कारण मुश्किल होने का डर था।

ये भी है एक तरह का लव जिहाद

दरअसल कॉरपोरेट सेक्टर में काम करने वाले ज्यादार मुसलमान लड़के हिंदू लड़कियों से शादी करने के चक्कर में रहते हैं। इससे उनका दोहरा काम हो जाता है। एक तो इस्लाम की सेवा हो जाती है और दूसरे हिंदू लड़की के बहाने मॉडर्न बीवी मिल जाती है। वरना मुस्लिम लड़की से शादी करने पर उसे लेकर मॉडर्न सोसाइटी में एडजस्ट करना मुश्किल होता है। ऐसे लड़कों का आसान शिकार होती हैं वो हिंदू सहकर्मी, जो छोटे शहरों में मिडिल क्लास परिवारों से ताल्लुक रखती हैं। उन्हें लगता है कि लड़का भले ही मुसलमान है लेकिन बहुत आजाद ख्याल वाला है। इसके बाद भावनाओं में बहकर वो ऐसी गलतियां करती जाती हैं, जिनमें वापस लौटने का कोई रास्ता नहीं बचता। यही कारण है कि ऐसी लड़कियां अक्सर अपने हिंदू नाम को अपने साथ बनाए रखने की कोशिश करती हैं। कुछ दिन पहले मुंबई में एक मॉडल का मामला सामने आया था, जिसमें उसके पति ने घर से निकाल दिया था। उस मामले का वीडियो आप नीचे देख सकते हैं:

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments