Loose World

मुस्लिम इलाकों में जाने से क्यों डरती है ब्रिटिश पुलिस

ब्रिटेन की पुलिस ने आखिरकार माना है कि उनके देश में कई इलाके ऐसे हैं जहां उसकी एंट्री पर बैन है। इन इलाकों को उन्होंने ‘नो-गो ज़ोन’ कहा है। एक बड़े ब्रिटिश पुलिस अफसर ने कहा है कि इन इलाकों में पैट्रोलिंग के लिए भी उन्हें मुस्लिम नेताओं से अनुमति लेनी पड़ती है। अखबार डेली मेल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक लैंकशर पुलिस डिपार्टमेंट के इस अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर माना है कि प्रेस्टन और ऐसे कई मुस्लिम इलाके हैं, जहां पुलिस भी घुसने से डरती है। इस रिपोर्ट के बाद से ब्रिटिश पुलिस के कई अफसरों ने अपनी-अपनी आपबीती सोशल मीडिया और दूसरे माध्यमों से बताई है। कुछ पुलिस अफसरों ने यहां तक बताया है कि अगर मुस्लिम इलाकों में उनके साथ मारपीट होती है और वो वापस आकर शिकायत करते हैं तो ये उलटा उन्हीं की गलती मानी जाती है। मल्टीकल्चरिज्म के नाम पर बीते कुछ साल में ब्रिटेन की सरकारों ने मुस्लिम कट्टरपंथियों को खूब बढ़ावा दिया है। यह भी पढ़ें: शरणार्थी बनकर आए थे, अब शरिया कानून चाहते हैं।

खौफ के साये में है ब्रिटिश पुलिस

उत्तरी इंग्लैंड में यॉर्कशर के एक पुलिस अफसर ने विभाग के वेब फोरम पर लिखा है कि “यूनीफॉर्म पहनकर मैं मुस्लिम इलाकों में नहीं जा सकता हूं। यहां तक कि अपनी पर्सनल कार में भी नहीं। मैं ही नहीं, सारे पुलिसवालों पर इन इलाकों में हमले का खतरा रहता है। इस मामले में अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप जो कहते हैं वो गलत नहीं है। अफसोस है कि ब्रिटेन के राजनीतिक नेता इन हालात की तरफ ध्यान नहीं दे रहे। या तो उन्हें पता ही नहीं है या वो जानना ही नहीं चाहते। कोई भी देश इस स्थिति को कैसे बर्दाश्त कर सकता है? क्या कोई कल्पना कर सकता है कि अमेरिका में पुलिस विभाग अपने ही अफसरों को कहे कि वो फलां-फलां इलाकों में जाने से पहले अपनी यूनीफॉर्म पर मोटा जैकेट या कोट पहन लें? क्यों वहां पर उन्हें पहचान लिया गया तो मार दिया जाएगा।” यह भी पढ़ें: चीन ने अपने देश में इस्लाम पर पाबंदी लगाई

पुलिसवालों की नहीं होती सुनवाई!

एक महिला पुलिस अधिकारी ने लिखा है कि “अगर हमें पुलिस वैन से खींचने की कोशिश हो या हमारी हत्या हो जाए तो भी इसे आम अपराध की तरह दर्ज किया जाता है। क्योंकि ब्रिटिश सरकार और पुलिस विभाग के बड़े अधिकारी मानते हैं कि अगर यह लिख दिया गया कि हमलावर मुसलमान हैं और वो लगातार खतरा बने हुए हैं तो हमारे देश का मानवाधिकार का रिकॉर्ड खराब हो जाएगा।” इसी साल वॉलेंटरी रिटायरमेंट लेने वाले एक पुलिस अधिकारी ने इस डेली मेल से बातचीत में कहा है कि “मुझसे अब और बर्दाश्त नहीं हो रहा था। पुलिस की वर्दी पहनने वाला कानून का प्रतिनिधि होता है। अगर वो डरा हुआ है तो ऐसी वर्दी का क्या फायदा?” यह बात अक्सर सामने आती रही है कि मुस्लिम इलाकों में पुलिस वर्दी के बजाय टी-शर्ट पहनती है, ताकि खुद को बचा सके। स्कॉटलैंड यार्ड की तरफ से उन्हें ऐसे आदेश मिले हुए हैं।

इस्लामी देश बनता जा रहा है ब्रिटेन

ये हैरान करने वाली बात है कि ब्रिटेन का तेज़ी से इस्लामीकरण हो रहा है और वहां की सरकारें इस ओर से आंखें मूंदे हुए हैं। वहां के इतिहास में पहली बार ईसाइयों की आबादी 60 फीसदी से भी कम हो चुकी है। जबकि मुसलमानों की संख्या 5 फीसदी के करीब है। ये वो आबादी है जो वैध तरीके से रहती है। माना जाता है कि बड़ी संख्या में अवैध तौर पर रह रहे मुसलमान भी कुछ इलाकों में हैं। ईसाइयों के बाद सबसे ज्यादा 26 फीसदी लोग ऐसे हैं जो किसी धर्म को नहीं मानते। इनमें भी ज्यादातर वो लोग हैं जो मूलत: ईसाई या हिंदू धर्म से ताल्लुक रखते थे।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

Polls

क्या अमेठी में इस बार राहुल गांधी की हार तय है?

View Results

Loading ... Loading ...