Loose Top

चिदंबरम की काली कमाई गांधी परिवार से भी ज्यादा!

सोनिया और मनमोहन सिंह की यूपीए सरकार में वित्तमंत्री रहे पी चिदंबरम की लूट का कच्चा-चिट्ठा सामने आ रहा है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने शुक्रवार 11 मई को चेन्नई की स्पेशल कोर्ट में चिदंबरम, उनकी पत्नी नलिनी चिदंबरम, बेटा कार्ति और बहू श्रीनिधि के खिलाफ कालाधन कानून के तहत चार चार्जशीट दाखिल कीं। उन पर ब्लैकमनी एक्ट की धारा-50 के तहत केस आरोप लगाया गया है, जिसमें दोषी पाए जाने पर 120 फीसदी जुर्माना और 10 साल तक की जेल संभव है। चार्जशीट में चारों आरोपियों की कुल मिलाकर 3 अरब डॉलर यानी रुपये में 20 हजार करोड़ की जायदाद का ब्यौरा दिया गया है। साथ ही कहा गया है कि अवैध तरीके से कमाए गए इस धन को इन चारों ने कहीं पर घोषित नहीं किया था। माना जाता है कि चिदंबरम ने ये सारी अवैध कमाई अपनी नेता सोनिया गांधी की जानकारी में बटोरी थी। फिलहाल उनकी कुल जायदाद गांधी परिवार से भी बढ़कर मालूम होती है।

14 देशों में 3 अरब डॉलर

आयकर विभाग के अनुसार चिदंबरम और उनके परिवार ने 14 देशों में 3 अरब डॉलर यानी लगभग 20 हजार करोड़ रुपए की संपत्ति गैरकानूनी तरीके से कमाई है। इसके अलावा विदेशी बैंकों में कुल 21 अकाउंट का अब तक पता चला है। चिदंबरम एंड फैमिली की लूट का पता तब चला था जब दिसंबर 2015 में एयरसेल मैक्सिस घोटाले में छापेमारी हुई थी। तब उनकी बेनामी संपत्तियों से जुड़े कई दस्तावेज पकड़े गए थे। इसके बावजूद चिदंबरम अफसरशाही में अपनी पकड़ की बदौलत मामले को लटकाता रहा। जिसके बाद बीजेपी सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने पीएम नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी भेजकर पूरे मामले की जानकारी दी और नए ब्लैकमनी और बेनामी कानून के तहत केस दर्ज करने की मांग की। इसके बाद पीएम मोदी ने सीधे इस मामले की निगरानी शुरू कर दी। इसके बावजूद वित्त मंत्रालय के कुछ अफसरों ने चिदंबरम को बचाने की कोशिश जारी रखी। लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिल पाई। चिदंबरम पर अभी कसे शिकंजे के पीछे बड़ा हाथ शीना वोरा हत्याकांड की आरोपी इंद्राणी मुखर्जी का भी है। यही कारण है कि मुंबई के तिहाड़ जेल में उसे मारने की कोशिश हो चुकी है। पढ़ें रिपोर्ट:जेल में बंद इंद्राणी मुखर्जी को कौन मारना चाहता है?

देश का सबसे भ्रष्ट परिवार

चार्जशीट में ब्रिटेन के कैंब्रिज में 5.37 करोड़ रुपये की प्रॉपर्टी का भी ब्यौरा दिया गया है। इसके अलावा ब्रिटेन में ही 80 लाख की प्रॉपर्टी, अमेरिका में 3.28 करोड़ रुपये की जायदाद की भी जानकारी दी गई है। सभी आरोपियों को 11 जून को कोर्ट में हाजिर होने का आदेश दिया गया है। चार्जशीट को रुकवाने के लिए चिदंबरम ने हर दांवपेच आजमाया। यहां तक कि मद्रास हाई कोर्ट में पिछले हफ्ते एक याचिका भी डलवाई। लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। इस पूरी लूट में बेटे कार्ति की कंपनी चेस ग्लोबल एडवाइजरी के घोटाले भी सामने आ गए हैं। कुल मिलाकर चिदंबरम का पूरा परिवार इस लूट में शामिल था और सभी ने अपने-अपने तरीके से गबन को अंजाम दिया था। यही कारण है कि बीजेपी ने उनकी तुलना पाकिस्तान के नवाज शरीफ परिवार से की है।

घोटालों पर बचकानी सफाई

इन आरोपों पर चिदंबरम की सफाई बेहद हास्यास्पद है। उन्होंने कहा है कि लापरवाही के कारण वो और उनके परिवारवाले विदेशों में कमाए धन को इनकम टैक्स रिटर्न में शामिल नहीं कर पाए। ये सफाई वो व्यक्ति दे रहा है जो देश का वित्त मंत्री रहा है। चिदंबरम, उनकी पत्नी और उनके बेटे ने कानून की पढ़ाई की है। वो लंबे समय तक वित्तीय मामलों से जुड़े मंत्रालयों के प्रमुख रहे हैं। सवाल उठता है कि क्या चिदंबरम वित्त मंत्री के रूप में एक आम करदाता की लापरवाही को भी ऐसे ही माफ कर देते?

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!