Loose Top

चैनलों के पत्रकार ही नहीं, पब्लिक भी फिक्स्ड है!

न्यूज चैनलों पर अक्सर आप आम जनता के तौर पर बुलाए गए लोगों के सवाल देखते हैं। आपको लगता होगा कि ये वाकई आम लोग हैं और जनता से जुड़े सीधे सवाल पूछ रहे हैं। लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि चैनलों पर दिखने वाली ये ‘आम जनता’ भी फिक्स होती है। सोशल मीडिया पर सक्रिय लोगों ने एक ऐसे चेहरे का भंडाफोड़ किया है जो आजतक, इंडिया टीवी और एनडीटीवी इंडिया जैसे कांग्रेस समर्थक चैनलों पर आम नागरिक बनकर बैठता है और नेताओं से सवाल पूछता है। खालिद समीर नाम का ये लड़का कांग्रेस पार्टी का सक्रिय समर्थक है और न्यूज़लूज़ को मिली जानकारी के मुताबिक कांग्रेस के एक बड़े नेता के इशारे पर उसे चैनलों की बहसों में बिठाया जाता है। उसकी जिम्मेदारी पहले से तय वो सवाल पूछने की होती है, जिसे एंकर सीधे पूछ नहीं सकते। यह भी पढ़ें: कांग्रेस नेता को आम कारोबारी बताकर मोदी को गाली दिलाई

खालिद समीर इकलौता नहीं है!

न्यूज़लूज़ को मिली जानकारी के मुताबिक चैनलों में आम नागरिक बताकर बिठाए जा रहे लोगों में खालिद समीर इकलौता नहीं है। उसके जैसे कई दर्जन लड़के-लड़कियां ऐसे ही चैनलों की बहसों में घुसाए जा रहे हैं। इन सभी को पहले से तय सवाल दिए गए होते हैं, जो अक्सर झूठ पर आधारित होते हैं। इन्हें बीजेपी या संघ की तरफ से आए प्रवक्ताओं को असहज करने के लिए पूछा जाता है। जहां तक खालिद समीर की बात है वो खुद को मॉस कम्युनिकेशन का छात्र बताता है। ऐसे बाकी लोग भी खुद को मास कम्युनिकेशन या मैनेजमेंट के छात्र बताते हैं। समीर खालिद ने ये मामला सामने आने के बाद अपने फेसबुक प्रोफाइल से ऐसी तस्वीरों को हटा दिया। साथ ही अपने ट्विटर अकाउंट को प्राइवेट कर लिया। फिलहाल उसकी कई तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं।

फर्जी आम नागरिक क्यों जरूरी?

दरअसल टीवी पर बहस के कई कार्यक्रमों में आम जनता की शिरकत होती है। लोग जो सवाल पूछते हैं उससे जनता के मूड का भी अंदाजा लगता है। आम तौर पर इनमें लोग कभी कांग्रेस या राहुल गांधी से खुश नहीं दिखते। जनता के इसी मूड को प्रभावित करने के मकसद से कांग्रेस ने ऑडिएंस के बीच अपने लोगों को घुसाने की रणनीति पर काम शुरू किया है। टीवी टुडे समूह के लिए गेस्ट कोऑर्डिनेशन का काम करने वाले एक वरिष्ठ सदस्य ने इस बात की पुष्टि की कि बीते 2-3 साल में कांग्रेस पार्टी की तरफ से अपने लोग बिठाने का दबाव बढ़ा है। अक्सर वो संपादकों या एंकर से ही बात कर लेते हैं ताकि जिस व्यक्ति को आम जनता बता कर कार्यक्रम में बिठाना है उसे बोलने का मौका भी मिले। यही कारण है कि खालिद समीर नाम के इस शख्स को हर प्रोग्राम में एंकर माइक थमा देते हैं।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...