जब सामने आई ब्राह्मणों के लिए राहुल गांधी की घृणा!

दिल्ली में कांग्रेस महाधिवेशन में राहुल गांधी ने अपने समापन भाषण में हिंदुओं और ब्राह्मण परंपरा का एक बार फिर से अपमान किया है। खुद को पंडित बताने वाले राहुल गांधी ने अपने भाषण के दौरान मंदिर जाने की दो कहानियां सुनाईं। यह तो समझ में नहीं आया कि वो ये कहानियां सुनाकर क्या जताना चाहते थे, लेकिन इतना साफ है कि इन कहानियों से उनके मन में हिंदुओं और ब्राह्मण परंपरा के लिए नफरत जाहिर हो गई। राहुल गांधी ने कहा कि वो काफी पहले से मंदिरों में जाते रहे हैं लेकिन कभी उन्होंने इसका प्रचार नहीं किया। लेकिन मंदिर के पूजा-पाठ और कर्मकांड के बारे में उन्होंने जैसी बातें कहीं उससे कोई भी समझ सकता है कि कांग्रेस के युवराज झूठ बोल रहे थे। (नीचे सुनें भाषण का वो हिस्सा)

हिंदू धर्म के लिए छिपी नफरत

राहुल गांधी ने भाषण में दो कहानियां सुनाईं। पहली कहानी में उन्होंने एक मंदिर जाने की बात बताई। जिसमें बकौल उनके ‘पुजारी ने शिव जी पर दूध डाला… फिर पानी डाला’ तो राहुल गांधी ने उससे पूछा कि आप ये क्या कर रहे हैं। कोई भी हिंदू जानता है कि जिसे राहुल गांधी दूध डालना और पानी डालना कह रहे हैं उसे दुग्धाभिषेक और जलाभिषेक कहा जाता है। राहुल गांधी ने बताया कि पुजारी ने उनसे कहा कि भगवान इस मंदिर में ही नहीं, मस्जिद और चर्च में भी मिल जाएंगे। आप खुद समझ सकते हैं कि राहुल गांधी के कहने का क्या मतलब था। बात सही है कि भगवान कहीं भी मिल जाएंगे, लेकिन इसके लिए जो नाटकीय कहानी उन्होंने गढ़ी थी उसके पीछे का मकसद वो छिपी हुई नफरत थी, जिसके तहत वो हिंदू धर्म को नीचा दिखाना चाहते थे। दूसरी कहानी में भी राहुल एक शिव मंदिर में गए। वहां के पुजारी ने उनसे कहा कि मैंने तुम्हारे प्रधानमंत्री बनने के लिए पूजा कर दी है, जब तुम प्रधानमंत्री बन जाना तो मंदिर में सोना लगवा देना। मतलब ये कि वो पुजारी इतना लालची था कि उसने उन्हें प्रधानमंत्री बनवाने के बदले सोने की मांग की।

सोशल मीडिया पर उड़ा मज़ाक

फेसबुक और ट्विटर पर राहुल गांधी की इन विचित्र कहानियों को लेकर खूब मजाक उड़ा। कई लोगों ने लिखा है कि 48 सालों तक जनेऊधारी पंडित राहुल गांधी को ये पता नही चला कि शिवलिंग पर जल और दूध क्यों चढ़ाते हैं। उन्होंने 2 मंदिरों के पुजारियों से पूछा और फिर हिंदू धर्म का मज़ाक उड़ाया। अगर वो हिंदू होते तो ऐसी बकवास कहानी कभी नहीं सुनाते। कुछ लोगों ने राहुल गांधी की इस विचित्र कहानी को उनकी दिमागी हालत से जोड़कर चुटकियां लीं। राहुल गांधी ने कुछ समय पहले कहा था कि जो लोग मंदिरों में जाते हैं वो लड़कियां छेड़ते हैं इस बात को लेकर भी उनकी काफी खिल्ली उड़ाई जा चुकी है।

एक नजर सोशल मीडिया की कुछ टिप्पणियों पर।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,