Loose Top

सोनिया ने मोदी को सीबीआई से ‘किडनैप’ कराया था!

शायद आपको यकीन न हो लेकिन यह दावा गुजरात के पूर्व आईपीएस अफसर डीजी वंजारा ने किया है। उन्होंने स्पेशल सीबीआई कोर्ट में दिए बयान में यह बात कही है। डीजी वंजारा को लश्कर की आतंकवादी इशरत जहां का एनकाउंटर करने के ‘अपराध’ में गिरफ्तार किया गया था। उन्होंने कोर्ट के आगे दिए बयान में बताया है कि इशरत जहां एनकाउंटर मामले में तब के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को फंसाने की पूरी कोशिश थी। इसी मकसद से सीबीआई ने रातों-रात गुजरात के मुख्यमंत्री को पूछताछ के लिए उठा लिया था। यह पूछताछ टॉप सीक्रेट थी। पीएम मोदी ने भी पूछताछ का कभी जिक्र नहीं किया। अगर वंजारा का दावा सही है तो इसे कानूनन किडनैपिंग यानी अपहरण ही माना जाएगा कि कोई जांच एजेंसी किसी से अवैध तरीके से पूछताछ करे।

सारे सबूत और दस्तावेज गायब!

इशरत जहां मामले में सीबीआई कोर्ट के आगे अपने डिस्चार्ज एप्लिकेशन में वंजारा ने बताया है कि सीबीआई इस केस में नरेंद्र मोदी से भी पूछताछ कर चुकी है, लेकिन उन्होंने सारे रिकॉर्ड गायब कर दिए ताकि कोई सबूत न बचे। इसके बाद उन्होंने जो भी दस्तावेज तैयार किए हैं वो झूठे हैं। लश्करे तोएबा की 19 साल की आतंकवादी इशरत जहां मुंबई के पास मुंब्रा की रहने वाली थी। उसे तीन साथी आतंकियों के साथ 15 जून 2004 को अहमदाबाद के पास मुठभेड़ में मार गिराया गया था। कहते हैं कि सोनिया गांधी के इशारे पर ही इशरत जहां को आम लड़की साबित करने की कोशिश हुई और उसकी मौत का दोषी पुलिस अफसरों और यहां तक कि मुख्यमंत्री को बनाने की कोशिश की गई। इशरत जहां अपने साथियों के साथ मोदी की हत्या के मकसद से ही अहमदाबाद गई थी। अमेरिकी आतंकी डेविड हेडली ने भी माना था कि इशरत जहां एक मिशन पर अहमदाबाद गई थी।

पूछताछ करने वाला अफसर कौन?

डीजी वंजारा ने बताया है कि इशरत केस के जांच अधिकारी सतीश वर्मा को जिम्मेदारी दी गई थी कि वो हर हाल में तब के सीएम नरेंद्र मोदी को फंसाए। इसी मकसद से सतीश वर्मा ने मोदी को बिना वारंट या किसी इजाज़त के अपने साथ ले जाकर पूछताछ की थी। माना जाता है कि सतीश वर्मा तब के गृह मंत्री पी चिदंबरम और यूपीए चेयरमैन सोनिया गांधी का बेहद करीबी था। वंजारा के बयान के आधार पर स्पेशल सीबीआई जज जेके पंड्या ने सीबीआई को नोटिस जारी करते हुए 28 मार्च तक जवाब देने को कहा है। तब गुजरात के डीआईजी रहे वंजारा को पिछले ही साल माफिया सरगना सोहराबुद्दीन के एनकाउंटर के मामले से कोर्ट ने बरी किया है।

 

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...