Loose Top

महिला पत्रकार के साथ कांग्रेसियों की शर्मनाक हरकत

अनीशा माथुर की ट्विटर पोस्ट से ली गई तस्वीर।

महिलाओं के लिए कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं की सोच एक बार फिर सामने आ गई है। एक बड़े अंग्रेजी चैनल की महिला पत्रकार ने ट्विटर पर लिखा है कि दिल्ली के जंतर-मंतर पर यूथ कांग्रेस के प्रदर्शन की रिपोर्टिंग के दौरान उसके साथ छेड़खानी और बदसलूकी की गई। ये महिला पत्रकार अंग्रेजी न्यूज चैनल टाइम्स नाऊ में सीनियर कॉरस्पॉन्डेंट हैं। उन्होंने लिखा है कि जब मैं प्रदर्शन की कवरेज के लिए पहुंची तो वहां मौजूद कार्यकर्ताओं ने मेरे साथ छेड़खानी की। हैरानी की बात ये है यूथ कांग्रेस ने ये प्रदर्शन चंडीगढ़ में छेड़खानी की घटना के विरोध में आयोजित किया गया था। इसमें अहमद पटेल और राजबब्बर जैसे बड़े नेता भी मौजूद थे।

‘पकड़ने और नोंचने की कोशिश’

अनीशा माथुर ने लिखा है कि भीड़ का फायदा उठाकर कुछ कार्यकर्ताओं ने उन्हें ‘पकड़ने और नोंचने’ की कोशिश की। ये हालत तब है जब प्रदर्शन छेड़खानी के खिलाफ आयोजित किया गया था। जब उन्होंने इस बारे में ट्विटर पर शिकायत की तो कांग्रेसी कार्यकर्ता और समर्थक टूट पड़े और वहां पर भी उनके साथ बदसलूकी की गई। अनीशा से सवाल पूछे गए कि ‘आप भीड़ में गई ही क्यों थीं?’ इस पर उन्होंने जवाब दिया है कि क्या भीड़ में होने का मतलब है कि उन्हें किसी लड़की के साथ बदसलूकी और छेड़खानी करने की छूट मिल गई। जंतर-मंतर पर आए दिन लगभग सभी राजनीतिक दलों के धरने-प्रदर्शन होते रहते हैं। यह पहली बार है जब किसी दल के समर्थकों ने इतनी गिरी हुई हरकत की है।

पुलिस ने दिया जांच का भरोसा

अनीशा माथुर ने अपने साथ हुई घटना की शिकायत दिल्ली पुलिस में भी की है। उन्होंने इस शिकायत में किसी का नाम नहीं लिखा है। लेकिन उनकी शिकायत मोटे तौर पर प्रदर्शन में आए कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के खिलाफ है। दिल्ली पुलिस ने इसकी पुष्टि करते हुए जांच का भरोसा दिलाया है। अपने कार्यकर्ताओं की हरकत पर कांग्रेस के बड़े नेताओं ने चुप्पी साध रखी है। एक दिन पहले तक महिला सुरक्षा के मसले पर बड़ी-बड़ी बातें करने वाले किसी नेता ने इस मुद्दे पर प्रतिक्रिया देना तक जरूरी नहीं समझा। सिर्फ यूथ कांग्रेस ने एक आधिकारिक बयान जारी करके घटना की निंदा कर दी और माना कि शायद भीड़ का फायदा उठाकर किसी ने गलत फायदा उठाने की कोशिश की है।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...