अमरनाथ के बाद अब यूपी में कांवड़ियों पर हमला

अमरनाथ यात्रियों पर हमलों के बाद एक बार फिर से शिवभक्तों पर हमला हुआ है। इस बार यूपी के बरेली में कांवड़ियों की एक टोली को निशाना बनाकर पथराव किया गया। इस हमले में कम से कम 24 कांवड़िए घायल हो गए। जबकि आईटीबीपी के छह जवान और कई पुलिसवाले भी बुरी तरह जख्मी हुए। ये पूरी घटना शिवरात्रि के दिन की है। लोकल मीडिया में खबर छापी, लेकिन दिल्ली की सेकुलर मीडिया ने मामले को रफा-दफा कर दिया और खबर तक नहीं दिखाई। यहां खैलम गांव में कांवड़िए जलाभिषेक करके लौट रहे थे। इस मामले में जिले के डीएम की भूमिका बेहद आपत्तिजनक रही है। डीएम ने घटना के फौरन बाद कह दिया कि कांवड़ियों की गलती है, उन्हें दूसरे रास्ते से जाना चाहिए था। जबकि कांवड़ियों का कहना है कि जिस दूसरे रास्ते से जाने को उन्हें कहा जा रहा था वो खेतों वाला लंबा रास्ता है। अब तक मुख्य सड़क से ही कांवड़ यात्रा होती रही है।

दो घंटे तक मारे-पीटे गए कांवड़िए!

अलीगंज मोहल्ले से गुजरते हुए कांवड़ियों को शांतिदूतों ने रोक दिया। इससे नाराज कांवड़ियों ने रास्ता जामकर दिया। इसके बाद भारी पुलिसबल और आईटीबीपी के जवान मौके पर पहुंच गए। कांवड़ियों को कड़ी सुरक्षा में वहां से निकाला जा रहा था तभी सड़क के दोनों तरफ मकानों और छतों से भारी पथराव शुरू हो गया। चश्मदीदों के मुताबिक एक मस्जिद से सबसे ज्यादा पथराव हो रहा था। यहां तक कि महिलाएं भी इसमें शामिल थीं। इस हमले में 24 कांवड़िये घायल हुए। इसके अलावा एसडीएम, नायब तहसीलदार, आईटीबीपी के 6 जवानों समेत प्रशासन के दर्जनों लोगों को चोटें आईं। इसके बाद रास्ते में कई जगहों पर कांवड़ियों पर पत्थर फेंके गए।

पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगवाए!

चश्मदीदों के मुताबिक एसपी देहात, एडीएम, सीओ और एसडीएम समेत तमाम अफसरों की मौजूदगी में यह हमला हुआ। इस दौरान शांतिदूतों की भीड़ एक एसडीएम को एक घर में खींच ले गई। जिसके बाद बड़ी मुश्किल से पथराव का सामना करते हुए जवानों ने एसडीएम की जान बचाई। एसडीएम के अलावा कई कांवड़िये भी शांतिदूतों के हत्थे चढ़ गए और उन्हें बुरी तरह से मारा-पीटा गया। कुछ लोगों का दावा है कि उनसे पाकिस्तान जिंदाबाद, हिंदुस्तान मुर्दाबाद के नारे लगवाए गए। शांतिदूतों ने पथराव के अलावा गोलियां भी चलाईं। जिस बड़े पैमाने पर पथराव किया गया उसे देखकर यही लग रहा है कि इसकी तैयारी काफी समय पहले से कर ली गई थी। फिलहाल पूरे इलाके में तनाव बना हुआ है। इलाके में हमलावरों के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया गया है। कुछ लोगों को हिरासत में भी लिया गया है। इस पूरी घटना पर मीडिया के रवैये को लेकर गुस्सा है। लोगों ने सोशल मीडिया के जरिए अपनी बात लिखी है।

घटना का वीडियो देखें:

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,