‘मेरे योगेश को मुसलमानों ने पीट-पीटकर मार डाला’

फोटो सौजन्य और इनपुट्स- मेल टुडे

हाल के दिनों में पीट-पीटकर हत्या के कुछ मामले खूब चर्चा में रहे, खास तौर से तब जब पीड़ित मुसलमान हो। लेकिन जब पीड़ित हिंदू होता है और हत्यारे मुसलमान तो मीडिया चुप्पी साध लेता है। दिल्ली में ऐसा ही एक मामला सामने आया है, जहां 14 साल के एक लड़के की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। बच्चे की मां का आरोप है कि उसके ही दोस्तों ने उसे बंधक बनाकर हत्या की है। ये सभी दोस्त मुसलमान हैं। योगेश नाम के इस लड़के को खून से लथपथ हालत में बीते महीने नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर पाया गया था। थोड़ी ही देर में उसकी मौत हो गई थी। लड़के के पूरे शरीर पर गहरी चोट के निशान थे। दिल्ली पुलिस ने मामला तो दर्ज कर लिया, लेकिन छानबीन के नाम पर केस रफा-दफा करने की कोशिश शुरू कर दी। जबकि बच्चे की मां न सिर्फ आरोपियों के नाम बता रही हैं, बल्कि हत्या की वजह भी। हत्या के आरोपी मुसलमान हैं, लिहाजा मीडिया ने चुप्पी साध रखी है।

मां को आज भी इंसाफ का इंतजार

योगेश की मां सीमा का आरोप है कि 23 जून के दिन एक फोन करके उसे बुलाया गया। फोन के बाद से योगेश बहुत डरा हुआ था। लेकिन वो उनके पास चला गया। इसके कुछ देर बाद आरिफ नाम के एक शख्स का फोन आया और उसने बेटे की जान बख्शने के बदले में 10 हजार रुपये फिरौती मांगी। अगली सुबह नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के पास उसकी हत्या कर दी गई। सीमा की तबीयत ठीक नहीं रहती और बेटा ही उनके बुढापे का सहारा था। खुद सीमा घर चलाने के लिए घरेलू नौकरानी का काम करती हैं। सीमा का कहना है कि घटना के वक्त ही उन्होंने पुलिस को पूरी जानकारी दे दी थी, लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। योगेश का परिवार शाहदरा के मीतनगर में रहता है। मां के इलाज के लिए वो छोटे-मोटे काम करता था। मां का आरोप है कि कुछ मुसलमान लड़के उससे वसूली करते थे और शायद इसी चक्कर में ये हत्या हुई है। आरोपी योगेश को हिंदू होने के नाते शुरू से ही परेशान करते थे।

मीडिया ने खबर दबाने की कोशिश की

पोस्टमार्टम के मुताबिक योगेश के पूरे चेहरे, शरीर और कंधे पर गहरी चोटें थीं। ऐसा लग रहा था कि उसे किसी धारदार हथियार से मारा गया है। हालांकि पुलिस मामले में चुप्पी साधे हुए है और छानबीन की बात कह रही है। सबसे हैरानी में डालने वाली रही मीडिया की प्रतिक्रिया, जिसने पूरी खबर दबा दी। एक पड़ोसी ने बताया कि कुछ मीडिया वाले आए भी थे, लेकिन जैसे ही उन्हें पता चला कि हिंदू-मुसलमान का मामला है वो चले गए। हालांकि मेल टुडे अखबार ने इस हत्याकांड पर एक छोटी सी रिपोर्ट छापी है। उसने डॉक्टर के हवाले से बताया है कि योगेश के साथ बहुत बर्बरता की गई थी। उसे बहुत बुरी तरह से पीट-पीटकर मारा गया है। उसकी चोटों पर फूटी हुई बोतलों और पत्थर के टुकड़े भी मिले थे।
यह भी पढ़ें: बल्लभगढ़ में मारे गए जुनैद की करतूत जान लीजिए

योगेश की हत्या ने दिल्ली की मीडिया के चरित्र पर बड़ा सवाल खड़ा कर दिया है, जिसने जुनैद नाम के लड़के की मौत सीट के झगड़े में होने के बावजूद उसे बीफ का मामला बना दिया था, जबकि योगेश नाम के लड़के को पीट-पीटकर मारे जाने की खबर पूरे सोचे-समझे तरीके से गायब कर दी गई। ये दोनों हत्याएं एक दिन के अंदर पर यानी 22 और 23 जून को हुईं। लेकिन जुनैद के मारे जाने पर देश-विदेश में हंगामा खड़ा कर दिया गया, लेकिन एक हिंदू की मौत पर उसकी मां के सिवा कोई रोने वाला भी नहीं है।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , , ,