अब आधार, पैन कार्ड में गड़बड़ी खुद ठीक कीजिए!

अगर आपके आधार कार्ड या पैन कार्ड में कोई गड़बड़ है तो उसे ठीक कराने के लिए आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है। इनकम टैक्स विभाग ने इसके लिए ऑनलाइन सुविधा शुरू की है, जिसकी मदद से कोई भी खुद ही आधार या पैन कार्ड की किसी डिटेल में फेरबदल कर सकता है। इसके जरिए नाम, पिता का नाम, पता, जन्मदिन समेत कई दूसरे बदलाव किए जा सकेंगे। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने पैन को आधार से लिंक करना आसान करने के साथ अपनी ई-फाइलिंग वेबसाइट पर एक नया हाइपर लिंक शुरू किया है जिस पर क्लिक करके आप अपने मौजूदा पैन डेटा में बदलाव कर सकते हैं। साथ ही भारतीय या विदेशी नागरिकता वाले इसके जरिए पैन के लिए आवेदन भी कर सकते हैं। इसी के नीचे दिए दूसरे लिंक के जरिए आप आधार के डेटा में बदलाव कर सकते हैं। इसके लिए आधार सेल्फ सर्विस पोर्टल पर लॉगिन करना होगा।

कैसे होगा वैरीफिकेशन?

अपने पैन या आधार की डिटेल में कोई बदलाव करने के बाद आपको प्रूफ के लिए मांगा गया डॉक्यूमेंट स्कैन करके अपलोड करना होगा। जिसके बाद जमा किए गए डॉक्यूमेंट का वैरीफिकेशन होगा और जरूरी बदलावों को अप्रूव कर दिया जाएगा। अगर कोई गड़बड़ी पाई गई तो आपको ईमेल के जरिए इसकी सूचना भेज दी जाएगी। वैसे आधार और पैन डिटेल्स में बदलाव का मौजूदा सिस्टम भी जारी रहेगा, जिसके तहत कोई आधार या पैन के ऑथराइज्ड दफ्तर में जाकर बदलाव के लिए आवेदन देता है। यह काम एजेंट के जरिए कराने पर अभी एक तय फीस भी देनी होती है। नई सुविधा का फायदा कंप्यूटर या मोबाइल किसी भी जरिए से उठाया जा सकता है।

टैक्स दायरा बढ़ाने की कोशिश

अभी देश में करीब 111 करोड़ लोगों के पास आधारकार्ड है। इनमें से मात्र 1.22 करोड़ लोगों ने अब तक अपने आधार नंबर को पैन से लिंक किया है। यह संख्या काफी कम है। देश में इस समय सिर्फ करीब 6 करोड़ लोग इनकम टैक्स जमा करते हैं। ऐसे में कम से कम इतने लोगों के आधारकार्ड और पैन आपस में लिंक कराने का लक्ष्य अभी रखा गया है। इनकम टैक्स का दायरा बढ़ाने के लिए ही सरकार ने टैक्स रिटर्न फाइल करने के लिए आधारनंबर को जरूरी बना दिया है। इससे उम्मीद है कि एक से ज्यादा पैन नंबर रखकर टैक्स चोरी करने वालों को पकड़ा जा सकेगा। टैक्स का दायरा बढ़ा तो इससे ईमानदारी टैक्स देने वालों पर सारा बोझ कम होगा।

आधार में होगी पूरी जानकारी

इसको लेकर उठाए जा रहे तरह-तरह के विवादों के बीच सरकार इस सिस्टम को पुख्ता बनाने में जुटी हुई है। इसी के तहत आधार से बैंक खाते जुड़वाए गए थे। एक चरणबद्ध तरीके से सरकार बारी-बारी सारे जरूरी डॉक्यूमेंट को आधार के साथ जोड़ रही है। ताकि विभिन्न सरकारी योजनाओं को असरदार तरीके से लागू किया जा सके। फिलहाल आप इनकम टैक्स विभाग की ही वेबसाइट पर अपने पैन और आधार को भी लिंक कर सकते हैं। इसमें भी तरीका वही है। अपनी तरफ से डेटा डालने के बाद आपको वैरीफिकेशन के लिए इंतजार करना होगा। मामूली सी भी गलती से ये एप्लिकेशन रिजेक्ट हो सकती है। जैसे कि आपने नाम की स्पेलिंग में कोई गलती कर दी या UIDAI का ओटीपी गलत दिया तो आपकी अर्जी खारिज हो सकती है।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,