सर्जिकल स्ट्राइक से भी बड़ी सर्जरी शुरू हो चुकी है!

एलओसी पर दो भारतीय जवानों के सिर काटने की घटना पर बदले की कार्रवाई शुरू हो चुकी है। बीती रात सेना ने पाकिस्तानी कब्जे वाले इलाके की उन चौकियों को ध्वस्त कर दिया जिनसे घुसपैठ के लिए कवर फायर दिया गया था। इस जवाबी कार्रवाई में कम से कम 7 पाकिस्तानी सैनिकों के मारे जाने की शुरुआती जानकारी है। बताया जा रहा है कि ये शुरुआती कार्रवाई है और आगे जो होने वाला है उसका अनुमान लगाना पाकिस्तान के लिए संभव नहीं है। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत इस समय घाटी में ही मौजूद हैं। उरी हमले के बाद भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक किया था और इसमें पाकिस्तानी सेना को भारी नुकसान उठाना पड़ा था। लेकिन हमारी जानकारी के मुताबिक इस बार रणनीति अलग है। इस बार उससे भी बड़ी कार्रवाई पर काम शुरू हो चुका है। सेना को अपना बदला लेने की खुली छूट मिली हुई है। पिछली बार भारत ने सिर्फ सर्जिकल स्ट्राइक किया था, इस बार असली सर्जरी की तैयारी है। मतलब ये कि सेना एलओसी पर पाकिस्तान को कुछ किलोमीटर अंदर धकेलकर उसे भारतीय इलाके में मिलाने की रणनीति पर काम कर रही है। सोमवार को पाकिस्तानी सेना की बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) की 647 मुजाहिद बटालियन ने पुंछ के कृष्णाघाटी में भारतीय पेट्रोलिंग पार्टी पर घात लगाकर हमला किया था। इस दौरान भारतीय जवानों का ध्यान बंटाने के लिए पाकिस्तानी सेना ने किरपान और पिंपल पोस्ट से कवर फायरिंग की थी। हमले में जिन दो भारतीय जवानों की जान गई पाकिस्तानी सेना ने उनके सिर काटकर अपने साथ ले गई। जहां पर ये घटना हुई वो भारतीय सीमा में करीब 200 मीटर अंदर है।

बड़ा सबक सिखाने की तैयारी

इंडिया टुडे के संवाददाता गौरव सावंत ने रिपोर्ट किया है कि “अभी जो कार्रवाई हुई है उसे असल कार्रवाई की शुरुआत कहना भी गलत होगा। अभी तो सिर्फ उन दो चौकियों को सजा दी गई है जिन्होंने धोखे से भारतीय पेट्रोलिंग पार्टी पर हमला किया और दो जवानों को मारने के बाद उनकी गर्दन काट दी। लेकिन अभी जो कार्रवाई है उसे असली बदले की शुरुआत कहना भी ठीक नहीं होगा।” सरकारी सूत्रों के मुताबिक सेना से कह दिया गया है कि उसे अपनी किसी कार्रवाई के लिए सरकार से इजाज़त लेने की जरूरत नहीं है। यह स्पष्ट संकेत है कि कार्रवाई इतनी बड़ी और इतनी असरदार होनी चाहिए कि पाकिस्तानी सेना ऐसी कोई भी जुर्रत करने से पहले दस बार सोचे। आर्मी चीफ बिपिन रावत ने भी कहा है कि वो वादा करते हैं कि पाकिस्तान की हरकत का माकूल जवाब दिया जाएगा। ये रिपोर्ट्स सेना के पास पहले से हैं कि बर्फ पिघलने के बाद सीमा से लगे ज्यादातर इलाकों में बड़ी तादाद में घुसपैठिए जमा हैं और पाकिस्तानी सेना पर उन्हें बारिश शुरू होने से पहले भारत में घुसाने का दबाव है। ऐसे में पाक फौज अगले 2-3 महीने लगातार ऐसी हरकतें कर सकती है।

कार्रवाई शुरू भी हो चुकी है!

ताजा जानकारी के मुताबिक सेना ने एलओसी पर कई सेक्टरों में पाकिस्तानी चौकियों पर निशाना लगाकर गोलाबारी की है। हमारी जानकारी के मुताबिक सेना की कोशिश है कि वो एलओसी पर पाकिस्तान की फौज को कुछ और पीछे धकेले। पुंछ की जिस कृष्णा घाटी में सिर काटने की ये घटना हुई है वो भी कुछ साल पहले तक पाकिस्तान के कब्जे में हुआ करता था और भारतीय सेना ने पाकिस्तान को धकेलते हुए यहां पर कब्जा जमाया था। यही कारण है कि ये सेक्टर पाकिस्तानी सेना की आंखों की किरकिरी बना हुआ है। अब भारतीय सेना एलओसी को कुछ और किलोमीटर अंदर धकेलने की तैयारी से कार्रवाई कर रही है। ऐसे कई सेक्टर हैं जहां भौगोलिक स्थिति में पाकिस्तान बेहद कमजोर है। इन तमाम इलाकों में पाकिस्तान को जहां तक संभव हो पीछे धकेला जा रहा है और जो जमीन सेना के कब्जे में आएगी उसे किसी भी हालत में लौटाया नहीं जाएगा। सैटेलाइट टेक्नोलॉजी से भारत ने उन तमाम इलाकों की पहचान की है, जहां पर पाकिस्तानी जवान और आतंकवादियों का जमावड़ा है। इन सभी जगहों पर बीती रात से ही भारत ने ऑपरेशन शुरू कर रखा है। फिलहाल पाकिस्तान के कई फॉरवर्ड पोस्ट पर मशीन गनों और मोर्टार से हमले किए जा रहे हैं। सेना के सूत्रों का दावा है कि इन तमाम हमलों में पाकिस्तान को भारी नुकसान का अनुमान है। हालांकि वो आम तौर पर ऐसे हमलों के वक्त सार्वजनिक तौर पर नहीं मानता कि उसके किसी जवान की मौत हुई है।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,