Loose Top

प्रियंका की भरतनाट्यम टीचर ने किया डांस घोटाला!

कांग्रेस सरकार के दौर में हुए घोटालों की लिस्ट में एक और नाम जुड़ गया है। ये नाम है ‘डांस घोटाला’। इस मामले में आरोपी कोई मामूली शख्स नहीं, बल्कि प्रियंका वाड्रा को भरतनाट्यम सिखाने वाली लीला सैमसन हैं। आरोप है कि उन्होंने 2009 से 2010 तक चेन्नई के कलाक्षेत्र फाउंडेशन में भारी मात्रा में पैसों का गबन किया। अब इस मामले में सीबीआई जांच के आसार हैं। जांच का प्रस्ताव संस्कृति मंत्रालय के पास पेंडिंग है और इस पर सिर्फ मंत्री महेश शर्मा की अनुमति मिलना बाकी है। फिल्म इंडस्ट्री का कोई अनुभव नहीं होने के बावजूद लीला सैमसन को सोनिया गांधी की सिफारिश पर सेंसर बोर्ड का चेयरपर्सन बना दिया गया था। लीला सैमसन के नाम की चर्चा आम तौर पर बहुत कम सुनने को मिलती है। लेकिन दिल्ली के लुटियंस क्लब के सबसे जाने-माने लोगों में लीला सैमसन का नाम है। डांस या कला के किसी क्षेत्र में कोई उल्लेखनीय काम न करने के बावजूद लीला की लीला ऐसी रही कि उन्हें पद्मश्री और संगीत नाटक अकादमी जैसे पुरस्कार मिल चुके हैं।

क्या है पूरा मामला?

आरोप है कि लीला सैमसन ने कलाक्षेत्र फाउंडेशन की डायरेक्टर रहते हुए वहां के पुनर्निर्माण के फंड में भारी धांधली की। मंत्रालय की जांच कमेटी ने पहली नजर में लीला सैमसन पर लगेआरोपों को सही मानते हुए आगे की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश की है। सैमसन पर मेहरबानी की हद ये थी कि 10 साल के मनमोहन शासन के दौरान उन्हें कई अहम सरकारी जिम्मेदारियां सौंपी गईं। आखिर में वो सेंसर बोर्ड के चेयरमैन पद पर रहीं और मोदी सरकार बनने के काफी वक्त के बाद 2015 में बड़ी मुश्किल से पद छोड़ा। सेंसर बोर्ड छोड़ने के बाद लीला सैमसन के खिलाफ संस्कृति मंत्रालय ने आंतरिक जांच के आदेश दे दिए। उन पर आरोप है कि कलाक्षेत्र फाउंडेशन के ऑडिटोरियम की मरम्मत में 6.28 करोड़ रुपये खर्च किए गए, लेकिन जमीन पर कुछ भी काम नहीं हुआ। ये घोटाला डिपार्टमेंट के अॉडिट में सामने आया था। कलाक्षेत्र फाउंडेशन एक ऑटोनॉमस संस्था है जो भरतनाट्यम, कर्नाटक गायन और संगीत, दक्षिण भारत की दृश्य कलाओं, पारंपरिक क्राफ्ट और टेक्स्टाइल डिजाइनिंग को बढ़ावा देने का काम करता है। इस राष्ट्रीय महत्व के संस्थान का दर्जा मिला हुआ है।

गांधी परिवार की कृपा

लीला सैमसन कलाक्षेत्र फाउंडेशन के बाद 2010 में संगीत नाटक अकादमी की चेयरमैन बना दी गईं। अगले ही साल उन्हें प्रमोट करके सेंसर बोर्ड का चेयरमैन बना दिया गया। इस दौरान अक्सर आरोप लगता था कि लीला सैमसन जानबूझकर ऐसी फिल्मों को पास करवाती थीं, जिनमें हिंदू धर्म के खिलाफ कोई बात हो। पीके जैसी फिल्में इन्हीं के चेयरमैन रहते पास कराई गईं। बताते हैं कि लीला सैमसन कभी प्रियंका की डांस टीचर हुआ करती थीं। वो 10 जनपथ में जाकर उन्हें भरतनाट्यम सिखाया करती थीं। लीला सैमसन कोई बड़ी भरतनाट्यम डांसर नहीं थीं। एक कलाकार के तौर पर उन्हें कोई नहीं जानता था, लेकिन जैसे ही वो प्रियंका की डांस टीचर बनीं उनकी किस्मत खुल गई। सेंसर बोर्ड की चेयरमैन रहते हुए लीला सैमसन ने मोदी सरकार पर दखलंदाजी का आरोप लगाय था, लेकिन जब उनसे पूछा गया कि कैसी दखलंदाजी तो वो इसका जवाब नहीं दे पाई थीं।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

Polls

क्या अमेठी में इस बार राहुल गांधी की हार तय है?

View Results

Loading ... Loading ...