योगी जी संभल के… वो गाय नहीं सोने का हिरण था!

दीपक शर्मा वरिष्ठ पत्रकार हैं

यूपी में भ्रष्टाचार इसलिए बढ़ता गया क्योंकि बदलती हुई सरकारों ने एक-दूसरे पर आरोप तो खूब उछाले पर सत्ता पाने पर जांच नही कराई। कभी सीएम की कुर्सी पर बैठी मायावती ने मुलायम को बख्श दिया तो बदले में मुलायम ने बहनजी को जेल जाने से बचाया। इसका नतीजा ये हुआ कि यूपी में भ्रष्टाचार संस्थागत हो गया। अफसर, मंत्री, विधायक और पत्रकार सबने योजनाओं को लूटा, ठेकों की बंदरबाट की और ट्रांसफर पोस्टिंग से पैसे कमाए। एक ज़माने बाद यूपी को अब जाकर कोई योगी मिला है। ना पत्नी है, ना संतान और ना कोई परिवार। सत्ता के इस सर्वगुण पर सुहागा ये कि योगी 18 घंटे काम करने की अद्भुत क्षमता रखते हैं। उनका दामन भगवा भले ही हो पर बेदाग़ है। वो मुख्यमंत्री की कुर्सी पर पहली बार ज़रूर बैठे हैं पर 5 बार के सक्रिय सांसद रहे हैं। यानी यूपी को साफ़ नीयत और नीति से आगे ले जाने की अपार संभावना है योगी में।

लेकिन योगी जी मुझे आपसे शिकायत है। स्वार्थवश कोई शिकायत नहीं पर जनहित में ज़रूर है। इसलिए आपको टोकूंगा ज़रूर। आपको रोकूंगा ज़रूर। आपका सम्मान बरक़रार है पर आज कुछ बुरा लगा तो कहने के अधिकार से मत रोकिए। मैं किसी का निंदक नहीं, यूपी का शुभचिंतक हूँ। मैं जो कहूंगा वो आपके इर्द-गिर्द बैठे अखिलेश के अफसर नही कह पाएंगे। आपके मातहत मंत्री भी कुर्सी के भय से चुप रहेंगे। इसलिए मुझे ही बुरा बनने दीजिए। मुझे ही कहने दीजिए। योगीजी, आज जिस तरह आप मुलायम के बेटे प्रतीक यादव और उनकी बहू अपर्णा के साथ लखनऊ के कान्हा उपवन गए वो दृश्य मेरी ही नहीं हज़ारों आँखों में दिनभर खटकता रहा। योगीजी, भले ही प्रतीक यादव ने गोसेवा के बहाने आपको आमंत्रित किया, लेकिन सच ये है कि इसी यादव परिवार ने प्रदेश में सैकड़ों अवैध स्लॉटर हाउस खुलवाए। पूरे राज्य भर में जो हाथ, बूचड़खाने खुलवाने के खून से पांच साल तक रँगे रहे वो ही हाथ अगर गोसेवा के नाम पर लखनऊ में एक उपवन स्थापित कर दें तो उनका पाप कम नही हो जाता। ये वही प्रतीक यादव हैं जो गायत्री प्रजापति के सबसे नज़दीकी रहे। जिन्होंने खनन के नाम पर यूपी की हर गंगा हर यमुना को लूटा। ये वही प्रतीक यादव हैं जो संजय सेठ जैसे अरबपति बिल्डर के पार्टनर रहे और नोएडा से लेकर लखनऊ तक सबसे महंगी ज़मीनों पर काबिज़ हुए। ये वही प्रतीक यादव हैं जिन्होंने 5 करोड़ रुपए की लॉम्बोर्गिनी कार से चुनाव प्रचार किया था और जिनकी अकूत दौलत अब केंद्रीय एजेंसियों के रडार पर हैं।

योगीजी, विरोधी दल से हाथ मिलाना राजनीति में अछूत नही माना जाता है। प्रतीक यादव और अपर्णा से भेंट करना गलत नही है लेकिन उनके एजेंडे में फंसना बीजेपी की शुचिता पर सवाल उठाता है। आप सीएम के तौर पर बीते कुछ दिनों में इन दोनों से दो बार मिले हैं। पहले अपने निवास पर और आज उनके साथ उन्हीं के उपवन में। योगीजी, बार-बार की इन मुलाकातों से राज्य में गलत संदेश जा रहा है। लोग दबी जबान में कह रहे हैं कि यादव परिवार के लोग अरबों की काली कमाई के साझीदार रहे हैं और जांच से बचने के लिए अब योगी की चापलूसी कर रहे हैं।

योगीजी आपकी सत्यनिष्ठा पर हमें पूरा भरोसा है। आपकी सादगी के हम कायल हैं। ये जानकर हम सबको अच्छा लगता है कि आप बिना एसी, बिना किसी ऐशोआराम के रहते हैं। लेकिन फिर भी इतना ज़रूर कहना पड़ रहा है कि आज प्रतीक यादव के साथ आपकी उपवन यात्रा ने बहुतों को कष्ट दिया है। योगीजी, सपा के भ्रष्ट नेताओं और अफसरों से बचिए। काली कमाई के साझीदारों से बचिए। जिन लोगों ने यूपी को लूटा है वो आपके मुजरिम है मेहमान नही। जिस प्रदेश को आपने अंत्योदय का वचन दिया है वहां भ्रष्ट राजनीति की संतानों की मेजबानी से बचिए। योगीजी जनता ने आपको सर आँखों पर बैठाया है। आप पर भरोसा किया है। इस भरोसे पर खरोंच मत लगने दीजिए। दूर रहिये… ये रावण हैं इन्होंने हिरन की जगह आपको फुसलाने के लिए गाय का सहारा लिया है। इन्हें पहचानिए। ये आपकी निष्ठा हर लेंगे। इनकी खरोंच से बचिए… योगीजी एक बार इनकी खरोंच लगी नहीं कि आपकी पारदर्शिता हमेशा के लिए धुंधला जाएगी।

याद रखिये आप योगी है।

और ये दुष्ट भोगी हैं।

परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम्‌।
धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे॥

(वरिष्ठ पत्रकार दीपक शर्मा के फेसबुक पेज से साभार)

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,