Loose Top

क्या वकील को फंसाने केजरीवाल ने भेजी ‘विषकन्या’?

दिल्ली में आम आदमी पार्टी के 21 विधायकों की सदस्यता रद्द करने की कानूनी लड़ाई लड़ रहे वकील प्रशांत पटेल ने बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने दावा किया है कि अरविंद केजरीवाल ने एक लड़की के जरिए उन्हें फंसाने की कोशिश में हैं। प्रशांत पटेल ने दिल्ली में केजरीवाल सरकार के तहत 21 संसदीय सचिव बनाने के फैसले को चुनौती दी थी। इस मामले की कानूनी लड़ाई अपने आखिरी दौर में है और बहुत जल्द आम आदमी पार्टी के 21 विधायकों की सदस्यता रद्द हो सकती है। इस मामले पर चुनाव आयोग में सुनवाई चल रही है। पहले 16 मार्च को ये सुनवाई होनी थी। लेकिन अब ये 27 मार्च तक टल गई है। आम आदमी पार्टी ने चुनाव आयोग के आगे अर्जी दी थी कि वकील उपलब्ध न होने के कारण वो आखिरी सुनवाई पर हाजिर नहीं हो सकेंगे, लिहाजा इसकी तारीख आगे बढ़ाई जाए।

क्या है प्रशांत पटेल का आरोप?

वकील प्रशांत पटेल ने सोशल मीडिया के जरिए आरोप लगाया है कि “आम आदमी पार्टी मुझे फंसाने के लिए गंदे तरीके इस्तेमाल कर रही है। उनकी एक एजेंट लड़की गुजरात में मेरे एक दोस्त के जरिए मुझे फोन कर रही है और मिलने की कोशिश में है, ताकि मुझे हनीट्रैप (सेक्स का लालच देकर फंसाना) किया जा सके।” प्रशांत पटेल ने फेसबुक और ट्विटर पर लिखा है कि वो मुझे अब तक समझ नहीं पाए हैं। गलत आदमी के साथ वो ऐसी कोशिश कर रहे हैं। इससे पहले पिछले साल भी  प्रशांत पटेल के साथ ऐसी ही कोशिश की गई थी। तब भी उन्होंने सोशल मीडिया पर इस बात का जिक्र किया था। उनका अभी का ताजा ट्वीट और पिछले साल का ट्वीट आप नीचे देख सकते हैं।

केजरीवाल से क्या है दुश्मनी?

दिल्ली में अरविंद केजरीवाल सरकार बनने के बाद 21 विधायकों को मंत्रालयों में संसदीय सचिव के तौर पर तैनात किया गया था। हाई कोर्ट के वकील प्रशांत पटेल ने इसे लाभ के पद का मामला बताते हुए कोर्ट में याचिका डाली और अब तक की कानूनी कार्यवाही को देखते हुए यही लग रहा है कि एक झटके में केजरीवाल के 21 विधायक अयोग्य ठहराए जा सकते हैं। अगर ऐसा हुआ तो केजरीवाल सरकार के अस्तित्व पर भी सवाल खड़ा हो सकता है। फिलहाल ये मामला अपने आखिरी दौर में है। 27 मार्च को चुनाव आयोग में इस मसले पर फाइनल सुनवाई होनी है। संभावना जताई जा रही है कि चुनाव आयोग इन सभी 21 विधायकों की सदस्यता अवैध ठहरा सकता है। इसी कारण प्रशांत पटेल हमेशा से ही केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के टारगेट पर रहे हैं।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!