Loose Top

रेप की धमकी देने वाला कन्हैया का साथी निकला!

File Image

शहीद मनदीप सिंह की बेटी गुरमेहर कौर को बलात्कार की धमकी देने वाले शख्स का सुराग मिल गया है। दिल्ली पुलिस के सूत्रों के हवाले से दावा किया गया है कि ट्विटर पर धमकी देने वाला देबोजित भट्टाचार्य नाम का शख्स है, जो AISF नाम के संगठन का सदस्य है। AISF कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (CPI) की छात्र शाखा है। जेएनयू का छात्रनेता कन्हैया इसी संगठन से जुड़ा हुआ है। फिलहाल दिल्ली पुलिस की साइबर सेल इस मामले की जांच कर रही है। सूत्रों के मुताबिक धमकी देने वाले के अकाउंट के जरिए उसके असली नाम का तो पता चल गया है, लेकिन औपचारिक पुष्टि पूरी तहकीकात के बाद ही होगी। कुछ सूत्र देबोजीत के आइसा का सदस्य होने का दावा भी कर रहे हैं। उनका कहना है कि गुरमेहर धमकी देने वाले इस लड़की को अच्छी तरह से जानती है। जब उसे लगा कि अब उसकी पोल खुल जाएगी तो वो इस पूरे विवाद से पीछा छुड़ाकर दिल्ली से बाहर चली गई।

रिपोर्ट दर्ज कराने में हिचकिचाहट

यह बात शुरू से ही सामने आ रही है कि गुरमेहर को धमकी के बाद इसकी शिकायत पुलिस में दर्ज कराने में हिचकिचाहट थी। न तो खुद गुरमोहर ने इसकी एफआईआर लिखवाई, न उनके किसी शुभचिंतक ने। इसके बजाय उन्होंने दिल्ली महिला आयोग ने जाकर एक अर्जी दे दी। मंगलवार देर शाम तक जब किसी ने भी एफआईआर दर्ज नहीं कराई तो खुद अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के छात्रों ने जाकर दिल्ली के मौरिसनगर थाने में अर्जी दी कि पुलिस केस रजिस्टर करे और धमकी देने वाले को पकड़ा जाए। इसके बाद दिल्ली राज्य महिला आयोग की चेयरमैन स्वाति मालीवाल भी हरकत में आईं और उन्होंने अपनी तरफ से एफआईआर के लिए अर्जी डाली। जिसके आधार पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करके जांच शुरू कर दी। इस दौरान धमकी देने वाले ने अपना अकाउंट डिलीट कर दिया है। ये अकाउंट फर्जी नाम से चलाया जा रहा था।

ABVP को बदनाम करने की साजिश!

कई राजनीतिक और आम लोगों ने भी अपने सूत्रों के आधार पर दावा किया है कि आरोपी की पहचान हो गई है और उसका ताल्लुक वामपंथी संगठनों से पाया गया है। कुछ चैनलों और अखबारों ने भी इस बारे में खबर दी है। हालांकि ये सभी दिल्ली पुलिस की औपचारिक पुष्टि का इंतजार कर रहे हैं। फिलहाल ऐसा लगता है कि पूरा गुरमेहर कांड एक सोची-समझी साजिश के तहत किया गया है। मीडिया का एक तबका भी सीधे तौर पर इस साजिश में शामिल है। एबीवीपी को बदनाम करने की इस साजिश में खुद गुरमेहर कौर के अलावा आम आदमी पार्टी की कठपुतली के तौर पर चल रहा दिल्ली महिला आयोग भी एक्टिव रहा। इसकी प्रमुख स्वाति मालीवाल ने बिना किसी जांच या तथ्य के मीडिया से बातचीत में सीधे एबीवीपी का नाम लेना शुरू कर दिया। इस लिहाज से ये जांच को भटकाने की कोशिश भी माना जा सकता है। गुरमेहर कौर ने भी रेप की शिकायत करने वाले को बिना किसी आधार के एबीवीपी का सदस्य बताया था। जबकि असली आरोपी के बारे में मुंबई बीजेपी की प्रवक्ता संजू वर्मा समेत कई लोगों ने ट्वीट किया है।

संबंधित रिपोर्ट: मुंबई में आप की प्रीति के साथ दंगे भड़का रहा था ये चिड़ीमार

गुरमेहर कौर को धमकी के मामले में एबीवीपी के दबाव बनाने के बाद ही एफआईआर दर्ज हुआ। फिलहाल आरोपी की पहचान हुई है और अब उम्मीद है कि वो बहुत जल्द कानून की गिरफ्त में होगा।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...