Loose Top

सेक्स रैकेट में धरा गया रवीश कुमार का कांग्रेसी भाई

बिहार में कांग्रेस के नेता और एनडीटीवी के पत्रकार रवीश कुमार के सगे बड़े भाई ब्रजेश कुमार पांडेय का नाम सेक्स रैकेट चलाने में सामने आया है। मामला राज्य के एक पूर्व मंत्री और दलित कांग्रेसी नेता की नाबालिग बेटी के यौन शोषण का है। इस मामले में एक रिटायर्ड आईएएस अफसर के बेटे और बिजनेसमैन निखिल प्रियदर्शी के खिलाफ पटना की स्पेशल कोर्ट में पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा चल रहा है। जांच के दौरान संजीत कुमार शर्मा और ब्रजेश कुमार पांडेय के नाम सामने आए हैं। पूर्व मंत्री की बेटी ने निखिल, संजीत और ब्रजेश पर सेक्स रैकेट चलाने का आरोप लगाया है। लड़की ने पुलिस के आगे बताया है कि ये तीनों बड़ी-बड़ी पार्टियों में हर उम्र की लड़कियां सप्लाई करने का काम करते हैं। एससी-एसटी थाने ने पॉक्सो एक्ट कोर्ट के आगे रखी केस डायरी में इस बात का पूरा ब्यौरा भी दिया है।

कौन है ब्रजेश पांडेय? क्या है मामला?

रवीश कुमार के बड़े भाई ब्रजेश पांडेय पिछले बिहार चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर खड़े हुए थे। हालांकि वो चुनाव हार गए। बताते हैं कि चुनाव में रवीश कुमार ने अपने भाई को टिकट दिलाने के लिए पटना में एनडीटीवी के एक रिपोर्टर के जरिए काफी लॉबिंग की थी। पहले जेडीयू से टिकट मिलने की बात थी, लेकिन बाद में कांग्रेस पार्टी उन्हें टिकट देने को राजी हो गई थी। चुनाव में वो महागठबंधन के संयुक्त उम्मीदवार थे। बाकी दोनों आरोपी भी कांग्रेस पार्टी से ही जुड़े हुए हैं। जिस लड़की ने आरोप लगाया है उसके पिता भी कांग्रेस पार्टी के ही नेता और मंत्री रहे हैं। लड़की अनुसूचित जाति की है लिहाजा उसकी शिकायत पर केस एससी-एसटी थाने में दर्ज कराया गया।

मीडिया को मैनेज करने में झोंकी ताकत

बताया जा रहा है कि रवीश कुमार और मीडिया में उनके कुछ ताकतवर शुभचिंतक भरसक कोशिश में हैं कि मामला मीडिया में न आने पाए। इसके लिए उन्होंने लगभग सभी अखबारों और चैनलों के संपादकों से बात की। ये मामला सामने आए 2-3 दिन हो गए हैं, लेकिन किसी भी लोकल या नेशनल अखबार में ये खबर नहीं छपी। कल जाकर दैनिक जागरण ने अपने पटना एडिशन के सातवें पन्ने पर एक कोने में 5 लाइन की खबर छाप दी। हालांकि उसने भी यह नहीं बताया कि आरोपी ब्रजेश पांडेय कौन हैं? इसके अलावा टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार में भी एक छोटी सी खबर छपी है, लेकिन उसमें भी असली सच्चाई को छिपा लिया गया है।

दलितों का हितैषी होने का दावा कहां गया?

रवीश कुमार के भाई के सेक्स रैकेट में पीड़ित नाबालिग लड़की दलित जाति से है। रवीश खुद को दलितों का मसीहा साबित करने की कोई कोशिश नहीं छोड़ते। लेकिन उन्होंने जिस तरह से मामला दबाने की कोशिश की है वो हैरानी में डालने वाला है। मामले को बीजेपी की साजिश बताकर पल्ला झाड़ना भी संभव नहीं है क्योंकि आरोप लगाने वाली लड़की कांग्रेस नेता की बेटी है। बिहार में नीतीश कुमार की सरकार है ऐसे में वो पुलिस या सरकार पर फंसाने का आरोप भी नहीं लगा सकते।
हमने इस मामले में पटना के कुछ अखबारों के संपादकों से बात की तो उन्होंने माना कि उनके पास रवीश कुमार के नजदीकी लोगों के फोन आ रहे हैं कि वो ये खबर न छापें। दैनिक जागरण में छोटी सी खबर छपने के बाद ये मामला सोशल मीडिया पर आ गया।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!