Loose Top Viral Videos

आलू और आम ही नहीं… ये कारखाने भी खोलेंगे राहुल!

यूपी में आलू की फैक्ट्री लगवाने के वादे के बाद राहुल गांधी का आत्मविश्वास लगता है बढ़ता ही जा रहा है। पिछले दिनों बाराबंकी में दिए अपने भाषण में राहुल गांधी ने अपने सपनों की पूरी लिस्ट जनता के सामने रखी। राहुल ने बताया कि वो किन-किन चीजों की फैक्ट्री उत्तर प्रदेश में खुलवाना चाहते हैं। राहुल गांधी देश के प्रधानमंत्री बनने का ख्वाब रखते हैं लेकिन यूपी में अपने तमाम चुनावी भाषणों में वो बराक ओबामा को अमेरिका का राष्ट्रपति बता रहे हैं। इसके अलावा वो ऐसे-ऐसे वादे कर रहे हैं, जिन्हें कोई भी समझदार आदमी सुन ले तो अपना माथा पीट ले। हैरानी की बात है कि इन बेवकूफियों को मीडिया दबाने में जुटा है।

ओबामा के घर ‘मेड इन बाराबंकी’ टूथपेस्ट

राहुलगांधी के भाषण का सबसे मजेदार हिस्सा वो है, जिसमें उन्होंने किहा कि मेरा सपना है कि अमेरिका के ‘राष्ट्रपति’ ओबामा जब सुबह ब्रश करने के लिए उठें तो टूथपेस्ट पलटकर देखें तो उस पर लिखा हो मेड इन बाराबंकी। इसके अलावा उनके मुताबिक कोई आम खाए तो उस पर लिखा हो कि मेड इन लखनऊ। फिर उन्होंने ने ये भी बताया है कि अब तक ऐसा क्यों नहीं हुआ। 70 साल से देश पर राज करने वाले परिवार का शहजादा इसके बाद लोगों को बताता है कि ये सब इसलिए नहीं हुआ क्योंकि मोदी जी ने सारा पैसा 50 लोगों को दे रखा है।

सुनिए राहुल की बेवकूफी का लेटेस्ट नमूना

हैरानी की बात ये है कि एक राष्ट्रीय पार्टी का उपाध्यक्ष अपनी चुनावी रैलियों में इस तरह की हास्यास्पद बातें बोल रहा है, लेकिन मीडिया ने कान में तेल डाल रखा है। उलटा कई चैनल राहुल गांधी का महिमामंडन करने में भी जुटे हैं। ऐसे में क्या समझा जाए? बिना रिश्वत खाए न्यूज चैनल ऐसा करेंगे ये कैसे संभव है? कुछ दिन पहले का ही राहुल गांधी का वो भाषण भी सुनिए जिसमें उन्होंने ऐसी ही बेवकूफी भरी बातें कही थीं।

पढ़ें रिपोर्ट: आलू के बाद अब आम की भी फैक्ट्री लगवाने का राहुल का वादा

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...