Loose Top

वैलेंटाइन डे से पहले फिर शुरू हुई वामपंथी गुंडागर्दी

जब भी वैलेंटाइन डे के विरोध की बात होती है तो मीडिया ऐसे दिखाता है मानो इसके लिए सिर्फ बजरंग दल और दूसरे हिंदू संगठन दोषी हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि केरल में वामपंथी पार्टियां वैलेंटाइन डे का विरोध कर रही हैं। वही वामपंथी पार्टियां जो जेएनयू में खुद को लिबरल और खुली सोच वाला बताती हैं। सीपीएम के छात्र संगठन एसएफआई ने तिरुवनंतपुरम के यूनिवर्सिटी कॉलेज कैंपस में कई लड़के-लड़कियों की इसलिए पिटाई कर दी क्योंकि वो एक साथ घूम रहे थे।

पीड़ित स्टूडेंट्स ने दर्ज कराई शिकायत

मारपीट की घटना के बाद दो लड़कियों और एक लड़के ने तिरुवनंतपुरम के कैंटोनमेंट थाने में जाकर एफआईआर भी दर्ज कराई है। इनके नाम हैं- अस्मिता कबीर, सूर्या गायत्री और टीएस जिजेश। शिकायत में बताया गया है कि जब वो थिएटर में नाटक देखने जा रहे थे तभी एसएफआई के हथियारबंद कार्यकर्ताओं ने धावा बोल दिया और उनके साथ मारपीट की। हमलावरों ने लड़कियों के साथ भद्दी हरकतें भी की। जिजेश नाम के जिस लड़के की पिटाई की गई है, वो मलायलम फिल्म इंडस्ट्री में भी काम करता है। तीनों ने पुलिस में शिकायत तो कर दी है, लेकिन उन्हें इंसाफ मिलने की उम्मीद नहीं है क्योंकि केरल में सीपीएम की ही सरकार है और उनकी शह पर ही एसएफआई के छात्र खुलेआम कैंपस में गुंडागर्दी करते हैं। जिस दौरान ये सारी घटना हुई, स्कूल के बाकी छात्र और वाइस प्रिंसिपल चुपचाप वहीं पर तमाशा देखते रहे।

मामला रफा-दफा करने में जुटी पुलिस

जैसी कि उम्मीद थी केरल पुलिस ने केस तो दर्ज कर लिया, लेकिन अब तक किसी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। हमलावरों की संख्या काफी ज्यादा थी, लेकिन सिर्फ 3 लड़कों के नाम एफआईआर में लिखे गए हैं। इतना ही नहीं पुलिस ने इस मामले में छेड़खानी की बात को ही हटा दिया है। क्योंकि उसकी धारा जुड़ने पर उसे हमलावरों पर फौरन कार्रवाई करनी पड़ती। इन छात्र-छात्राओं ने अब राज्य महिला अधिकार आयोग में भी शिकायत की बात कही है। अस्मिता, सूर्या और जिजेश नाम के ये तीनों छात्र-छात्राओं का किसी राजनीतिक संगठन से कोई लेना-देना नहीं है। सूर्या कुछ वक्त पहले तक एसएफआई की समर्थक हुआ करती थी लेकिन छात्र राजनीति के नाम पर संगठन की गुंडागर्दी के चलते उसने इससे दूरी बना ली।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!