Home » Loose Top » अखिलेश यादव ने ऐसे किया ‘गुंडों’ का शुद्धीकरण
Loose Top

अखिलेश यादव ने ऐसे किया ‘गुंडों’ का शुद्धीकरण

यूपी में गुंडाराज के पाप धोने में जुटे सीएम अखिलेश यादव का एक बड़े पैंतरे का खुलासा हुआ है। राज्य सरकार ने समाजवादी पार्टी के 17 नेताओं पर लगे आपराधिक केस वापस ले लिए हैं। इन नेताओं पर अपहरण, जालसाजी, दंगे भड़काने, गैर-इरादतन हत्या जैसे जघन्य मामलों में केस दर्ज थे। जिन 17 नेताओं पर से केस वापस लिए गए, उनमें से 13 को अखिलेश यादव ने चुनाव का टिकट दिया है। बाकियों को भी चुनाव में मदद की अलग-अलग तरह की जिम्मेदारियां सौंपी गई हैं।

अपराधियों के सिर पर अखिलेश का हाथ!

यह बात सामने आई है कि युवा और ईमानदार नेता की इमेज बनाने की कोशिश में जुटे अखिलेश यादव खुद ही राज्य के सबसे बड़े अपराधियों के संरक्षण का काम कर रहे हैं। उन्होंने जिन कथित गुंडे, बदमाशों का शुद्धीकरण किया है उनमें 7 राज्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के 10 विधायकों के नाम शामिल हैं। इन सभी मामलों में केस वापस लेते वक्त राज्य सरकार ने फैसले का कारण ‘जनता और इंसाफ की भलाई’ को कारण बताया है।

यूपी के ‘सबसे बड़े बदमाशों’ का कल्याण

जो सबसे बड़ा आपराधिक केस वापस लिया गया, वो है रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया का। राजा भैया पर गैंगस्टर एक्ट के तहत केस दर्ज था। लेकिन अखिलेश ने उन्हें आरोपमुक्त कर दिया। अखिलेश के शुद्धीकरण का लाभ उठाने वाले कुल 7 मंत्रियों के नाम इस तरह से हैं-

1. कैलाश चौरसिया, अखिलेश सरकार में मंत्री। दंगे कराने और सरकारी काम में बाधा डालने का आरोप हटा दिया गया।
2. रविदास मेहरोत्रा, अखिलेश सरकार में मंत्री। इन पर दंगे, खतरनाक हथियार रखने, सरकारी काम में रुकावट डालने और चोरी जैसे कई आरोप थे
3. विनोद कुमार उर्फ पंडित सिंह, मंत्री। रैश ड्राइविंग और गैर-इरादतन हत्या के आरोपी। दोनों केस वापस लिए गए।
4. राममूर्ति वर्मा, अखिलेश के मंत्री। इनके खिलाफ मारपीट का केस वापस लिया गया।
5. सुरेंद्र सिंह पटेल, मंत्री। वाराणसी में एक व्यापारी को पीटने का आरोप। डीएम के आदेश पर केस वापस।
6. ब्रह्माशंकर त्रिपाठी, मंत्री। इन पर सड़क ट्रैफिक रोकने और प्रदर्शन के आरोप थे।
7. रघुराज प्रताप सिंह, मंत्री। इन पर गैंगस्टर एक्ट लगा था। जिसे राज्य सरकार ने वापस ले लिया।

आपराधिक केस वाले इन मंत्रियों के अलावा अखिलेश की शुद्धीकरण योजना का लाभ उठाने वाले विधायकों के नाम हैं- राकेश प्रताप सिंह, मित्रसेन यादव (स्वर्ग सिधार चुके हैं), इरफान सोलंकी, सतीश निगम, अभय सिंह, भगवान शर्मा उर्फ गुड्डू पंडित, विजमा यादव, विजय मिश्रा, हरिओम यादव, मनबोध प्रसाद। अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने आज इन सभी मंत्रियों और विधायकों के नाम पब्लिश किए हैं।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए:

OR

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Donate to Newsloose.com

न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए:

OR

Popular This Week

Don`t copy text!