Loose Top

तमिलनाडु से पीएम मोदी के नाम आया ‘खूनी संदेश’!

केरल के बाद अब तमिलनाडु में भी बीजेपी और संघ से जुड़े लोगों पर हमलों के मामले बढ़ रहे हैं। ताजा मामला तिरुपुर जिले का है, जहां बीजेपी के जिला सचिव मारीमुत्थु का शव रहस्यमय हालात में बरामद किया गया है। उनका शव एक पेड़ पर लटक रहा था। सबसे चौंकाने वाली बात यह रही कि पास में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक तस्वीर भी है, जिस पर जूतों की माला पहनाई गई है। इन हालात में यह शक करीब-करीब सही लग रहा है कि मारीमुत्थु की हत्या की गई है और पीएम मोदी को एक तरह से मैसेज देने की कोशिश की गई है। तमिलनाडु में बीते कुछ साल में जिहादी हिंसा लगातार बढ़ रही है। इस्लामी कट्टरपंथियों के हाथों यहां संघ और बीजेपी से जुड़े कई लोगों पर हमले हो चुके हैं।

लाश के साथ पीएम मोदी की तस्वीर!

बताया जा रहा है कि मारीमुत्थु सुबह 4 बजे अपने जानवरों को चारा खिलाने के लिए निकले थे। लेकिन वो घर नहीं लौटे। इसके बाद परिवारवालों ने उनकी तलाश शुरू की और पुलिस को उनकी गुमशुदगी की जानकारी दे दी गई। इस दौरान उनका शव एक पेड़ से लटकता पाया गया। साथ में पीएम मोदी की एक तस्वीर लगी थी, जिस पर जूते चप्पलों की माला पहनाई गई है। तस्वीर के साथ 1 से 5 तक के अंक लिखे हुए हैं। जिनमें से 3 नंबर को काटा गया है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। ताकि मौत की सही वजह साफ हो सके। मारीमुत्थु की उम्र 48 साल थी।

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव पी मुरलीधर राव ने ट्वीट करके कहा है कि ये हत्या का मामला है और इसके लिए जिम्मेदार संगठन और लोगों के खिलाफ तमिलनाडु सरकार जल्द से जल्द कार्रवाई करे।

जिहादी ताकतों के टारगेट पर हिंदू संगठन

बीते कुछ साल में तमिलनाडु में जिहादी ताकतें काफी मजबूत हुई हैं। 2014 में मोदी सरकार बनने के बाद जब इन पर सख्ती शुरू हुई तो बदला लेने की नीयत से हिंदू संगठनों के कार्यकर्ताओं और समर्थकों पर हमले की घटनाएं तेज़ हो गईं। दावा तो यहां तक किया जाता है कि तमिलनाडु में कुछ साल में 100 से ज्यादा हिंदू कार्यकर्ता मौत के घाट उतारे जा चुके हैं। बीते साल सितंबर में हिंदू मुन्नानी संगठन के प्रवक्ता सी शशिकुमार को बाकायदा घेरकर चाकू और तलवार से मार डाला गया था। उसके बाद कोयंबटूर के कुछ इलाकों में दंगे भी भड़क उठे थे। आम तौर पर ऐसे तमाम हमलों में पुलिस कुछ खास नहीं करती और आरोपी कुछ ही दिनों में छूट जाते हैं।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...