पंजाब में अकाली दल से अमीर है आम आदमी पार्टी!

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अक्सर कहते आए हैं कि उनकी पार्टी के पास चुनाव लड़ने के लिए पैसे नहीं हैं, लेकिन सच्चाई बिल्कुल उलट है। पंजाब की राजनीतिक पार्टियों के ऑडिट के मुताबिक आम आदमी पार्टी के पास सबसे ज्यादा पैसे हैं। 2010-11 से 2014-15 में जमा की ऑडिट रिपोर्ट के मुताबिक आम आदमी पार्टी ने सिर्फ तीन साल में कुल आमदनी में करीब 45 फीसदी की बढ़ोतरी की है। तीन साल में पार्टी की कुल आदमनी 110 करोड़ रुपए से कुछ ज्यादा रही, जबकि शिरोमणि अकाली दल की पांच सालों की कुल आमदनी सिर्फ 76 करोड़ रुपए है।

गरीबी का ड्रामा करते हैं केजरीवाल

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) की रिपोर्ट में पंजाब के राजनीतिक दलों के पांच साल के आय का ब्यौरा दिया गया है। यह वो जानकारी है जो ऑडिट के लिए चुनाव आयोग को दी जाती है। इसके मुताबिक-

  • पंजाब के 8 में 7 राजनीतिक दलों ने चंदे को अपनी कमाई का सबसे बड़ा जरिया बताते हैं।
  • अकाली दल ने कुल कमाई का 99 फीसदी यानी 75.85 करोड़ रुपए पार्टी फंड और सदस्यता शुल्क से जुटाए।
  • आम आदमी पार्टी ने दान और चंदे से कुल 108.27 करोड़ रुपए जुटाए।

चंदे में पैन डिटेल न देने में भी अव्वल

सबसे खास बात है कि बिना पैन नंबर वाले चंदे के मामले में भी आम आदमी पार्टी अव्वल नंबर है। यह वो रकम होती है जिसके ब्लैकमनी होने का शक सबसे ज्यादा होता है।

  • पांच साल के सभी पार्टियों के ब्यौरे में चंदा देने वाले कुल 120 लोगों के पैन नंबर दर्ज नहीं हैं।
  • यह रकम कुल 63 लाख रुपये के करीब है।
  • अकाली दल ने करीब 12 लाख रुपये के चंदे में पैन नंबर नहीं बताया है।
  • आम आदमी पार्टी ने 24 लाख रुपये के चंदे में पैन नंबर नहीं बताया है।

लगभग कमाई के हर पैमाने पर आम आदमी पार्टी अकाली दल पर भारी पड़ती है। 2013-14 और 2014-15 के दौरान पंजाब और चंडीगढ़ से अकाली दल को करीब 44 करोड़ रुपये का चंदा मिला। जबकि खुद को गरीब कहने वाली केजरीवाल की आम आदमी पार्टी ने इसी दौरान 48 करोड़ रुपये चंदे के तौर पर हासिल किए। इन आंकड़ों के अलावा अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी पर आरोप लगता रहा है कि उन्होंने हवाला के जरिए विदेशों में बैठे खालिस्तान समर्थकों से काफी रकम हासिल की है। पंजाब में चुनाव लड़ने के नाम पर ये रकम लाई गई थी, लेकिन नोटबंदी के कारण ये सारा पैसा बेकार चला गया।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,