Loose Views

रवीश जी, पीएम के भाई से कार में तेल भरवाइएगा?

एक वक़्त था जब प्रोफेसर राम गोपाल यादव के पास साइकिल खरीदने के पैसे नही थे लेकिन आज वो चार्टर्ड प्लेन से उड़ते हैं। मुलायम के छोटे भाई शिवपाल की तंगहाली का आलम तो ये था कि उन्होंने चमड़े के जूते तब ख़रीदे जब वो पहली बार लखनऊ पहुंचे। आज शिवपाल की संपत्तियां और अलग-अलग बिज़नेस में उनकी हिस्सेदारी इतनी ज्यादा है कि उनका नाम देश के सबसे अमीर नेताओं में शुमार होता है। मुलायम के भाई छोड़िए, उनकी दूसरी पत्नी के भाई यानी साले साहब की प्रॉपर्टी अगर आपको पता लगेगी तो गारंटी है आप गश खा जाएंगे। मुलायम के छोटे बेटे प्रतीक की तो बात ही क्या… जब प्रतीक 14 -15 साल के थे तभी अरबपति बन गए थे।

बात जब नेताओं के भाई-भतीजों की चली है तो आज कुछ नाम दे रहा हूँ और उन नामों के आगे उनकी हैसियत भी दर्ज करा हूँ। इस फेहरिस्त पर पहले नज़र डालें फिर बात करते हैं।
1) सोमभाई (75 वर्ष) रिटायर्ड स्वास्थ्य अधिकारी, आश्रम में प्रवास
2) अमृतभाई (72 वर्ष) निजी फैक्ट्री में वर्कर, रिटायर्ड
3) प्रह्लाद (64 वर्ष) राशन की दुकान
4) पंकज (58 वर्ष) सूचना विभाग में कार्यरत
5) भोगीलाल (67 वर्ष) परचून की दूकान
6) अरविन्द (64 वर्ष) कबाड़ का फुटकर काम
7) भरत (55 वर्ष) पेट्रोल पंप पर अटेंडेंट
8) अशोक (51 वर्ष) पतंग और परचून की दूकान
9) चंद्रकांत (48 वर्ष) गौशाला में सेवक
10) रमेश (64 वर्ष) कोई जानकारी नही
11) भार्गव (44 वर्ष) कोई जानकारी नही
12) बिपिन (42 वर्ष) कोई जानकारी नही

ऊपर के चार व्यक्ति, प्रधानमंत्री मोदी के सगे भाई हैं। नंबर 5 से लेकर 9 तक मोदी के सगे चाचा नरसिंहदास मोदी के बेटे हैं यानी प्रधानमंत्री के चचेरे भाई। नंबर 10 पर रमेश, जगजीवन दास मोदी के पुत्र हैं। नंबर 11 पर भार्गव, चाचा कांतिलाल के बेटे हैं और सबसे अंतिम यानी बिपिन, प्रधानमंत्री मोदी के सबसे छोटे चाचा जयंती लाल मोदी के बेटे हैं।

क्रांतिकारी पत्रकारों से एक अपील

मेरी गुजारिश टीवी के उन क्रांतिकारी पत्रकारों से है जो एक वक़्त एक नीली वैगन-आर कार को दिन-रात दिखाकर राजनीति के शुद्धिकरण की दुहाई देते थे। मेरी गुजारिश खासकर रवीश कुमार जी से है जो कभी बिरयानी बेचने वाले की कहानी तो कभी दिल्ली में सब्जी का ठेला लगाने वालों के इंटरव्यू अक्सर अपने शो में दिखाते हैं। मेरा निवेदन रवीश से इसलिए है क्योंकि उनके बारे में कहा जाता है कि वो दिल से रिपोर्टिंग करते हैं और उनकी नज़र हमेशा सड़क पर खड़े आम आदमी पर रहती है।

रवीश भाई जब आप गुजरात के चुनाव कवर करें तो जरा ऊपर दी गई फेहरिस्त में दर्ज लोगों के पास भी कैमरा लेकर जाइएगा। आप आम आदमी की बातें बड़े मार्मिक अंदाज़ में स्क्रीन पर उतारते हैं। हम आप के इस हुनर के कायल हैं। तो ज़रा गुजरात जाकर, हमें कबाड़ी वाले अरविंद और पतंग बेचने वाले अशोक की कहानियां भी दिखाएं। देश के प्रधानमंत्री का भाई कबाड़ी का काम करता है और एक भाई पतंग और मांझा बेचता है। ये स्टोरी तो जेएनयू और एनडीटीवी के मज़दूर समर्थक वामपंथियों को भा जाएगी। सुपर हिट होगी साहब। क्या टीआरपी मिलेगी रवीश जी आपको। आप दस नम्बरी चैनल से सीधे दो नंबर पर आ जाएंगे… गारंटी है।

और हाँ, वडनगर के लालवाड़ा पेट्रोल पंप पर जाकर ज़रा अपनी टैक्सी में अटेंडेंट अशोक भाई से तेल भरवाते हुए बाइट ज़रूर लीजिएगा। अच्छे विजुअल होंगे इस कहानी में। एनडीटीवी में सब देखेंगे कैसे मोदी का भाई आपकी गाड़ी में तेल भर रहा है। मौक़ा मिले तो मोदी के एक और भाई अरविंद से टीन के पुराने कनस्तर खरीद लाइएगा। और हाँ वडनगर के घीकांटा बाजार में मोदी की भाभी आपको एक फूड स्टाल में मिलेंगी। भाभी जी से खरीदारी करके कुछ न कुछ तो हमारे लिए लाइएगा।

रवीश भाई आपकी मानव मूल्यों की सार्थक कहानियां वाकई कमाल होती हैं। खासकर जब आप स्क्रीन काली करते हैं। जब आप गूंगे रंगकर्मी स्टूडियो में बिठाते हैं। जब आप अभय दुबे से हमें मुलायम के समाजवाद का ज्ञान दिलाते हैं।

इसलिए मुझे पूरी उम्मीद है कि आप वडनगर की गलियों के इस सच को भी दिखाएंगे।
जुबान वाला सच
जी हाँ वही जावेद अख्तर साहब का लिखा …

जुबां पर सच
दिल में इंडिया
NDTV इंडिया…

तो हिम्मत कीजिए
हौसला मैं दे रहा हूँ
अरे सोच क्या रहे हैं भाई
कुछ दिन तो गुजारिये गुजरात में!!!


दीपक शर्मा वरिष्ठ पत्रकार हैं, उनके facebook पेज से साभार

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!