Loose Top

पाकिस्तान में बकरा कटेगा, तभी हवाई जहाज उड़ेगा!

दुनिया भर में पाकिस्तान एक असभ्य देश के तौर पर जाना जाता है। अपनी इसी इमेज पर मुहर लगाते हुए पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआईए) के अधिकारियों ने एक विमान के उड़ान को मंजूरी देने के लिए बकरे की बलि दी। बकरे की गर्दन इस्लामाबाद एयरपोर्ट के रनवे पर काटी गई। दरअसल पिछले हफ्ते एयरलाइंस का एक एटीआर विमान हादसे का शिकार हो गया था। इसके बाद ऐसे बाकी सभी विमानों को सुरक्षा जांच तक के लिए उड़ान भरने से रोक दिया गया था। बताया जा रहा है कि वो हवाई जहाज तकनीकी गड़बड़ी के कारण हादसे का शिकार हुआ था, जो देखभाल में लापरवाही के कारण पैदा हुई थी। ऐसे में रनवे पर बकरे की बलि को लेकर पाकिस्तानी अधिकारियों का खूब मज़ाक भी उड़ रहा है।  कई लोग इसे लेकर पाकिस्तानी हवाई अड्डों की सुरक्षा पर भी सवाल खड़े कर रहे हैं।

बकरा काटकर उड़ान को मंजूरी!

वैसे तो किसी विमान की तकनीकी सुरक्षा की जांच का जिम्मा सिविल एविएशन अथॉरिटीज़ का होता है। लेकिन पाकिस्तान में नियम-कायदे शायद कुछ और ही हैं। एयरलाइंस के अधिकारियों ने बाकायदा रनवे पर एक काले बकरे को मंगवाया और उसकी गर्दन कटवाई ताकि एटीआर विमानों पर अगर कोई बुरी नजर हो तो वो दूर हो जाए। इस्लाम में ऐसा करने को ‘सदका’ कहते हैं। विमान की उड़ान के ठीक पहले ये सदका दिया गया। खास बात यह रही कि यह सारा तमाशा पाकिस्तानी एयरलाइंस और हवाई अड्डे के अधिकारियों की मौजूदगी में किया गया। सदके का बकरा भी खास तौर पर पैसे देकर मंगाया गया था।

अभी और भी बकरे काटे जाएंगे

पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस के पास कुल 10 एटीआर विमान हैं। बताया जा रहा है कि ये विमान जब भी उड़ेंगे इनके लिए ऐसे ही एक काला बकरा कुर्बान होगा, ताकि विमान के साथ कोई हादसा न हो। बताया जा रहा है कि इस कुर्बानी के लिए एयरलाइंस के अधिकारियों ने बाकायदा एक मौलवी से सलाह भी ली थी। इस मौलवी ने ही कहा था कि एटीआर विमानों को किसी की बुरी नज़र लग गई है, जिसे हटाने के लिए हर जहाज के आगे बकरे की कुर्बानी देनी जरूरी है। हैरानी इस बात की है कि पढ़े-लिखे अधिकारी भी इसके लिए तैयार हो गए।कई लोग रनवे पर इस तरह से काला बकरा लाने और उसे काटने के लिए चाकू लाने को लेकर सवाल भी खड़े कर रहे हैं।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Tags

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!