बहुत जल्द जेल जाने वाले हैं कई बैंक मैनेजर!

अगले कुछ दिनों में देश भर में कई बैंकों के मैनेजर और कर्मचारी गिरफ्तार किए जा सकते हैं। इनमें बड़े अधिकारियों से लेकर निचले स्तर के कर्मचारी भी शामिल हैं। इन सभी पर नोटबंदी के दौरान कमीशन लेकर काले धन को सफेद करने में मदद का आरोप है। इनकम टैक्स विभाग के सूत्रों के मुताबिक 8 नवंबर को नोटबंदी का एलान होने के बाद शक के आधार पर कुछ बैंक शाखाओं में अधिकारियों और कर्मचारियों की गतिविधियों पर नज़र रखी जा रही थी। इनमें कई मामले सही पाए गए हैं। इसके अलावा खातों में अचानक पैसा जमा होने के मामलों में भी बैंक मैनेजर की भूमिका शक के दायरे में है। हालांकि पाया गया है कि ज्यादातर बैंक मैनेजरों और कर्मचारियों ने पूरी मेहनत और ईमानदारी के साथ काम किया, लेकिन कुछ लोगों की वजह से आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

लोग कतार में थे, ये कमीशन खा रहे थे!

धांधली के ज्यादातर मामलों में कुछ दिन ठहरकर कार्रवाई होगी। इन सभी की पूरी जांच की जा रही है और देखा जा रहा है कि किसी को फायदा पहुंचाने के पीछे क्या कारण था। हालांकि ज्यादातर मामले पहली नजर में कमीशन खाकर ब्लैकमनी को सफेद करने के हैं। अकेले महाराष्ट्र के पुणे आयकर हेडक्वार्टर में दो हजार खाते जांच के दायरे में हैं। ये वो खाते हैं जिनमें एक करोड़ रुपये से अधिक रकम 8 नवंबर के बाद जमा की गई। इनमें भी 80 एकाउंट ऐसे हैं जिनमें जमा रकम बहुत ज्यादा है। कुल मिलाकर यह मामला 20 से 30 अरब के बीच बैठता है। जाहिर है ये सारे पैसे बैंक मैनेजर या बड़े अफसरों की मिलीभगत के बिना जमा कराना नामुमकिन है।

जानकारी देने के लिए टोल-फ्री नंबर जारी

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने एक टोल-फ्री नंबर जारी करके आम लोगों और बैंकों के कर्मचारियों से अपील की है कि वो इस तरह की संदिग्ध लेनदेन के बारे में जानकारी दें। जानकारी देने वालों की पहचान पूरी तरह से गुप्त रखी जाएगी। ऐसा इसलिए क्योंकि कई आम लोग काले धन के कुबेरों के बारे में जानकारी देने के लिए आयकर अधिकारियों से संपर्क कर रहे थे। इसी तरह माना जा रहा है कि अगर किसी बैंक के मैनेजर ने धांधली की है तो वहां के कर्मचारी जरूर कुछ न कुछ इनपुट्स दे सकते हैं।

कई आम लोगों ने भी शिकायतें दर्ज कराईं

नोट बदली के दौरान देश भर में कई जगहों पर लोगों ने बैंक के मैनेजर या किसी कर्मचारी के खिलाफ शिकायतें दर्ज कराई हैं। इसके अलावा कई न्यूज चैनलों ने ऐसे स्टिंग ऑपरेशन किए हैं, जिनमें किसी बैंक मैनेजर को ब्लैकमनी को सफेद करने का जुगाड़ बताते दिखाया गया है। इन सभी मामलों की पूरी पड़ताल की जाएगी। जिसके बाद दोषी बैंक मैनेजर के खिलाफ आगे की कार्रवाई की सिफारिश होगी। दिल्ली में 3.5 करोड़ की नई करंसी की बरामदगी के मामले में भी एक्सिस बैंक की कश्मीरी गेट ब्रांच के दो मैनेजरों का हाथ पाया गया था। देश भर में ऐसे तमाम मामले अब विचाराधीन हैं और जल्द ही इन पर एक्शन शुरू हो जाएगा। इस मामले में दोनों मैनेजरों ने पुरानी करंसी बदलकर नई गड्डियां देने के बदले कमीशन के तौर पर सोना लिया था।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , , , ,