अरविंद केजरीवाल ऐसे क्यों हैं? ये कहती है कुंडली

rk-sahuआज मैं केजरीवाल की कुंडली की विवेचना कर रहा हूं। इनकी कुंडली 16.8.1968 रात के 23.46 हिसार डिस्ट्रिक्ट की है। वृषभ लग्न में ही चंद्रमा बैठा है ,राशि भी इनकी वृषभ है, जन्म एवं चंद्र लग्न से जिसका योगकारक स्वामी शनि द्वादश स्थान में नीच का बैठा हुआ है जोकि वर्गोत्तम नीच का है, मंगल भी तीसरे भाव में इसका नीच का है, जो की अस्त भी है, चतुर्थ भाव में सूर्य बुद्ध शुक्र का एक राजयोग बना हुआ है, गजकेसरी योग भी है, लेकिन वाणी का कारक बुध भी अस्त है। साथ ही अष्टमेश ब्रहस्पति भी इसी भाव में है, जो कि राजयोग भंग भी कर रहा है। सारे गृह कालसर्प योग की परिधि में घिरे हुए हैं।

नीच और मौकापरस्त इंसान के योग

योग कारक शनि के नीच का होने से वो खुद भी वाक़ई एक नीच इंसान हैं। तृतीय पराक्रम भाव में नीच का व अस्त मंगल होने से ये मौकापरस्त इंसान बन गए हैं। वो बहुत डरपोक इंसान हैं, असुरक्षा की भावना से हमेशा ही घिरे रहते हैं। साथ ही जब इसकी जेब खाली होगी तो ये हरेक की आवभगत, खुशामद और चमचागिरी करेंगे। पर जैसे ही इनकी जेब भरेगी ये उन्ही का तिरस्कार करने लगेंगे, जिनकी वजह से इन्होंने पद पाया है। फिर वाणी का कारक बुध जोकि अस्त है, इसलिए जब भी बोलेंगे दुष्टवाणी बोलेंगे।

दोबारा सत्ता में दोबारा वापसी नहीं

केजरीवाल के चतुर्थ सुख भाव में जो इनका राजयोग साथ ही गजकेसरी योग है वो फलित हो गया है। इसी वजह से ये दो बार दिल्ली का मुख्यमंत्री भी बन गए। परन्तु अष्टमेश ब्रहस्पति के साथ होने से राजयोग अब इसका भंग है। ये इंसान किसी का भला नहीं कर सकता, फिर सारे गृह कालसर्प योग की परिधि में घिरे हुए हैं, जो कि बहुत ही अनिष्टकारी दोष है। ये फिर दोबारा किसी राजसत्ता में नहीं आएगा। काठ की हांड़ी बार-बार नहीं चढ़ती। आखिर में यह व्यक्ति बहुत ही स्वार्थी है, समाज और राष्ट्र के लिए घातक ही सिद्ध होगा। ज्योतिषगण अपना सुझाव दे सकते हैं, कुंडली की विवेचना में यदि कुछ गलत लगा हो तो निसंकोच तर्क के साथ बताएं।

(लेखक आरके साहू जाने-माने ज्योतिषाचार्य हैं, यह पोस्ट उनके फेसबुक पेज से साभार ली गई है)

comments

Tags: ,